भारतीय इतिहास काफ़ी रोचक रहा है. कई राजा-महाराजाओं की कहानी सुनने के बाद उनके बारे में और अधिक जानने की इच्छा होती है. इतिहास में सिर्फ़ राजाओं ने ही बड़े-बड़े कारनामे नहीं किये हैं, बल्कि राजकुमारियां भी काफ़ी आगे थीं. कोई रानी अपनी ख़ूबसूरती के लिये चर्चित थी, तो कोई अपने दबंग अंदाज़ की वजह से. अब जब चर्चा इतिहास और राजकुमारियों की हो रही है, तो हम कुछ चर्चित राजकुमारियों की कहानियों को बड़े पर्दे पर देखना चाहेंगे.

कैसा हो अगर इन राजकुमारियों पर बायोपिक बनाई जाये:

1. नूर इनायत ख़ान

कहा जाता है कि नूर इनायत ख़ान टीपू सुल्तान की वंशज थीं. उनके पिता भारतीय और माता अमेरिका की थीं. नूर इनायत ख़ान के जीवन के शुरुआती दिन फ़्रांस और लंदन में बीते थे. उन्हें कविता लिखने का काफ़ी शौक़ था. इसलिये उन्होंने अपना करियर इसी में शुरु किया. इसके साथ ही बच्चों पर कहानियां भी लिखीं. दूसरे विश्व युद्ध के दौरान उन्होंने ब्रिटिश सरकार की जासूसी करने के लिये पेरिस में बतौर रेडियो ऑपरेटर काम भी किया. हांलाकि, 1943 में एक ब्रिटिश महिला के धोखे़ की वजह उन्हें गिरफ़्तार कर लिया गया था.

View this post on Instagram

Noor Inayat Khan was not what one would expect of a British spy. She was a princess, having been born to Indian royalty, a Muslim, a writer and a musician. But she was exactly what Britain’s military intelligence needed in WWII. She joined the Women’s Auxiliary Air Force in 1940 and became the first female radio operator to be sent by Britain into occupied France. Within 10 days of her arrival, all the other British agents had been arrested. Her superiors wanted her to return to Britain, but she refused, saying she would try to rebuild the network on her own. She ended up doing the work of six radio operators — helping airmen escape, decoding messages and allowing important deliveries to come in — all the while dying her hair and moving apartments constantly to avoid being recognized. For the 31 days of #WomensHistoryMonth, we’re highlighting the lives of 31 remarkable women you may not know, but should. More on Noor at the link in bio. 🕵🏽‍♀️📻 #31daysofwomen | 📸: Soefi Museum

A post shared by New York Times - Gender (@nytgender) on

2. राजकुमारी नीलोफ़र

नीलोफ़र ओटोमन साम्राज्य की आखिरी राजकुमारियों में से एक थी. राजकुमारी की शादी हैदराबाद के आखिरी निज़ाम के दूसरे बेटे से हुई थी. इतना ही नहीं, सुंदर होने की वजह से उन्हें हैदराबाद का कोहिनूर भी बुलाया जाता था. दुख की बात ये है कि लाख कोशिशों के बावजूद वो मां न बन सकीं, जिसके बाद उन्होंने अपना सारा जीवन समाजसेवा में लगा दिया.

View this post on Instagram

#Repost @theladysim with @get_repost ・・・ Extraordinarily beautiful and unprecedentedly iconic, Princess Niloufer Khanum Sultana Farhat of Hyderabad was one of the last princesses of the Ottoman Empire. She epitomised timeless beauty and classicality- notice the daintily prim string of pearls, the neatly draped gossamery chiffon saaree, the Edwardian chandelier earrings, the regal coiffure, the demure lip colour and the stately mien. #princessniloufer #niloufer #hyderabad #hyderabadroyalty #royalty #indianroyalty #indianroyalfamily #india #culture #indiafashion #theladysim #saree #chiffon #pearls #edwardian #jewellery #earrings #classic #timeless #fashionaddict #hautecouture #beaumonde #hautemonde #fashiondiaries #princessdiaries

A post shared by The Cosmopolitan Jewelry Co. (@cosmo_jewelry_co_) on

3. रानी रुद्रमा देवी

काकतीय वंशज की रानी रुद्रमा देवी को भारत की कुछ महिला सम्राटों में से एक कहा जाता है. 14 साल की उम्र में ही उन्होंने अपने पिता का सारा कार्यभार संभाल लिया था. बतौर रानी उन्होंने कई चुनौतियों का सामना किया और अंत समय तक वीरता के लड़ती रहीं.

4. रानी वेलु नचियार

बहुत कम लोग जानते हैं कि भारत में अंग्रेज़ों को चुनौती देने वाली पहली वीरांगना रानी वेलु नचियार थीं. वो रामनाथपुरम के राजा चेल्लमुथु सेठुपति और रानी सकंडी मुथल की इकलौती संतान थीं. इसके अलावा उन्हें 'भारत के जोन ऑफ़ आर्क' के रूप में भी जाना जाता है. कहा जाता है कि 1772 में अंग्रज़ी सेना द्वारा उनके घर पर आक्रामण किया गया, जिसमें उनके पति की मौत हो गई. पति की मौत से आहत रानी ने ब्रिटिशों को हराने की कसम खाई और जीत भी हासिल की.

Princess
Source: idiva