महेश भट्ट की गिनती बॉलीवुड के जाने-माने फ़िल्म निर्माता और निर्देशकों में होती है. उनकी अधिकतर फ़िल्में प्यार और धोखे के कॉन्सेप्ट के आस-पास घूमती हैं. उन्होंने इंडस्ट्री को कई सुपरहिट फ़िल्में दी हैं. इनमें 'अर्थ', 'सारांश', 'नाम', 'सड़क', 'ज़ख्म', 'जिस्म', 'राज' 'मर्डर' जैसी फ़िल्मों के नाम शामिल हैं.

मगर एक दौर था जब उनकी एक के बाद एक कई फ़िल्में फ़्लॉप हो रही थीं. तब महेश भट्ट की एक फ़िल्म के सीन ने उनकी ज़िंदगी बदल दी. उस फ़िल्म से जुड़ा क़िस्सा आज हम आपके लिए लेकर आए हैं.

Source: blogspot

बात उन दिनों की है जब महेश भट्ट ने इंडस्ट्री में पैर जमाना शुरू ही किया था. उनकी पहली चार फ़िल्में फ़्लॉप हो चुकी थीं. पांचवीं फ़िल्म अर्थ का फ़र्स्ट डे फ़र्स्ट शो दिल्ली के प्लाज़ा हॉल में चल रहा था. महेश भट्ट टेंशन में थे और सिनेमा हॉल के बाहर इधर उधर घूम रहे थे. कुछ देर बाद वो अंदर चले गए.

mahesh bhatt
Source: bookmyshow

इस वक़्त फ़िल्म के आख़िरी सीन में हीरो (कुलभूषण खरबंदा) अपनी पहली पत्नी(शबाना आज़मी) से माफ़ी मांग रहा होता है. वो अपनी पहली पत्नी को किसी दूसरी औरत के लिए उसे छोड़ देता है. अब अपनी ग़लती का एहसास होने पर पति वापस पहली पत्नी के पास वापस लौट आया है और माफ़ी मांग कर नई शुरुआत कहने को कहता है. 

arth
Source: cinestaan

उसके जवाब में पत्नी कहती है कि- 'क्या मैं भी ऐसा करती तो क्या तुम मुझे माफ़ कर देते.' तब पति कहता नहीं. इस पर पत्नी कहती है- 'गुड बॉय इंदर'. इस सीन के बाद सिनेमा हॉल के अंदर सन्नाटा छा जाता है. दो मिनट बाद पहली लाइन में बैठे दर्शक तालियां बजाने लगते हैं और पूरा हॉल तालियों की गड़गड़ाहट से गूंज उठता है.

mahesh bhatt
Source: rediff

हॉल में बैठे महेश भट्ट ये नज़ारा देख रोने लगे थे. तब उन्होंने रोते हुए कहा था- 'मेरी फ़िल्म हिट हो गई. हिंदुस्तान के फ़्रंट बेंचर्स ने मेरी फ़िल्म को पसंद कर लिया है.' 

mahesh bhatt
Source: telanganatoday

इस फ़िल्म के बाद से ही महेश भट्ट की ज़िंदगी बदल गई. उनकी पहचान इंडस्ट्री में एक निर्देशक के तौर होने लगी. मतलब इस फ़िल्म के बाद ही उनका करियर पटरी पर आया था. महेश भट्ट से जुड़ा ये क़िस्सा आप यहां सुन सकते हैं.  

Entertainment के और आर्टिकल पढ़ने के लिये ScoopWhoop Hindi पर क्लिक करें.