अपनी दमदार आवाज़ से पूरी दुनिया में पहचान बना चुके दलेर मेंहदी किसी परियच के मोहताज नहीं हैं. दलेर मेंहदी ही वो गायक हैं जिन्होंने पंजाबी भंगड़ा को पूरी दुनिया में एक नई पहचान दिलाई. इनके गानों पर आज भी लोग ख़ुद को थिरकने से रोक नहीं पाते हैं.

Source: hindustantimes

दलेर सिंह का पहला सुपरहिट गाना था बोलो तारा रारा. इस गाने ने उन्हें रातों रात फ़ेमस कर दिया था. उन्होंने अमिताभ बच्चन और आमिर ख़ान जैसे बॉलीवुड स्टार के लिए भी गाने गाए हैं. आज वो इंडियन फ़िल्म इंडस्ट्री का जाना पहचाना नाम हैं. उनके नाम से जुड़ा एक दिलचस्प क़िस्सा भी है. चलिए आज आपको इसके बारे में भी बता देते हैं.

Source: bizasialive

बात उन दिनों की है जब पटना में एक पंजाबी परिवार रहता था. अजमरे सिंह इस परिवार के हेड थे. उन्हें शास्त्रीय संगीत का ज्ञान था. वो गुरुद्वारे में गुरबानी और कीर्तन गाया करते थे. ये वो ज़माना था, जब दलेर सिंह नाम का डाकू बहुत ही फ़ेमस था.

Source: koimoi

ये था तो डाकू लेकिन ग़रीबों के लिए फ़रिश्ता था. अजमेर सिंह भी इस डाकू की दिलेरी के कायल थे. जब अजमेर सिंह के घर उनके पहले बच्चे ने जन्म लिया तब उन्होंने दलेर सिंह के नाम से प्रभावित होकर उसका नाम रख दिया दलेर सिंह. फिर उन्होंने बच्चे को संगीत की शिक्षा देनी शुरू कर दी.

Source: livehindustan

दलेर सिंह जब 7 साल के हुए तब एक ग़जल गायक बहुत फ़ेमस थे, नाम था परवेज़ मेंहदी. ये उस्ताद मेंहदी हसन के शागिर्द हुआ करते थे. अजमेर सिंह को उनकी ग़जलें बहुत पसंद थीं. उनसे प्रभावित होकर उन्होंने अपने बेटे के नाम से सिंह हटाकर मेंहदी जोड़ दिया. इस तरह बेटे का नाम हो गया दलेर मेंहदी, जो आगे चलकर बहुत मशहूर गायक बने. इस पूरे क़िस्से को आप यहां क्लिक कर सुन सकते हैं.

Source: newsstate

दलेर मेंहदी का नाम भले ही किसी से भी प्रेरित होकर रखा गया हो, लेकिन उन्होंने इस नाम को अपने टैलेंट के दम पर मशहूर किया है. है कि नहीं?

Entertainment के और आर्टिकल पढ़ने के लिये ScoopWhoop Hindi पर क्लिक करें.