गोल्डन ऐरा का एक ऐसा एक्टर जो अपने एक ही शॉट में लोगों का ध्यान अपनी ओर खींच लेता था, जिसने बॉलीवुड में गलैमर तड़का लगाया और बाद में बॉलीवुड में कई नए टैलेंट्स को मौक़ा दिया. बात हो रही है लेजंड्री एक्टर अशोक कुमार की, जिन्हें प्यार से लोग दादा मुनी बुलाते थे. उनके स्टारडम के आगे उस ज़माने के कई बड़े एक्टर्स भी पानी भरते नज़र आते थे.

Source: pinterest

फ़िल्म इंडस्ट्री में उनके जैसा मल्टी टैलेंटेड अभिनता शायद ही उस ज़माने कोई रहा होगा. फ़िल्मी बैकग्राउंड और एक्टिंग में किसी तरह की तालीम न होने के बाद भी उन्होंने अपनी एक्टिंग का लोहा मनवाया था. वो पहले ऐसे सुपरस्टार थे जिन्होंने एंटी हीरो यानी नेगेटिव रोल निभाने का ट्रेंड भी शुरू किया था.

Source: cinestaan

लेजेंड्री सिंगर किशोर कुमार उनके छोटे भाई थे. बतौर म्यूज़िक कंपोज़र फ़िल्मी दुनिया में अशोक कुमार के डेब्यू से जुड़ा एक दिलचस्प क़िस्सा है, जिसमें किशोर कुमार का भी बहुत बड़ा योगदान है.

Source: rediff

दरअसल, किशोर कुमार ने 1961 में आई फ़िल्म झुमरू से म्यूज़िक कंपोजर के तौर पर डेब्यू किया था. इस फ़िल्म का मशहूर गाना था, 'कोई हमदम न रहा, कोई सहारा न रहा'. इसे मधुबाला और किशोर कुमार पर फ़िल्माया गया था.

मगर इस गाने को पहली बार किशोर कुमार ने नहीं उनके बड़े भाई अशोक कुमार ने गाया था. वो भी उनसे क़रीब 25 साल पहले, जब किशोर लगभग 5 साल के रहे होंगे. फ़िल्म थी जीवन नैया, जो 1939 में रिलीज़ हुई थी. ख़ास बात ये है कि ये अशोक कुमार की पहली फ़िल्म थी. ये वो दौर था जब ज़्यादातर हीरो अपने गाने ख़ुद ही गाते थे.

अब बात करते हैं किशोर कुमार की. हुआ यूं के किशोर कुमार को अपने म्यूज़िकल डेब्यू के लिए अच्छे गाने की तलाश थी. इसके लिए उन्होंने अशोक कुमार से इस गाने को रिक्रिएट करने की इजाज़त मांगी. दादा मुनी ने इजाज़त तो दे दी लेकिन उन्होंने कहा कि इसे गाना आसान नहीं.

Source: bollywoodbubble

किशोर कुमार ने इसे नई धुन में इस तरह से कंपोज़ किया कि ये उनका कालजयी गीत बन गया. इस बात का ज़िक्र शशिकांत किंकर की बुक Kishore Kumar: A Versatile Genius में किया गया है. दोनों भाईयों ने अपने-अपने स्टाइल में कोई हमदम न रहा, कोई सहारा न रहा, को गाया है.

अशोक कुमार ने कुंदल लाल सहगल के स्टाइल में और किशोर कुमार ने अपने टिपिकल किशोर कुमार वाले अंदाज़ में. दोनों को सुनकर आज भी लोगों के दिल को सुकून मिलता है.

Entertainment के और आर्टिकल पढ़ने के लिये ScoopWhoop Hindi पर क्लिक करें.