मृणाल सेन ऐसे फ़िल्म-मेकर थे जिन्होंने अपनी फ़िल्मों के दम पर पूरी दुनिया में शोहरत हासिल की. शायद ही कोई ऐसा कोई फ़िल्म फ़ेस्टिवल हो जिसने मृणाल सेन जी को सम्मानित न किया हो. वो ऐसी फ़िल्में बनाते थे जो यथार्थवादी होती थीं. ये सामाजिक मुद्दों के साथ ही उसका राजनीतिक नज़रिया भी पेश करती थीं.

तभी तो मृणाल सेन की गिनती सत्यजीत रे और ऋत्विक घटक जैसे महान बंगाली फ़िल्ममेकर्स के साथ की जाती है. उन्हें पदम भूषण और दादा साहब फाल्के जैसे अवॉर्ड से भी सम्मानित किया गया था. 

 mrinal sen
Source: mediaindia

मृणाल सेन का जन्म अविभाजित बंगाल के फरीदपुर(बांग्लादेश) में हुआ था. वहां से वो कोलकाता चले आए जहां से उन्होंने अपनी ग्रेजुएशन की. इसके बाद उन्होंने एक फ़िल्म स्टूडियो में ऑडियो टेक्निशियन के रूप में काम करना शुरू कर दिया. यहीं से उनके फ़िल्मी करियर की शुरूआत हुई. मृणाल सेन ने काम के दौरान कई बुक्स पढ़ीं जो फ़िल्म मेकिंग के बारे में थीं.

 mrinal sen
Source: filmcompanion

इससे उनके अंदर भी फ़िल्में बनाने का सपना पनपने लगा. 1955 में उन्होंने अपनी पहली फ़िल्म 'रातभोर' बनाई. ये कुछ ख़ास नहीं चली जिससे उनका मन टूट गया. कुछ समय के ब्रेक के बाद उन्होंने फ़िल्म 'नील आकाशेर नीचे' बनाई. इस फ़िल्म ने उन्हें बतौर निर्देशक फ़िल्म इंडस्ट्री में नई पहचान दी. उनकी तीसरी फ़िल्म 'बाइशे श्रावण' ने मृणाल सेन को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रसिद्ध कर दिया. 

 mrinal sen
Source: telegraphindia

उन्होंने बंग्ला भाषा में ही नहीं, बल्कि हिंदी, उड़िया और तेलगु भाषा में भी कई फ़िल्में बनाई थीं. उन्होंने अपने करियर में क़रीब 20 नेशनल अवॉर्ड भी हासिल किए थे. यही नहीं साल 2000 में रूस के राष्ट्रपति व्लादिमिर पुतिन ने अपने देश के सबसे बड़े सम्मान ‘ऑर्डर ऑफ़ फ़्रेंडशिप’ से मृणाल सेन को सम्मानित किया था. ये सम्मान पाने वाले वो अकेले भारतीय फ़िल्म मेकर हैं. 

 mrinal sen
Source: reddit

उनकी कुछ सुपरहिट फ़िल्में हैं ‘भुवन शोम’, ‘मृगया’,’आकाश कुसुम’, बाइशे श्रावण', नील आकाशेर नीचे’, ‘बैशे श्रावणा’, ‘अकालेर संधाने’, ‘खंडहर’, ‘खारिज’, ‘ओका उरी कथा’,’कोरस’, ‘जेनेसिस’, ‘एक दिन अचानक’. एक बार उनकी एक फ़िल्म पर सरकार ने बैन भी लगा दिया था. इस फ़िल्म नाम था ‘नील आकाशेर नीचे’. 

 mrinal sen
Source: indiaaware

1958 में रिलीज़ हुई इस फ़िल्म की कहानी एक चीनी फेरीवाले और एक बैरिस्टर की पत्नी की स्टोरी पर आधारित थी. ये फ़िल्म दर्शकों को ख़ूब पसंद आई, लेकिन जब भारत और चीन के बीच सरहद पर तनाव बढ़ने लगा तो इसे बैन कर दिया गया था. दो महीने बाद इस पर लगा बैन हटा दिया गया था.

 mrinal sen
Source: filmcompanion

मृणाल सेन 1998-2003 तक राज्यसभा के सांसद भी रहे. 2005 में उन्हें तत्कालीन राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम ने दादा साहब फाल्के अवॉर्ड से सम्मानित किया था. इसके बाद जब पत्रकारों ने उनसे पूछा कि वो कैसा महसूस कर रहे हैं, तो उन्होंने कहा था कि- 'आजकल जिस तरह से लोग मुझसे मिल रहे हैं और मेरा सम्मान कर रहे हैं, उसे देख कर मेरी पत्नी को ज़रूर इस बात का एहसास हो गया होगा कि उसने किसी काबिल इंसान से शादी की है.'

 mrinal sen
Source: sahapedia

मृणाल सेन को लोग प्यार से मृणाल दा कहकर बुलाते थे. उनकी फ़िल्में आज भी बड़े-बड़े फ़िल्म इंस्टीट्यूट दिखाई जाती हैं ताकि स्टूडेंट्स उनसे फ़िल्म मेकिंग के गुर सीख सकें.
Entertainment के और आर्टिकल पढ़ने के लिये ScoopWhoop Hindi पर क्लिक करें.