बॉलीवुड फ़िल्मों में ऐसा बहुत कुछ होता है, जिनके चलते वो यादगार बन जाती हैं. गाने, डॉयलाग्स, स्टार्स या फिर कोई एक्शन सीन. मगर कभी-कभी इन सबसे इतर कोई ऐसी चीज़ लोगों के ज़ेहन में बैठ जाती है, जिसकी कल्पना फ़िल्म के डायरेक्टर ने भी नहीं की होती है. ये वो चीज़ें होती है, जो बस किसी सीन में इस्तेमाल भर होती हैं, मगर मूवी रिलीज़ के बाद हर तरफ़ इनकी ही चर्चा होने लगती है. 

ऐसे में आज हम आपको बताने जा रहे हैं बॉलीवुड फ़िल्मों में इस्तेमाल हुईं उन चीज़ों के बारे में जो फ़िल्म से भी ज़्यादा पॉपुलर हो गईं.

1. Cool चेन

Cool
Source: Pinterest

कॉलेज का स्टाइलिश मुंडा दिखने के लिए शाहरुख़ ख़ान ने गले में Cool लिखी चेन पहनी थी. फ़िल्म रिलीज़ के बाद ये लॉकेट धकापेल बिकने लगा था. महाचोमू लौंडे भी इसे गले में लटका कर ख़ुद को 'कुछ कुछ होता है' का राहुल समझने लगे थे. आज भी इसकी तड़प इतनी है कि लोग ट्विटर पर पूछते घूम रहे कि भइया बता दो कहां मिल जाएगा ये.

ये भी पढ़ें: देर आए, दुरुस्त आए! वो 10 Bollywood Actors, जिन्हें 35 की उम्र के बाद मिली असली पहचान

2. हैंडपंप

handpump
Source: makeagif

गदर फ़िल्म का ज़िक्र आते ही दिमाग़ में भन्न से हैंडपंप आ जाता है. जितनी गदर सनी देओल ने फ़िल्म में नहीं मचाई थी, उससे ज़्यादा गदर इस हैंडपंप ने फ़िल्म रिलीज़ के बाद मचाई थी.

3. 50 तोले की चेन

sanjay dutt
Source: tenor

'50 तोला... 50 तोला...कितना? 50 तोला.' वास्तव फ़िल्म में सजय दत्त ने अपने गले में पड़ी सोने की चेन दिखाई थी. फ़िल्म रिलीज़ के बाद फ़ुटपाथों पर इतनी नकली 50 तोले की चेन बिकी हैं कि अगर उनको चाट लो, तो ज़ुबान सुनहरी हो जाए.

4. मुसाफिर का चाकू

Knife
Source: amazon

'तेज़ धार'... मुसाफिर फ़िल्म में संजय दत्त बटरफ़्लाई चाकू से खेलते नज़र आते हैं. ये चाकू इतना पॉपुलर हुआ था कि लड़के इसे हर जगह तलाशने लगे थे. कुछ अपन जैसे भी इस चाकू के टुटपुंजिये आशिक़ थे, जो नेल कटर पकड़कर संजू बाबा हो लिया करते थे.

5. मजनू भाई का चश्मा

anil kapoor
Source: gifer

मजनू भाई ने फ़िल्म वेलकम में बताया था कि ख़ूबसूरती देखने के लिए आंखें नहींं, चश्मा फाड़ना चाहिए. इस सीन के बाद न जाने कितने इस तरह के चश्मे लोगों ने खरीद डाले. यहां तक कि लोग इस तरह के पावर वाले चश्मे भी बनवाने लगे.

6. हेरा-फेरी का टेलीफ़ोन

hera pheri
Source: twitter

'अरे कौन देवी प्रसाद.. ' फ़िल्म हेरा-फ़ेरी का टेलीफ़ोन कौन भूल सकता है यार. यही फ़ोन तो पूरी फ़िल्म की कहानी गढ़ता है. 

7. मजनू भाई की पेंटिंग

painting
Source: googleusercontent

फ़िल्म वेलकम में ही अपने मजनू भाई पेंटर बने थे. और क्या पेंटिंग करते थे. उनकी बनाई पेंटिंग आज भी सोशल मीडिया पर मीमबाज़ों की फ़ेवरेट बनी हुई है.

8. गोलमाल की बाइक

Bike

गोलमाल में इस्तेमाल हुई लॉन्ग बाइक देखकर सभी झटका खा गए थे. शायद ही ऐसा कोई होगा, जिसका इस बाइक को चलाने का मन न हुआ हो.

तो, इनमें से आपकी पसंदीदा चीज़ कौन सी है?