Bollywood Facts: दक्षिण भारत में रजनीकांत (Rajinikanth) को उनके फ़ैंस भगवान की तरह पूजते हैं. कर्नाटक में फ़ैंस द्वारा रजनीकांत का एक मंदिर भी बनवाया गया है. रजनी हिंदी समेत दक्षिण भारत की सभी भाषाओं में फ़िल्में कर चुके हैं. इसलिए उनके फैंस दक्षिण के सभी राज्यों में मौजूद हैं.  

ये भी पढ़ें- यादगार लम्हा: जब भगत सिंह की मां से मिले थे मनोज कुमार, मां ने कहा- 'तुम मेरे बेटे जैसे दिखते हो'

Source: financialexpress

रजनीकांत (Rajinikanth) केवल सुपरस्टार ही नहीं, बल्कि बेहद धार्मिक और अध्यात्मिक किस्म के व्यक्ति भी हैं. प्रकृति के प्रति उनका प्रेम जग ज़ाहिर है. रजनीकांत का मानना है कि आध्यात्म पैसा, नाम और प्रसिद्धि से बढ़कर है क्योंकि आध्यात्म से शक्ति मिलती है और ये शक्ति इंसान को खुशियां देती है. इसलिए शूटिंग से वक्त निकाल कर रजनीकांत अक्सर हिमालय के सफ़र पर निकल पड़ते हैं.

Source: youtube

चलिए अब मुद्दे की बात पर आते हैं-  

साल 2007 की बात है. इसी साल रजनीकांत की फ़िल्म 'शिवाजी: द बॉस' (Sivaji: The Boss) भी रिलीज़ हुई थी. फ़िल्म बॉक्स ऑफ़िस पर सफ़लता के झंडे गाड़ रही थी. इस दौरान ख़ुश होकर रजनीकांत ने मंदिर जाकर पूजा करने की इक्छा ज़ाहिर की. सुरक्षा कारणों को देखते हुए उनकी टीम परेशान हो गयी. इसके बाद टीम ने उन्हें वेश बदल कर मंदिर जाने की सलाह दी. इस दौरान निर्णय लिया गया कि रजनी को साधारण कपड़ों में एक बुज़ुर्ग के वेश में मंदिर भेजा जायेगा, ताकि फ़ैंस उन्हें पहचान नहीं पाए.

Source: iflickz

इस दौरान मेकअप आर्टिस्ट ने बड़ी ख़ूबसूरती के साथ रजनीकांत को एक बुज़ुर्ग शख़्स का रूप दे दिया. इसके बाद रजनी अपने कुछ साथियों के साथ मंदिर पहुंचे. वो जब मंदिर पहुंचे तो उनके बदन पर साधारण कपड़े थे. इस दौरान रजनी किसी बुज़ुर्ग शख़्स की तरह ही धीरे-धीरे मंदिर की सीढियां चढ रहे थे. ख़ास बात ये रही कि इस दौरान किसी ने भी उन्हें पहचाना नहीं.

Source: kollywoodchennai

पूजा करने के बाद मंदिर से निकलते वक्त रजनीकांत थोड़ी देर के लिए मंदिर परिसर में ही आराम कर रहे थे. तभी मंदिर में पूजा के लिए आई एक महिला ने रजनी को भिखारी समझ उनके हाथ में 10 रुपये का नोट थमा दिया. इस दौरान रजनीकांत पहले तो थोड़ा सहम से गए, लेकिन महिला की मनोदशा भांपते हुए उन्होंने चुपचाप ये रुपये रख लिए.   

Source: filmibeat

मंदिर से बाहर निकलने के बाद जब रजनीकांत अपनी कार में बैठ रहे थे, तो उस महिला ने उन्हें दोबारा देख लिया. कुछ देर वो आश्चर्य के साथ रजनी को देखती रहीं, इसके बाद भागते हुए उनके पास गयी और ध्यान से देखने पर रजनीकांत को पहचान गई. इस दौरान महिला ने माफ़ी मांगते हुये रजनी से दिये हुए रुपये वापस करने का अनुरोध किया.  

इस दौरान रजनीकांत ने हाथ जोड़ लिए और बोले कि, मैं भी एक साधारण से आदमी हैं कोई सुपरस्टार नहीं हैं. आपके दिये हुए 10 रुपये मेरे लिए किसी आशीर्वाद से कम नहीं हैं. इसलिए मैं ये रुपये में हमेशा अपने पास रखूंगा.