भारत की पहली ऑस्कर विजेता मशहूर कॉस्ट्यूम डिज़ाइनर भानु अथैया का 91 वर्ष की आयु में लंबी बीमारी के चलते गुरुवार को मुंबई में निधन हो गया है. इसकी जानकारी उनकी बेटी राधिका गुप्ता ने है.

बता दें भानु अथैया ने साल 1982 की हॉलीवुड फ़िल्म 'गांधी' के लिए बेस्ट कॉस्ट्यूम डिज़ाइनर का ऑस्कर हासिल किया था. इस फ़िल्म ने उन्हें दुनियाभर में मशहूर कर दिया था.

Source: blogs

पीटीआई से बातचीत में भानु अथैया की बेटी राधिका गुप्ता ने बताया कि, गुरुवार सुबह उनका निधन हो गया था. वो पिछले काफ़ी समय से बीमार थीं. 8 साल पहले उनके ब्रेन ट्यूमर का पता चला था. पिछले 3 सालों से लकवाग्रस्त होने के चलते वो बिस्तर पर थीं. उनका अंतिम संस्कार आज दक्षिण मुंबई के चंदनवाड़ी शवदाह गृह में किया जाएगा. 

Source: rediff

महाराष्ट्र के कोल्हापुर में पैदा हुईं भानु अथैया ने बॉलीवुड में बतौर कॉस्ट्यूम डिज़ाइनर अपने करियर की शुरुआत साल 1956 की सुपरहिट 'CID से की थी. इसके बाद साल 1983 में उन्होंने रिचर्ड एटनबरो की फ़िल्म 'गांधी' में सर्वश्रेष्ठ कॉस्ट्यूम डिज़ाइन के लिए ऑस्कर जीता.

Source: scroll

भानु अथैया अपने 5 दशकों के करियर के दौरान 100 से अधिक फ़िल्मों में कॉस्ट्यूम डिज़ाइनर रहीं. उन्होंने साल 1990 में आई गुलज़ार के मिस्ट्री ड्रामा फ़िल्म 'लेकिन' और साल 2001 में आशुतोष गोवारिकर निर्देशित फ़िल्म 'लगान' के लिए नेशनल अवॉर्ड भी जीते थे. 

Source: newsnationtv

भानु अथैया ने साल 2004 में आई शाहरुख खान की फ़िल्म 'स्वदेस' में कॉस्ट्यूम डिज़ाइनर के तौर पर भी काम किया था. बतौर कॉस्ट्यूम डिज़ाइनर साल 2015 में आई मराठी फ़िल्म 'नागरिक' उनकी आख़िरी फ़िल्म थी. उन्होंने बॉलीवुड की लगभग सभी बड़ी फ़िल्मों में काम किया था. 

बता दें कि साल 2012 में उन्होंने ऑस्कर अवॉर्ड लौटाने की घोषणा की थी. इस दौरान उन्होंने कहा था कि उनका परिवार और भारत सरकार उनके इस अमूल्य अवॉर्ड का रख-रखाव नहीं कर पा रहे हैं. ऐसे में ये अवॉर्ड अकादमी के संग्रहालय में ही सुरक्षित रहेगा.