हिंदी सिनेमा के दिग्गज अभिनेता देव आनंद ऐसे अभिनेता थे जिन्हें उनके अभिनय और लुक के लिए इतना प्यार मिला कि बयां करना मुश्क़िल है. इतना ही नहीं देव आनंद इतने हैंडसम और ख़ूबसूरत थे कि उन्हें काले कपड़े पहनना मना था और कोर्ट ने इस पर बैन लगा दिया था.

ap-south-1

देव आनंद को एक्टिंग के अलावा लेखन, निर्देशन और फ़िल्म निर्माण में भी रूचि थी. इसके अलावा कितने ही लोग थे जिन्होंने देव आनंद को कॉपी करके ख़ूब पैसा और नाम कमाया. इन्हीं में से एक हैं एक्टर किशोर भानुशाली, जिनकी शक़्ल से लेकर बातचीत करने का स्टाइल तक देव आनंद जैसा है. इसकी की वजह से इन्हें ख़ूब काम भी मिला है.

timesnowhindi

ये भी पढ़ें: देव आनंद : ब्लैक एंड वाइट ज़माने का वो नाम, जो कलर टीवी से लेकर Netflix के ज़माने में भी सदाबहार रहेगा

किशोर भानुशाली को पहचान फ़िल्म ‘दिल’ में काम करने से मिली थी. इसमें किशोर ने इतना बेहतरीन काम किया था कि उन्हें ख़ूब लोकप्रियता मिली. ख़ूब चर्चा मिलने के बाद देव आनंद ने भी इस फ़िल्म को देखा और किशोर को मिलने के लिए बुलाया. इस बात के बारे में इन्होंने एक इंटरव्यू में बताया था,

patrika
दिल की रिलीज़ के बाद उन्होंने मुझे अपने ऑफ़िस में बुलाया और कहा, क्यों किशोर नाम है न तुम्हारा? मुझसे ज़्यादा तुम देव आनंद लगते हो मैं अब से तुम्हारी कॉपी करूंगा. मुझसे पूछा कितनी फ़िल्में कर रहे हो. मैंने कहा, 10-12 फ़िल्म हैं  साहब तो वो बोले मेरे पास तो दो ही फ़िल्में हैं तब उन्होंने मज़ाक करते हुए कहा, मुझे कुछ फ़िल्में दिलाओ.

-किशोर भानुशाली

ytimg

आगे बताया, 

मैं जिनको गुरु मानता था, वो मेरे सामने थे. मैं बहुत नर्वस था इसलिए बस इतना कह पाया कि आपके साथ एक फ़िल्म करना चाहता हूं, वो बोले की ज़रूर करेंगे.

-किशोर भानुशाली

किशोर भानुशाली जब 10 साल के थे तब से ही लोग उन्हें देव आनंद कहते थे. हालांकि उस समय उन्हें देव आनंद के बारे में नहीं पता था, फिर उन्होंने देव आनंद की फ़िल्म ‘जॉनी मेरा नाम’ और ‘गाइड’ देखी. बस तभी से वो देव आनंद बन गए. इस बारे में उन्होंने बताया,

tv9hindi
मैंने सोचा शक़्ल तो मिलती है फिर क्या था आइने के सामने खड़ा हुआ और गले में रुमाल बांधकर गर्दन हिलाई. तब से मैं देव आनंद साहब की पहचान लिए घूम रहा हूं. मैं ख़ुश क़िस्मत हूं कि लोगों के मेरे अंदर देव साहब दिखते हैं.

-किशोर भानुशाली

indiatvnews

हालांकि, किशोर को देव साहब बनकर इज़्ज़त तो ख़ूब मिली, लेकिन इस बात का मलाल है कि उन्हें इसके बाद दूसरे रोल नहीं मिले. जबकि वो हर तरह के रोल करना चाहते थे, बस मिमिक्री आर्टिस्ट बन कर रह गए.

indiafeeds

आपको बता दें, किशोर भानुशाली ने ख़ाकी’, ‘बड़े मियां छोटे मियां’ और ‘दिल’ सहित 100 से ज़्यादा फ़िल्मों में काम किया है. इन्हें ‘जूनियर देव आनंद’ भी कहा जाता है.