Grammy Awards 2022: म्यूज़िक का सबसे बड़ा और ख़ास अवॉर्ड होता है ग्रैमी अवॉर्ड. इसमें दुनियाभर के म्यूज़िशियन हिस्सा लेते हैं और इसे जीतने की पूरी कोशिश करते हैं. हाल ही में, लास वेगास (Las Vegas) में 64वां ग्रैमी अवॉर्ड्स का आयोजन हुआ, जिसमें दुनियाभर के बड़े म्यूज़िशियन के साथ-साथ भारत और पाकिस्तान के म्यूज़िशियन भी शामिल थे. कई बड़े-बड़े म्यूज़िशियन के साथ-साथ भारत के मशहूर म्यूज़िक कंपोज़र रिकी केज, भारतीय-अमेरिकी गायिका फाल्गुनी शाह और पाकिस्तानी गायिका अरूज आफ़ताब ने भी 64वां ग्रैमी अवॉर्ड (Grammy Awards 2022) जीता है.

Grammy Awards 2022
Source: djmag

ये भी पढ़ें: TIME 100 Impact Awards: पीएम मोदी समेत इन 10 भारतीयों को मिल चुका है ये अवॉर्ड

Grammy Awards 2022

जानना चाहते हैं भारत और पाकिस्तान को ये सम्मान दिलाने वाले रिकी केज, फालू शाह और अरूज आफ़ताब कौन हैं और इन्हें कौन सी कैटेगरी में ग्रैमी अवॉर्ड (Grammy Awards 2022) मिला है.

1. फालू शाह (Falu Shah)

मंबई में जन्मीं भारतीय मूल की अमेरिकी सिंगर और गीतकार फालू शाह का पूरा नाम फाल्गुनी शाह है. फालू को 64वां ग्रैमी अवॉर्ड बेस्ट चिल्ड्रेंस म्यूज़िक एल्बम कैटगरी में उनके म्यूज़िक एल्बम 'ए कलरफ़ुल वर्ल्ड' के लिए मिला है. फालू का ये पहला ग्रैमी अवॉर्ड है. इस अवॉर्ड शो के दौरान, फालू ने अपनी ज़बरदस्त परफ़ॉर्मेंस भी दी थी. मुंबई से अपनी करियर की शुरुआत करने वाली फालू ने जयपुर घराने से संगीत सीखा है. सीखने के दौरान फालू दिन में 16 घंटे तक गाती थीं. फालू ने बाद में सारंगी और वोकल मास्टर उस्ताद सुल्तान ख़ान से संगीत का अध्ययन जारी रखा. 

आपको बता दें, फालू के संगीत में भारतीय क्लासिकल म्यूज़िक और वेस्टर्न म्यूज़िक दोनों की झलक देखने को मिलती है. यू.एस. में उनका करियर काफ़ी ऊंचाइयों पर है, वो अब तक ए.आर. रहमान (स्लमडॉग मिलियनेयर), Yo-Yo Ma (द सिल्क रोड प्रोजेक्ट में), Philip Glass, Wyclef Jean, उनके शिक्षक उस्ताद सुल्तान ख़ानBlues Traveler, Ricky Martin और Bernie Worrell (Parliament Funkadelic) के साथ काम कर चुकी हैं.

2. रिकी केज (Ricky Kej)

इंडियन म्यूज़िक कम्पोज़र रिकी केज (Ricky Kej) को उनका दूसरा ग्रैमी अवॉर्ड 'बेस्ट न्यू एज एल्बम' (Best New Age Album) की कैटगरी में 'Devine Tides' के लिए मिला है. इस अवॉर्ड को उन्होंने अमेरिकन संगीतकार और कंपोज़र स्टीवर्ट कोपलैंड (Stewart Copeland) के साथ जीता है, जिसकी जानकारी रिकी ने अपेन ट्वटिर हैंडल से दी है. इससे पहले, बेंगलुरु के रहने वाले रिकी केज ने साल 2015 में 'विंड्स ऑफ़ समसरा' (Winds of Samsara) एलबम के लिए अपना पहला ग्रैमी जीता था. 

आपको बता दें, भारतीय म्यूज़िक कंपोज़र रिकी केज संयुक्त राष्ट्र (UN) हेडक्वॉर्टर सहित दुनियाभर के 20 से ज़्यादा देशों में परफ़ॉर्म कर चुके हैं और कुल 100 अवॉर्ड्स जीते हैं. इसके अलावा, रिकी के कामके आधार पर उन्हें यूनाइटेड नेशंस ग्लोबल ह्यूमैनिटेरियन आर्टिस्ट और यूथ आइकॉन ऑफ़ इंडिया भी बनाया गया है.

ये भी पढ़ें: Cosmopolitan Blogger Awards 2022: इस लिस्ट में देखिए किन-किन इन्फ्लुएंसर्स ने मारी बाज़ी

3. अरूज आफ़ताब (Arooj Aftab)

पाकिस्तानी सिंगर अरूज आफ़ताब (Arooj Aftab) पाकिस्तान की पहली फ़ीमेल सिंगर हैं, जिन्हें ग्रैमी में नॉमिनेशन मिला है और उसे अरूज ने जीता भी है. अरूज को उनका पहला ग्रैमी अवॉर्ड उनके गाने 'मोहब्बत' के लिए बेस्ट ग्लोबल म्यूज़िक परफ़ॉर्मेंस की कैटेगरी में मिला है. इसके अलावा, अरूज को बेस्ट न्यू आर्टिस्ट की कैटेगरी में भी नॉमिनेशन मिला था. 

आपको बात दें, अरूज आफ़ताब का जन्म सऊदी अरब में हुआ था, लेकिन बाद में वो अपने पेरेंट्स के साथ लाहौर आ गईं और 18 साल की उम्र में एक कवर आर्टिस्ट के तौर पर अपना सिंगिंग करियर शुरू किया. इस दौरान उनके दो गाने 'हलिलोया' (Hallelujah) और आमिर ज़की का 'मेरा प्यार' इंटरनेट पर ऐसा वायरल हुआ कि अरूज का सिंगिंग करियर चल पड़ा. इसके बाद, अरूज ने अमेरिका के बर्कले कॉलेज से म्यूज़िक प्रोडक्शन और इंजीनियरिंग की पढ़ाई की और वो न्यूयॉर्क आ गईं. अरूज आफ़ताब ने 'सूफ़ी संगीत की मल्लिका' आबिदा परवीन से प्रभावित होकर गाना शुरू किया था. इसलिए इन्होंने अपने संगीत को न्यू सूफ़ी सेमी-पाकिस्तानी क्लासिकल नाम दिया है. इसके अलावा, पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति बराक़ ओबामा अरूज के फ़ैन हैं. 

संगीतकारों के लिए ये अवॉर्ड बहुत ही ख़ास और सम्मानित होता है. भारत के इन दो संगीतकारों ने इस अवॉर्ड को जीतकर इंटरनेशनल लेवल पर देश का नाम रौशन किया है.