बॉलीवुड ने आज इरफ़ान ख़ान के रूप में एक बेहतरीन कलाकार को खो दिया है. मंगलवार को पेट के संक्रमण के बाद उन्हें कोकिलाबेन अस्पताल में भर्ती कराया गया था. 54 साल के इरफ़ान का निधन आज सुबह हो गया. इरफ़ान साल 2018 से ही कैंसर से जूझ रहे थे.

Source: indiaglitz

इरफ़ान ख़ान उन कलाकारों में से एक थे जिनके स्क्रीन पर आते ही फ़िल्म ख़ास बन जाती थी. अपनी ज़बरदस्त एक्टिंग से वो किसी भी कमज़ोर फ़िल्म में जान डाल देते थे.

Source: newsable

ऐसा रहा फ़िल्मी करियर

इरफ़ान ने अपने फ़िल्मी करियर की शुरुआत साल 1990 में फ़िल्म 'दृष्टि' से की थी. इसके बाद उन्होंने कई अन्य फ़िल्मों में छोटे मोटे रोल निभाए टीवी सीरियल्स में भी काम किया. लेकिन बॉलीवुड की किसी बड़ी फ़िल्म में बड़ा किरदार निभाने का मौका नहीं मिला. फिर साल 2001 में इरफ़ान को ब्रिटिश फ़िल्म 'The Warrior' में काम करने का मौका मिला.

इसके बाद इरफ़ान को साल 2003 में बॉलीवुड फ़िल्म हासिल में एक दमदार किरदार निभाने को मिला. इस फ़िल्म के बाद वो रुके नहीं, साल 2004 में 'मक़बूल', 'द नेमसेक' (2006), 'लाइफ़ इन ए मेट्रो' (2007) और पान सिंह तोमर (2011) जैसी फ़िल्मों में दमदार एक्टिंग ने उन्हें इरफ़ान से 'द इरफ़ान खान' बना दिया.

इसके अलावा भी इरफ़ान ने 'हिंदी मीडियम', 'द लंच बॉक्स', 'पीकू', 'तलवार', 'साहेब बीवी और गैंगस्टर', 'ये साली ज़िंदगी', 'बिल्लू', 'हैदर' और 'जज़्ब जैसी फ़िल्मों में शानदार अभिनय किया.

इरफ़ान ने बॉलीवुड ही नहीं बल्कि कई हॉलीवुड फ़िल्मों में भी भी काम किया था. इनमें 'स्लमडॉग मिलियनेयर', 'द अमेजिंग स्पाइडर मैन', 'लाइफ ऑफ़ पाई' 'जुरासिक वर्ल्ड', 'इंफ़र्नो', 'द वॉरियर', 'ए माइटी हार्ट' और 'द सॉन्ग ऑफ़ स्कॉर्पियन' शामिल हैं.

Source: newsable

इरफ़ान खान को बेहतरीन अदाकारी के कारण इन फ़िल्मों के लिए मिले थे अवॉर्ड-

1- पान सिंह तोमर - बेस्ट एक्टर (नेशनल अवॉर्ड).


2- हिंदी मीडियम - बेस्ट एक्टर (IFFA अवॉर्ड).

3- लाइफ़ इन ए मेट्रो - बेस्ट एक्टर सपोर्टिंग रोल (IFFA अवॉर्ड).

4- डब्बा - बेस्ट एक्टर और उत्कृष्ट उपलब्धि पुरस्कार (एशिया-पैसिफ़िक फ़िल्म फ़ेस्टिवल).

5- द नेमसेक - स्पेशल अवॉर्ड.

6- इरफ़ान ख़ान को शर्मिला टैगोर के साथ हिंदी सिनेमा में उत्कृष्ट उपलब्धि के लिए स्पेशल अवॉर्ड भी दिया गया था.

7- इरफ़ान की हॉलीवुड फ़िल्म 'लाइफ ऑफ़ पाई' ऑस्कर में 10 पुरस्कारों के लिए नॉमिनेट हुई थी, जिसमें से इस फ़िल्म ने 4 अवॉर्ड जीते.

Source: newsable

ये इरफ़ान की बेहतरीन एक्टिंग का कमाल ही था कि उनके जाने को प्रधानमंत्री मोदी से लेकर राहुल गांधी तक, अमिताभ बच्चन से लेकर शाहरुख़ ख़ान तक ने इसे बॉलीवुड के लिए सबसे बड़ी क्षति बताया.

Source: newsable

इरफ़ान ख़ान ने 12 अप्रैल को अपना आख़िरी ट्वीट किया था. इस दौरान उन्होंने 'अंग्रेज़ी मीडियम' में अपने किरदार की एक तस्वीर शेयर करते हुए लिखा था, मिस्टर चंपक के मन की स्थिति: अंदर से बहुत ख़ुश है, जिससे ये सुनिश्चित हो जाता है कि ये बाहर भी वैसा ही है.

Source: theprint

इरफ़ान ख़ान साल 2018 से ही न्यूरो इंडोक्राइन ट्यूमर नामक बीमारी से जूझ रहे थे. दुर्लभ किस्म की ये बीमारी इंसान के शरीर के कई अंगों पर गंभीर असर डालती है. जबकि इरफ़ान को हुए संक्रमण कोलोन इंफ़ेक्शन का ताल्लुक पेट से है.