महाभारत, रामायण से लेकर पंचतंत्र, अकबर बीरबल तक हमने इतिहास के बेहद महत्वपूर्ण कहानियों को एनिमेशन के रूप में देखा है.

आज भी याद है अमरीश पुरी के वॉयसओवर वाली एनिमेटेड रामायण जो 90 के दशक में आई थी.  

Source: Change.org

कार्टून देखकर बच्चे ख़ुश हो जाते हैं और कई बड़ों को ये बचकाने लगते हैं, पर असल में कार्टून देखना या गेम्स खेलना स्ट्रेस कम करता है.

कृष्ण के जीवन पर आधारित ही एक कार्टून है Roll No. 21.  

Source: Wallpaper Safari

कंस द्वारा कृष्ण को मारने के लिए राक्षसों को भेजे जाने वाली कहानियां और कृष्ण की लीलाएं आपने सुनी ही होंगी, बस उसी में मॉर्डनिज़्म का तड़का लगाकर ये कार्टून बना दिया गया. 

इस कार्टून में Roll No. 21 है कृष का यानि कृष्ण का और स्कूल/मथुरा अनाथ आश्रम के प्रिंसिपल का नाम है कनिष्क यानि कंस. कंस धरती पर लौटा है एक खड़ूस प्रिंसिपल के रूप में और कृष्ण एक छात्र के रूप में. 

Source: Jungle Key

कृष का एक बेस्ट फ़्रेंड भी है, बबलू यानि की सुदामा. कृष की एक और दोस्त है पिंकी, जिसे राधा समझ सकते हैं.

प्रिंसिपल कनिष्क पाताल लोक से अलग-अलग राक्षस बुलाते हैं और कृष सबको हरा देता है और हर बार अपने दोस्तों को बचाता है. 
कनिष्क जिन राक्षसों को बुलाता है वो अक्सर टीचर के रूप में ही आते हैं. स्कूल में एक और टीचर है बासु, जो बाक़ी की तरह राक्षस नहीं, बल्कि एक इंसान है.  

Source: TBI Vision
Source: Daily Motion

हम एक से एक Anime, Animated फ़िल्में देखते हैं पर Roll No. 21 एक ऐसा कार्टून है जिसे सभी को देखना चाहिए. मतलब सोचिए बच्चों के लिए बनाए इस शो में कितनी सही प्लैनिंग की गई है. कृष्ण की कहानियां भी कह दी गईं और बच्चों का मनोरंजन भी कर दिया गया. 

गेम्स के शौक़ीनों के लिए भी सौगात है. Cartoon Network India की वेबसाइट पर इस कार्टून पर आधारित गेम्स भी हैं. 

Roll No. 21 का अपना YouTube Channel भी है. तो देर किस बात की, ढूंढिए और मज़े करिए.