Kangana Ranaut Sexually Abused in Childhood : डायरेक्टर और प्रोड्यूसर एकता कपूर का Lock Up शो जल्द ही अपने फ़िनाले राउंड में पहुंचने वाला है. वहीं, Lock Up शो की ट्रॉफ़ी पाने के लिए सभी कंटेस्टेंट दर्शकों को इंटरनेट करने में लगे हुए हैं. हालांकि, शो में मौज-मस्ती, इश्क़, लड़ाई और गुस्सा-नाराज़गी के साथ कई कंटेस्टेंट अपने चौंकाने वाले राज़ के साथ सामने आए.

शो के दौरान ही पता चला कि स्टैंडअप कॉमेडियन मुनव्वर फ़ारूकी के साथ बचपन में यौन शोषण हुआ. 
इसके बाद बॉलीवुड एक्ट्रेस ने अपना अनुभव साझा किया और बताया कि उनके साथ भी बचपन में यौन शोषण हुआ था.  
आइये, जानते हैं क्या कहा कंगना रनौत ने, लेकिन उससे पहले जान लेते हैं मुनव्वर फ़ारूकी ने उनपर हुए यौन शोषण के बारे में क्या कहा.    

आइये, अब विस्तार से पढ़ते हैं आर्टिकल (Kangana Ranaut Sexually Abused in Childhood). 

कई सालों तक हुए यौन शोषण का शिकार 

munawar Faruqui
Source: youtube

सभी को हंसाने वाले मुनव्वर फ़ारूकी की आंखों में तब पानी आ गया, जब उन्होंने सभी के सामने अपने ऊपर हुए यौण शोषण की घटना को सामने रखा. उन्होंने बताया कि जब वो 6 वर्ष के थे तब उनके दो क़रीबी रिश्तेदारों ने कई सालों तक उनके साथ यौण शोषण किया. ऐसा 11 साल की उम्र तक चलता रहा. मुनव्वर ने कहा कि मैने ये किसी को नहीं बताया, क्योंकि मुझे और मेरे घरवालों को उनका सामना करना था.  

कंगना ने भी सुनाई अपनी दर्दनाक आपबीती 

kangana ranaut
Source: youtube

Kangana Ranaut Sexually Abused in Childhood: मुनव्वर फ़ारूकी की बात सुनकर बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना ने भी सुनाई अपनी दर्दनाक आपबीती. उन्होंने कहा कि जब वो छोटी थी, तब उनसे तीन-चार साल बड़े लड़के ने उनका यौण शोषण किया करता था. उन्होंने कहा कि, "वो ग़लत तरीक़े से मुझे छूता था और उस वक़्त मुझे पता नहीं था इस चीज़ का क्या मतलब होता है"

kangana ranaut
Source: images.dawn

क्या कहते हैं आंकड़े  

girl
Source: blog.ipleaders

एनसीबीआई (National Center for Biotechnology Information) की वेबसाइट के अनुसार, 2020 में भारत में प्रति 100,000 नागरिकों पर बलात्कार की घटनाओं के आंकड़े 22,172 थे. वहीं, United Nations International Children Education Fund की एक स्टडी (2005-13) के अनुसार, भारत में 42 प्रतिशत लड़कियों को यौण शोषण से गुज़रना पड़ता है. 

वहीं, गवर्नमेंट वेबसाइट विकासपीडिया के अनुसार, भारत में हर 155 मिनट में 16 साल के कम उम्र के बच्चे का बलात्कार किया जाता है. वहीं, समाज में बेइज्जती के डर से ऐसी घटनाओं के बारे में माता-पिता किसी से कह नहीं पाते. वहीं, इस वेबसाइट में आगे लिखा है कि एक सर्वे के मुताबिक, बच्चों का यौन शोषण करने वाले 90% लोग बच्चों को जानने वाले ही होते हैं.