बॉलीवुड के मशहूर निर्देशक राकेश ओम प्रकाश मेहरा ने साल 2001 में आई फ़िल्म ‘अक्स- द रिफलेक्शंस’ से बतौर डायरेक्टर डेब्यू किया था. ये एक सुपरनेचुरल एक्शन फ़िल्म थी जिसमें अमिताभ बच्चन, मनोज बाजपेयी, नंदिता दास, रवीना टंडन जैसे स्टार्स थे. इस फ़िल्म ने बॉक्स ऑफ़िस पर ठीक-ठाक ही बिज़नेस किया था मगर इसके लिए अमिताभ बच्चन(Amitabh Bachchan) को फ़िल्मफ़ेयर का बेस्ट एक्टर क्रिटिक्स का अवॉर्ड मिला था. 

indianexpress

ये भी पढ़ें: क़िस्सा: एक्टिंग की दुनिया में अपना एक अलग मुक़ाम बना चुके मनोज बाजपेयी कभी करना चाहते थे सुसाइड

वहीं मनोज बाजपेयी(Manoj Bajpayee) को बेस्ट नेगेटिव एक्टर की कैटेगरी में नॉमिनेशन मिला था. इस फ़िल्म से जुड़ी कुछ दिलचस्प बातें मनोज बाजपेयी अपने एक इंटरव्यू में शेयर की हैं. उन्होंने इस फ़िल्म में निभाए गए अपने नेगेटिव किरदार के बारे में बहुत से ख़ुलासे भी किए हैं.  

hindustantimes

मनोजब बाजपेयी बताते हैं कि इस फ़िल्म के रोल के लिए उन्होंने ख़ूब मेहनत की थी. ओम प्रकाश मेहरा ने इसे बहुत ही मेहनत से गढ़ा था. इस किरदार के बारे में मनोज कहते हैं-‘बुराई तेज़तर्रार और ख़तरनाक हो सकती है, ये मनोरंजक और लालची हो सकती है, ये एक प्रेमी हो सकता है और ये एक विध्वंसक हो सकता है और मुझे ये सब एक चरित्र में लाना था.’   

Twitter

बस फिर क्या था इसके बाद मनोज बाजपेयी और ओमप्रकाश मेहरा ने मिलकर इस किरदार को पर्दे पर उतारने की कोशिश शुरू कर दी. वो 5-6 महीने तक लगातार ओमप्रकाश मेहरा के घर जाते रहे. उन्होंने राघवन घाटगे के किरदार के लिए कॉस्ट्यूम भी डिज़ाइन करने में मदद की. यही नहीं उसके मास्क वाला आइडिया भी मनोज बाजपेयी ने ही दिया था.   

ओमप्रकाश मेहरा चाहते थे कि मनोज बाजपेयी Jack Nicholson, Mark Hamill और Heath Ledger के जोकर वाले नेगेटिव किरदार की तरह ही इस रोल को निभाएं. इसके लिए उन्होंने राघवन घाटगे की चाल-ढाल और बोलचाल पर भी काम किया. मनोज ने भी उन्हें निराश नहीं किया वो जैस कहते उस तरह किरदार को तैयार करने में लगे रहे.  

santabanta

फ़िल्म की शूटिंग को याद करते हुए उन्होंने बताया कि एक बार एक सीन में वो भेड़िये का शिकार होते-होते बचे थे. उससे जान बचाने के लिए वो एक वैन पर जा कूदे थे. एक और सीन की बात करते हुए कहा कि बुडापेस्ट में माइनस 10 डिग्री में उन्होंने शूटिंग की थी. तब उनका शरीर ठंड के मारे कंपकपा रहा था.   

bollywoodbubble

इतनी मेहनत करने के बाद हमारे सामने एक अलग तरह का विलेन राघवन घाटगे निकलकर पर्दे पर सामने आया था. मनोज बाजपेयी कहते हैं जब अमिताभ बच्चन ने फ़िल्मफ़ेयर अवॉर्ड लेते हुए उनकी तारीफ़ की थी तब मनोज ने अपनी मेहनत को सफ़ल माना था.