सिनेमा का एक वो दौर था जब फ़िल्मों के गलियारे में कमाल अमरोही और मीना कुमारी की प्रेम कहानी अंगड़ाइयां ले रही थी. कमाल अमरोही अगर उस ज़माने के बेहतरीन निर्देशक थे तो मीना कुमारी भी एक्टिंग की दुनिया का बड़ा नाम थीं. कमाल ने अपने करियर में 5 फ़िल्मों का निर्देशन किया, जिसमें से महल और पाक़ीज़ा यादगार थीं. कमाल उस वक़्त के जाने-माने डायरेक्टर थे, जो मीना कुमारी के साथ काम करना चाहते थे. कमाल ने फ़िल्म मुग़ल-ए-आज़म के कई डायलॉग लिखे थे.

kamaal amrohi
Source: livemint

दोनों की लव स्टोरी

Source: amarujala

मीना कुमारी ने घर के हालातों के चलते बहुत छोटी उम्र में फ़िल्मों में काम करना शुरू कर दिया था. मीना कुमारी कमाल अमरोही के अक्खड़ स्वभाव के चलते उनके साथ काम नहीं करना चाहती थीं. फिर अपने पिता के दवाब डालने पर उन्होंने कमाल के साथ काम करने के लिए हां कर दी. हालांकि, वो फ़िल्म तो बनी, लेकिन कमाल और मीना का प्यार परवान चढ़ गया. दोनों की शादी मुश्किल थी क्योंकि कमाल पहले से ही शादीशुदा थे.

रिश्ते से नाख़ुश थे मीना कुमारी के पिता

kamal amrohi
Source: theprint

पहले तो मीना तुमारी के पिता इस रिश्ते से ख़ुश नहीं थे, लेकिन कमाल के दोस्त ने मीना को इस रिश्ते के लिए मना लिया। फ़िजियोथैरेपी क्लास के 2 घंटों के बीच मीना और कमाल का निकाह हो गया. कभी भी दोनों के परिवार वाले इस रिश्ते को नहीं अपना पाए. जिससे तंग आकर कमाल ने मीना को ख़त में लिखा कि ये शादी एक हादसा है. इसके जवाब में मीना ने लिखा कि तुम न मुझे कभी समझ पाए, न समझ पाओगे. इसलिए उन्हें तलाक़ चाहिए.

पाक़ीज़ा से धर्मेंद्र को हटा दिया था

Source: madhulikaliddle

कमाल और मीना की मोहब्बत इतनी आसान नहीं थी. इस मोहब्बत में कई रुकावटें आई थीं. इनमें से एक पाकीज़ा फ़िल्म की शूटिंग के दौरान भी आई. जब धर्मेंंद्र और मीना कुमारी साथ में पाक़ीज़ा की शूटिंग कर रहे थे. तब दोनों को एक दूसरे से प्यार हो गया था, जिसके चलते कमाल ने धर्मेंद्र की राजकुमार को ले लिया और फ़िल्म को बनने में 14 साल लगे. फिर भी कमाल, मीना कुमारी और धर्मेंद्र को अलग करने में नाक़ाम रहे.

कमाल ने धर्मेंद्र का मुंह काला करवाया था

kamal amrohi
Source: navbharattimes

धर्मेंद्र की मोहब्बत में क़ैद हो चुकी मीना कुमारी ने कमाल के दिल में एक कसक पैदा कर दी थी. हालांकि धर्मेंद्र कुछ वक़्त के बाद ही इस रिश्ते से आगे बढ़ गए, लेकिन मीना कुमारी इस बात को बर्दाश्त नहीं कर पाईं. इसका बदला कमाल ने फ़िल्म रज़िया सुल्तान की शूटिंग के दौरान लिया. इसके हीरो धर्मेंद्र थे और प्रोड्यूसर-डायरेक्टर कमाल अमरोही. कमाल ने शॉट के दौरान धर्मेंद्र का मुंह काला करवा दिया, जबकि बताया जाता है कि कहानी में इस चीज़ की ज़रूरत नहीं थी. ये सिर्फ़ कमाल का गुस्सा था, जो धर्मेंद्र ने मीना कुमारी को दर्द दिया था. इसी का बदला उन्होंने धर्मेंद्र से लिया. रज़िया सुल्तान की नाक़ामयाबी के बाद ही कमाल ने फ़िल्मों को अलविदा कह दिया. हालांकि, 'आख़िरी मुग़ल' और 'मजमून' जैसी कुछ फ़िल्मों पर उन्होंने काम ज़रूर किया था.

kamaal amrohi
Source: pinterest

कमाल अमरोही और मीना कुमारी की प्रेम कहानी के बीच कई बाधाएं आईं, जिन्होंने इनके प्रेम को मार दिया. मगर इनके करियर की बात करें तो दोनों का ही करियर शानदार रहा. मीना कुमारी ने अपने करियर में कई सुपहिट फ़िल्में दीं तो वहीं कमाल अमरोही पांच फ़िल्मों का निर्देशन करके ही स्टारडम को पा लिया था. कहते हैं कि वही स्टारडम उनका दुश्मन बन गया था.

मीना कुमारी की बेहतरीन फ़िल्मों में बैजू बावरा, काजल, पाक़ीज़ा, आरती, परिणीता, साहेब बीवी और ग़ुलाम के अलावा दिल एक मंदिर और आज़ाद शामिल हैं.

Entertainment से जुड़े आर्टिकल ScoopwhoopHindi पर पढ़ें.