दारा सिंह वो नाम है जिसे हिंदी सिने जगत और रेसलिंग की दुनिया में बड़े ही अदब से लिया जाता है. रुस्तम-ए-हिंद उर्फ़ दारा सिंह ने हिंदी फ़िल्मों में शर्टलेस होने का ट्रेंड शुरू किया था. उनका असली नाम दारा सिंह रंधावा था. हिंदी सिने जगत में उन्होंने काफ़ी मान-सम्मान कमाया. एक दौर ऐसा भी था जब लोग उन्हें भगवान मानकर उनकी पूजा भी करने लगे थे.

चलिए आज दारा सिंह की लाइफ़ से जुड़े इस क़िस्से के बारे में भी आपको बता देते हैं.

Source: santabanta

ये क़िस्सा रामायण सीरियिल से जुड़ा है. बात उन दिनों की है जब रामानंद सागर को इस सीरियल के लिए एक्टर्स की तलाश थी. राम के किरदार के लिए वो अरुण गोविल को फ़ाइनल कर चुके थे. लेकिन राम भक्त हनुमान के लिए उन्हें एक गठीले कद वाले एक्टर की तलाश थी. उनकी ये तलाश दारा सिंह पर जाकर ख़त्म हुई, जो पहलवानी के साथ ही फ़िल्मों में अपना जलवा दिखा चुके थे.

Dara Singh

रामायण सीरियल में उन्होंने हनुमान का रोल ऐसे निभाया कि लोग उन्हें राम भक्त हनुमान ही समझने लगे. वो इस शो के बाद इतने फ़ेमस हो गए थे कि लोग मंदिरों में हनुमान की मूर्ती और तस्वीरों के स्थान पर उनके ही पोस्टर और मूर्तियां लगाने लगे थे.

Dara Singh
Source: imdb

हैरानी की बात ये है कि जब उन्होंने ये रोल किया था तब वो 60 साल के थे. मगर कसी हुई कद काठी के कारण उन्हें देखकर कोई दारा सिंह की उम्र का अंदाज़ा भी नहीं लगा पाता था.

Dara Singh
Source: rottentomatoes

दारा सिंह ने अपने करियर में क़रीब 150 फ़िल्मों में काम किया था. हिंदी फ़िल्म इंडस्ट्री में उन्हें काम पहलवानी की वजह से ही मिला था. रेसलिंग की दुनिया में उनका नाम बड़े ही अदब के साथ लिया जाता है. रुस्तम-ए-हिंद का ख़िताब जीतने वाले दारा सिंह ने अपने पहलवानी के करियर में एक भी मुकाबला नहीं हारा था. उन्होंने लगभग 500 मैच खेले थे.

Dara Singh
Source: alchetron

2003-2009 तक सांसद भी रहे थे दारा सिंह. 12 जुलाई 2012 को दुनिया छोड़कर चले गए. लेकिन आज भी कुश्ती के खेल में उनके पैंतरें इस्तेमाल किए जाते हैं और सिने जगत में उनकी एक्टिंग की मिसाल दी जाती है.

Entertainment के और आर्टिकल पढ़ने के लिये ScoopWhoop Hindi पर क्लिक करें.