Mafia Queens: हाल ही में संजय लीला भंसाली की फ़िल्म गंगूबाई काठियावाड़ी रिलीज़ हुई है. फ़िल्म में गंगूबाई की कहानी लोगों को ख़ूब पसंद आ रही है, जो उनके साथ हुआ था उस पर लोगों की संवदेनाएं भी उनके साथ हैं. कमाठीपुरा की रहने वाली गंगूबाई एक अच्छे खानदान से थीं, लेकिन एक धोखेबाज़ शख़्स ने चंद पैसों के लिए उनकी ज़िंदगी बर्बाद कर दी. मगर गंगा से गंगूबाई बनी ये माफ़िया क्वीन वेश्यावृत्ति में लिप्त महिलाओं की ज़िंदगी का सहारा बनी. गंगूबाई का ज़िक्र क्राइम जर्नलिस्ट हुसैन ज़ैदी ने अपनी बुक Mafia Queens of Mumbai में किया है. गंगूबाई के अलावा और भी कई माफ़िया क्वीन हैं, जिनका ज़िक्र ज़ैदी की बुक में मिलता है.

Gangubai Kathiawadi

गंगूबाई के अलावा भी कई माफ़िया क्वींस (Mafia Queens) रहीं हैं उनके बारे में ही आज बताएंगे.

ये भी पढ़ें: गंगूबाई काठियावाड़ी: जो अभिनेत्री बनने का सपना लेकर पहुंची थी मुंबई, पर बनी माफ़िया क्वीन 

Mafia Queens

1. जेनाबाई दारूवाली (Jenabai Daruwali)

ज़ैदी की बुक के अनुसार, ज़ैनब दरवेश गांधी उर्फ़ जेनाबाई दारूवाली मुंबई अंडरवर्ल्ड की पहली माफ़िया क्वीन (Mafia Queens) थी. बंटवारे के दौरान, उसने मुंबई छोड़ने से इनकार कर दिया और अपने पांच बच्चों के साथ यहीं रह गई, जबकि उसका पति पाकिस्तान चला गया. शुरुआत में, उसने परिवार को खिलाने के लिए चावल बेचना शुरू किया, जो जल्द ही राशन की तस्करी में बदल गया. बाद में, जेनाबाई अवैध शराब बनाने और बेचने लगी जिसके चलते वो 'दारूवाली' नाम से जानी जाने लगी. करीम लाला, हाजी मस्तान और दाऊद जैसे गैंगस्टर उनसे सलाह लिया करते थे.

Jenabai Daruwali)
Source: jansatta

2. तर्रनुम ख़ान (Tarannum Khan)

दीपा बार में काम करने वाली तरन्नुम ख़ान ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट टूर्नामेंटों (International Cricket Tournaments) में सट्टेबाज़ी कर लाखों रुपये कमाए. हुसैन ज़ैदी की बुक के अनुसार, तर्रनुम ख़ान के क्लाइंट्स की लिस्ट में बॉलीवुड से लेकर इंटरनेशनल क्रिकेट प्लेयर्स शामिल थे. हालांकि, तर्रनुम ने DNA को दिए एक इंटरव्यू में बताया था, कि 'मैं अंडरवर्ल्ड से किसी को नहीं जानती और न ही मैं अवैध गतिविधियों में शामिल हूं.' 

Tarannum Khan
Source: storypick

3. अर्चना बालमुकुंद शर्मा (Archana Balmukund Sharma)

अर्चना शर्मा ने बबलू श्रीवास्तव के गिरोह की सदस्य थी, जो कथित तौर पर विभिन्न शहरों में बिल्डरों की किडनैपिंग और जबरन वसूली के कई मामलों में शामिल थी. अर्चना शर्मा की ज़्यादा जानकारी तो नहीं है, लेकिन कहा जाता है कि वो विदेश से अपने गैंग को ऑपरेट करती है.
 
ये भी पढ़ें: ये हैं दुनिया के 10 सबसे ख़तरनाक माफ़िया गैंग, अपनी हैवानियत के लिए हैं कुख़्यात

Archana Balmukund Sharma
Source: newstrack

4. रुबीना सिराज सय्यैद (Rubina Siraj Sayyed)

'हीरोइन' के नाम से मशहूर रुबीना कुख्यात गैंगस्टर छोटा शकील की गर्लफ़्रेंड थी. छोटा शकील के ग्रुप में मिल होने के बाद वो वित्तीय मामलों और हथियारों की आपूर्ति को संभालती थी. इस ग्रुप में शामिल होने से पहले वो एक ब्यूटीशियन थीं. 

