एक्टर बनने का सपना लिए बहुत से लोग रोज़ाना मायानगरी मुंबई पहुंचते हैं. यहां वो काफ़ी स्ट्रगल करते हैं और जो हार नहीं मानते उनका सपना ज़रूर पूरा होता है. जब एक आदमी कामयाब हो जाता है तो उससे जुड़ी छोटी-छोटी चीज़ें भी मशहूर हो जाती हैं. इसी सिलसिले में आज हम आपको एक सुपरस्टार और उनकी खाट से जुड़ा एक दिलचस्प क़िस्सा बताएंगे, ये खाट उनके बॉलीवुड स्टार बनने के बाद मशहूर हो गई थी.

बात उन दिनों की है जब 50 के दशक में राजेंद्र कुमार एक्टर बनने का सपना लिए मुंबई के बांद्रा स्टेशन पर पहुंचे. स्टेशन के पास ही एक पुरानी बिल्डिंग में एक होटल था. इसके बाहर लिखा था सिर्फ़ एक्टर बनने आए लोगों के लिए. इस गेस्ट हाउस का नाम था बॉम्बे गेस्ट हाउस. कहते हैं कि इस होटल में धर्मेंद्र से लेकर राज कुमार जैसे लोग आकर ठहरे थे और स्टार बने थे.राजेंद्र कुमार भी इस होटल में रुके. यहीं से वो रोज़ाना ऑडिशन के लिए जाते थे.

 Rajendra Kumar
Source: pinterest

कुछ दिनों तक स्ट्रगल करने के बाद वो एक एक्टर के रूप में ख़ुद को स्थापित करने में कामयाब हो गए. 1960 के दशक में राजेंद्र कुमार की क़िस्मत चमकी और वो सुपर स्टार बन गए. लोग उन्हें प्यार से जुबली कुमार बुलाने लगे. क्योंकि उनकी फ़िल्में 25 सप्ताह तक थिएटर में चलती थीं. अब राजेंद्र कुमार के सुपरस्टार बनने के बाद उनकी वो खाट जिस पर वो गेस्ट हाउस में सोते थे, वो भी फ़ेमस हो गई. इसकी भी दिलचस्प कहानी है.

charpai
Source: thehindi

दरअसल, हुआ यूं कि बॉम्बे गेस्ट हाउस में जिस खाट पर राजेंद्र कुमार सोते थे, होटल के एजेंट फुक्कड़ भाई ने उसकी मर्किटिंग करना शुरू कर दिया. वो लोगों से कहते कि इस खाट पर सोने से ही राजेंद्र कुमार जुबली कुमार बने. उनके गेस्ट हाउस में जो भी स्ट्रगिलिंग एक्टर आता वो उसे इस खाट को किराए पर लेने के लिए कहते थे.

 Rajendra Kumar
Source: cinestaan

उनकी मार्किटिंग का ये आइडिया चल पड़ा. मुंबई आने वाले बहुत से एक्टर्स इस खाट पर सोने की हसरत रखते थे. इस ख़्याल में कि शायद कभी न कभी उनकी भी क़िस्मत चमक जाएगी और वो भी स्टार बन जाएंगे. राजेंद्र कुमार और उनकी खाट से जुड़ा ये क़िस्सा आप यहां सुन सकते हैं.

Entertainment के और आर्टिकल पढ़ने के लिये ScoopWhoop Hindi पर क्लिक करें.