Chunky Panday Name: 90 के दशक के मशहूर एक्टर चंकी पांडे ने साल 1987 में फ़िल्म ‘आग ही आग’ से बॉलीवुड में डेब्यू किया था. वो अब तक कई सुपरहिट फ़िल्में दे चुके हैं. इनमें ‘तेज़ाब’, ‘आंखें’, ‘ख़तरों के खिलाड़ी’, ‘हाउसफ़ुल’, ‘बेग़मजान’, ‘साहो’, जैसी फ़िल्मों के नाम शामिल हैं. चंकी का करियर ग्राफ़ भले ही उतार-चढ़ावभरा रहा हो. मगर वो फ़िल्मों से हटकर अपनी पर्सनल लाइफ़ के लिए ख़ूब चर्चा में रहे हैं. वो चंकी की कंजूसी हो या एक्स्ट्रा मैरिटल अफ़ेयर्स सभी ने चंकी को ख़ूब चर्चा दिलाई है. अब चंकी के नाम को लेकर भी काफ़ी ख़बरें आ रही हैं जिसका ख़ुलासा ख़ुद चंकी ने एक शो के दौरान किया है.

Khaane Mein Koun Hai नाम के शो में चंकी पांडे ने गेस्ट के तौर पर शिरकत की थी. इसी दौरान. बातचीत के सिलसिले के बीच में उनसे एक सवाल पूछा गया कि उनका आधार कार्ड पर क्या नाम है? चंकी ने मज़ाक करते हैं हुए कहा, ‘चंद्र आत्मा’ जिसे सुनकर होस्ट कुणाल विजयकर (Kunal Vijaykar) चौंक गए तो चंकी ने अपने अंदाज़ में कहा, I Am Joking! फिर चंकी ने बताया कि, उनका असली नाम सुयश पांडे है और मेरे सारे स्कूल के दोस्त मुझे इसी नाम से जानते हैं.

Chunky panday

ये भी पढ़ें: तेज़ाब का ‘बब्बन’ हो या आंखें का ‘मुन्नू’, चंकी पांडे के ये 10 किरदार उनकी एक्टिंग की पहचान हैं

चलिए फिर जानते हैं कि आख़िर सुयश पांडे से चंकी पांडे (Chunky Panday Name) ये कैसे बने?

चंकी ने चंकी बनने के पीछे की वजह बताते हुए कहा कि,

चंकी मेरा नाम, जब मैं नौ महीने का था तब मेरा नाम ‘चंकी’ रखा गया तब मैं थोड़ा ‘गोलू’ था. और मेरी एक दाईमां थीं जो मुझे संभालती थीं, हीरा करके. उसने मेरा चंकी रख दिया तो मैं सोचता हूं तब से ये नाम मेरे साथ जुड़ गया. जब मुझे फ़िल्म की ब्रेक मिली तो पहलाज निहलानी ने मुझे 1987 में पहली फ़िल्म दी. उन्होंने गोविंदा को ब्रेक दिया था फिर मुझे ब्रेक दिया पर उनको मेरा नाम समझ नहीं आया.

इस पर कुणाल ने कहा, सुयश तो चंकी ने कहा, नहीं नहीं सुयश तो उनको पता ही नहीं था चंकी उन्हें नहीं पसंद आया इसलिए वो चाहते थे कि मेरा नाम ऐसा हो कि जो लोगों को समझ आए. चल तेरा नाम बदलते हैं. गोविंदा जैसे कुछ रखते हैं चंद्रमुखी या चंद्र आत्मा कुछ ऐसे. चंकी ने कहा,

मैं ये सुनते ही रोने लगा मैंने कहा, ‘ठीक है, आप मुझे ब्रेक दे रहे हो आप मुझे कुछ भी बुला लो चंकी नहीं तो मंकी, बंदर कुछ भी बुला लो मेरा नाम यही रहने दो. फिर उन्होंने अपने बच्चों से पूछा और उन्हें चंकी पसंद आ गया.

Chunky panday

ये भी पढ़ें: क़िस्सा: क्या हुआ था जब शोक सभा में शामिल होने के लिए चंकी पांडे को मिला था 5 लाख रुपये का ऑफ़र

आपको बता दें, भले ही 80 के दशक में चंकी का क़िस्सा न चला हो लेकिन अब उनकी एक्टिंग को काफ़ी सराहा जा रहा है. हाल ही में उन्हें Disney + Hotstar की वेबसीरीज़ ‘पॉप कौन?‘ में देखा गया था?