Rubina Siraj Sayyed
Source: orissapost

5. नीता नाईक (Neeta Naik)

कुख्यात गैंगस्टर अमर नाईक पर हमला होने के बाद उसके भाई अश्विन नाईक ने अपनी पत्नी नीता नाईक को अंडरवर्ल्ड में शामिल कर लिया. यहां तक कि उसने अश्विन के विदेश जाने पर उसके यहां के कई मुद्दों को भी संभाला. इसके बाद, पति-पत्नी में लड़ाई होने के चलते 2000 में अश्विन ने अपने गुर्गे से नीता को मरवा दिया.

Neeta Naik
Source: blogspot

6. ज्योति आदिरामलिंगम (Jyoti Adiramlingam)

पापामणि की विश्वासपात्र ज्योति आदिरामलिंगम उर्फ़ ​​ज्योति अम्मा ने सेंट्रल मुंबई के रे-रोड (Reay Road) में नशीले पदार्थों की तस्करी का नेटवर्क संभाला. नशीले पदार्थों की तस्करी करने वाली तिकड़ी सावित्री, ज्योति और पापमणि थीं. 

Jyoti Adiramlingam
Source: scoopwhoop

7. आशा गावली (Asha Gawli)

मुंबई के गलियों में 'डैडी' के नाम से प्रसिद्ध अरुण गावली की पत्नी है आशा गावली. आशा ने कई बार अपने पत्नी को पुलिस मशीनरी और फ़र्ज़ी मुठभेड़ों से बचाया है. 2017 में आशिम अहलूवालिया के निर्देशन में बनी फ़िल्म डैडी में अर्जुन रामपाल ने मुख्य भूमिका निभाई थी.

Asha Gawli
Source: mumbailive

8. महालक्ष्मी पापामणि (Mahalaxmi Papamani)

महालक्ष्मी पापमणि मुंबई में सबसे धनी ड्रग माफ़िया क्वींस में से एक थीं और 90 के दशक के अंत तक सेंट्रल मुंबई में ड्रग व्यापार पर पूरी तरह से अपना कब्ज़ा जमा लिया था. खाने की ज़रूरत के चलते महालक्ष्मी इस माफ़िया बिज़नेस में शामिल हुई थी, लेकिन जल्द ही वो असकी क्वीन बन गई.

Mahalaxmi Papamani
Source: blogspot

9. शमीन मिर्ज़ा बेग (Shameen Mirza Beg)

शमीन मिर्ज़ा बेग उर्फ़ ​​मिसेज़ पॉल, छोटा शकील के ख़ास आदमी आरिफ़ बेग की पत्नी थी. जब आरिफ़ को पुलिस ने गिरफ़्तार कर लिया तो वो गैंग में शामिल हो गई. शमीन को 2002 में महाराष्ट्र संगठित अपराध नियंत्रण अधिनियम (Maharashtra Control of Organised Crime Act) के तहत गिरफ़्तार कर लिया गया.

Shameen Mirza Beg
Source: fit-21

10. अशरफ़ ख़ान (Ashraf Khan)

अशरफ़ ख़ान पुलिस मुठभेड़ में अपने पति (महमूद कालिया) की मौत का बदला लेने के लिए अंडरवर्ल्ड में शामिल हुई थी, जिसे दाऊद ने धोखा करने की वजह से मार डाला था, वो चाहता था कि दूसरों के इससे सबक मिले. दाऊद को मारने के लिए अशरफ़ ख़ान ने ट्रेनिंग ली और अपना नाम अशरफ़ से सपना दीदी रख कर दाऊद के गैंग में शामिल हो गईं. सपना दीदी की कहानी सुनकर अमिताभ बच्चन के फ़िल्म डॉन की याद आ गई.

Ashraf Khan
Source: starsunfolded

गंगूबाई ने वेश्यावृत्ति और वेश्याओं के हक़ के लिए लड़ाई लड़ी थी, उन्हें उनकी छत दिलाने का कड़ा संघर्ष किया था.