राजेश खन्ना जिन्हें प्यार से लोग काका कहकर बुलाते थे, बॉलीवुड के ऐसे स्टार थे जिनका हर कोई दीवाना था. भले ही वो इस दुनिया में नहीं हैं, पर आज भी वो लोगों के सुपर स्टार हैं और हमेशा रहेंगे. उनका स्टारडम ऐसा था कि लोग उनकी एक झलक पाने के लिए बेताब रहते थे. पंजाब में 29 दिसंबर 1942 उनका जन्म हुआ था, तब शायद ही किसी ने सोचा होगा कि एक दिन ये लड़का इंडस्ट्री का पहला सुपरस्टार कहलाएगा.

राजेश खन्ना
Source: youtube

राजेश खन्ना की फ़िल्मों के बारे में आपने बहुत सुना होगा, लेकिन आज चर्चा होगी उनके स्टारडम की. वो स्टारडम जिसके लड़के ही नहीं लड़कियां भी फ़ैन थीं. उनके स्टारडम का एसहास करना है तो आपको राजेश खन्ना पर लिखी गई किताब़ 'द अनटोल्ड स्टोरी ऑफ़ इंडियाज़ फ़र्स्ट सुपरस्टार' पढ़नी चाहिए.

राजेश खन्ना
Source: celebrityborn

इसमें राजेश खन्ना को लोग किस कदर चाहते थे, इसके कई क़िस्से पढ़ने को मिलेंगे. यासिर उस्मान जब इस बुक को लिख रहे थे, तब उन्होंने कई लोगों से राजेश खन्ना के बारे में बात भी की थी. बंगाल में उनकी ऐसी ही एक फ़ैन थी. उनसे जब यासिर साहब ने पूछा कि आपके लिए राजेश खन्ना क्या हैं, तो उन्होंने कहा आप नहीं समझेंगे. जब हम उनकी फ़िल्म थिएटर में देखने जाते थे, तो वो हमारी और उनकी डेट हुआ करती थी.

राजेश खन्ना
Source: bollywoodbubble

यही नहीं लड़कियां उनकी इस कदर दीवानी थीं कि अगर उनकी सफ़ेद कार कहीं खड़ी दिख जाए, तो महिलाएं उसे Kiss करके रंग देती थीं. ये 70 के दशक की बात है, जब उनकी लगातार कई फ़िल्में हिट हो चुकी थीं और लोगों में उनकी इमेज एक रोमांटिक हीरो की बन चुकी थी.

राजेश खन्ना
Source: patrika

इस बुक में दिल्ली की लड़कियों का एक दिलचस्प क़िस्सा यासिर साहब ने बताया है. इसके मुताबिक, जब एक बार राजेश खन्ना को बुखार हुआ तब कुछ लड़कियों ने उनके पोस्टर पर बर्फ़ रखकर उनके बुखार को उतारने की कोशिश की थी. टीनएज लड़कियों में राजेश खन्ना का क्रेज़ ऐसा था कि उनकी कार अगर कहीं से निकल जाए, तो लड़कियां उसकी धूल से अपनी मांग भर लिया करती थीं. वो मन ही मन उन्हें अपना पति मान लिया करती थीं.

राजेश खन्ना

ये वो दौर था जब लोगों ने कहना शुरू कर दिया कि वो सिर्फ़ रोमांटिक किरदार ही निभा सकते हैं. मगर उन्होंने 1972 में आई 'बावर्ची' में अपनी कमाल की कॉमेडी और 'आनंद' में अपनी संजीदा एक्टिंग से लोगों को अपनी सोच बदलने को मजबूर कर दिया.

राजेश खन्ना
Source: cinestaan

उनकी फ़िल्म आनंद का डायलॉग आज भी लोगों की ज़ुबान पर है- 'बाबूमोशाय, हम सब रंगमंच की कठपुतलियां है जिसकी डोर ऊपर वाले की उंगलियों से बंधी हुई है. कब किसकी डोर खिंच जाए ये कोई नहीं बता सकता.'

राजेश खन्ना
Source: bollywoodbubble

18 जुलाई 2012 को उनके जीवन की डोर को ऊपर वाले ने हमेशा के लिए खींच लिया. उनके अंतिम दर्शन करने को लोगों का हजूम उमड़ पड़ा था. वो भले ही आज हमारे बीच न रहे हों, लेकिन एक बात को कोई झुठला नहीं सकता कि राजेश खन्ना जैसा स्टारडम पाने वाला स्टार न कभी हुआ है न कभी होगा.

Entertainment के और आर्टिकल पढ़ने के लिये ScoopWhoop Hindi पर क्लिक करें.