दिल्ली के डिप्टी कमिश्नर के पद पर तैनात IAS अभिषेक सिंह एक्टिंग डेब्यू करने जा रहे हैं. अभ‍िषेक जल्द ही Netflix की वेब सीरीज़ 'दिल्ली क्राइम 2' में नज़र आने वाले हैं. असल ज़िंदगी के सिंघम अब एक्टिंग की दुनिया में पंच लगाने को तैयार हैं.  

Source: theenvoyweb

बता दें की Netflix की इस वेब सीरीज़ के पहले भाग में 'निर्भया गैंगरेप' को दिखाया गया था. शेफ़ाली शाह की दमदार एक्टिंग से 'दिल्ली क्राइम' का पहला भाग काफ़ी हिट भी रहा था.  

Source: newsx

Aajtak से बातचीत में IAS अभिषेक सिंह ने अपने एक्टिंग डेब्यू को लेकर कहा कि, मैंने कभी सोचा भी नहीं था कि मैं कभी एक्टिंग करूंगा, लेकिन जब मौक़ा सामने आया तो मैंने सोचा कि आगे बढ़कर देखते हैं कैसा अनुभव रहता है. हर एक क्षेत्र में कुछ न कुछ सीखने को मिलता है. सोचा एक्टिंग में भी बहुत कुछ नया और रोमांचक सीखने को मिलेगा, इसलिए इस ओर क़दम बढ़ा दिए.  

Source: abplive

कैसे मिला इस वेब सीरीज़ का ऑफ़र? 

इस सवाल के जवाब में अभिषेक सिंह का कहना था कि, कास्टिंग डायरेक्टर मुकेश छाबड़ा मेरे पुराने मित्र हैं. एक बार मैं सरकारी काम से मुंबई गया था, तो उनसे मिलने उनके ऑफ़िस चला गया. इस दौरान वहां 'दिल्ली क्राइम 2' की टीम भी आई हुई थी. उन लोगों को दिल्ली प्रशासन के बारे में जानकारी चाहिए थी तो मुकेश जी ने उन्हें मुझसे मिलाया. 

इस दौरान मैंने उनके साथ दिल्ली पुलिस एवं प्रशासन की कार्य प्रणाली से जुड़ी कई बातें शेयर की. मीट‍िंग ख़त्म होने पर टीम के एक सदस्य ने मुझसे कहा कि उन्हें 'दिल्ली क्राइम 2' के लिए एक IAS ऑफ़िसर के किरदार की तलाश है. अगर आप ख़ुद ये किरदार निभाएंगे तो एकदम रियल लगेगा. मेरे लिए ये एकदम नई दुनिया थी. मैंने सोचा हां कर देते हैं, कुछ नया सीखने का मौक़ा मिलेगा और मैंने हामी भर दी.   

Source: thelallantop

इस वेब सीरीज़ को लेकर अभ‍िषेक सिंह का कहना था कि, मैंने 'दिल्ली क्राइम' के बारे में सुना तो था, लेक‍िन इसे देख नहीं पाया था. फ़िलहाल मैंने अपनी छवि को लेकर ज़्यादा सोचा नहीं है. लेकिन मुझे ऐसे किरदार पसंद है जो दर्शकों पर एक सकारात्मक प्रभाव छोड़ सके व समाज को एक अच्छा सन्देश दे. 'दिल्ली क्राइम 2' में भी मेरा रोल कुछ इसी तरह का होगा जो एक सोशल मैसेज देगा. 

Source: intoday

भव‍िष्य में मौक़ा मिला तो करेंगे सामाजिक फ़िल्में

भव‍िष्य में एक्ट‍िंग जारी रखने के सवाल पर अभ‍िषेक सिंह का कहना था कि 'मैं मानता हूं क‍ि सिनेमा ऐसे क्षेत्र है, जहां आप एक साथ कई लोगों को प्रभावित कर सकते हैं. यदि हम एक दूरदर्शी सोच के साथ फ़िल्म बनाएं तो समाज पर उसका सकारात्मक असर पड़ता है. 'पैडमैन' और 'तारे ज़मीन पर' जैसी फ़िल्मों से हमें एक ऐसे विषय के बारे में जानने का मौक़ा मिला जिस संबंध में हम चर्चा तक पसंद नहीं करते. 

Source: intoday

अगर इस तरह के सिनेमा से समाज की कई ग़लत अवधारणाएं एवं कुरीतियां दूर होती हैं. प्रशासन में रहकर भी हम यही सब करने की कोशिश करते हैं. यदि मुझे इस तरह की समाजिक विषय पर बन रही किसी फ़िल्म में आगे काम करने का मौका मिलेगा तो मैं ज़रूर करना चाहूंगा.  

Source: intoday

अभ‍िषेक एक शॉर्ट फ़िल्म में कर चुके हैं काम 

 अभ‍िषेक ने हाल ही में एक शॉर्ट फ़िल्म 'चार पंद्रह' में भी काम किया है. इसने कई अवार्ड्स भी जीते और हॉटस्टार पर हिट भी रही. इसके अलावा अभ‍िषेक की कई बड़े फ़िल्मकारों से सोशल रेलेवंस विषय पर बात चल रही है.

Source: aajtak

कोरोना महामारी से कैसे कर रहे हैं डील? 

आईएएस ऑफ़िसर होने के नाते सरकार द्वार मुझे जो भी दायित्व दिए गए हैं, मैं उनका पूरी तरह निर्वहन कर रहा हूं. व्यक्तिगत तौर पर में जितना ज़्यादा हो सके लोगों की मदद करने की कोशिश भी कर रहा हूं. Netflix और मैंने मिलकर अपनी दिल्ली क्राइम की टीम के डेली वेजर्स की सैलरी का इंतज़ाम किया.  

एक IAS अफ़सर होने के नाते इस कठ‍िन समय में अभिषेक ने लोगों से एक-दूसरे का साथ देने और वायरस ने बचने के लिए सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन करने की अपील की है.