Visual Effects Designer Adipurush: फ़िल्म ‘आदिपुरुष’ 16 जून को सिनेमाघरों में रिलीज़ हो चुकी है. फ़िल्म के रिलीज़ होते ही डायलॉग, कहानी, किरदार यहां तक कि VFX को भी फ़ैंस ने आड़े हाथों लिया है. फ़ैंस का कहना है कि, ये फ़िल्म धार्मिक भावनाओं को आहत करती है. जिस तरह की भाषा का इस्तेमाल किया गया है वो भाषा स्वीकार्य नहीं है. मनोज मुंतसिर शुक्ला जिन्होंने इसके डायलॉग लिखे हैं उनका कहना है कि, ये यूथ की लैंग्वेज है और आज का यूथ इसी तरह की लैंग्वेज से कनेक्ट करता है. लैंग्वेज के अलावा, फ़िल्म के VFX भी कचरा हैं जिन्हें देखने के बाद आंख से आंसूओं ने भी निकलने से मना कर दिया.

ये भी पढ़ें: ‘आदिपुरुष’ की कहानी पर भड़के रामानंद सागर के बेटे, जानिए 1987 की रामायण के बाकी एक्टर्स का रिएक्शन

फ़िल्म का VFX अनुभवी विजुअल इफ़ेक्ट्स सुपरवाइज़र प्रसाद सुतर (Visual Effects Designer Adipurush) की देख रेख में किया गया है. 25 साल के इक्सपीरियंस के बावजूद आज इनका VFX सवालों के घेरे में हैं जबकि प्रसाद ने ‘तानाजी’, ‘बाजीराव-मस्तानी’, ‘डॉन 2’ और ‘राजनीति’ जैसी फ़िल्मों का VFX डिज़ाइन किया है.

इन्होंने अपने करियर की शुरुआत 1998 में फ़िल्म ग़ुलाम से की थी. इस फ़िल्म में वो उस टीम का हिस्सा थे, जिसने चलती ट्रेन के सामने आमिर ख़ान के कूदने का सीन शूट किया था.

IMDb पर उनके BIO में कहा गया है कि, उन्होंने एक CGI एनिमेटर के रूप में शुरुआत की और एक कंपोज़िटर और VFX सुपरवाइज़र के रूप में काम करने के बाद इन्हें VFX डिपार्टमेंट के चीफ़ के तौर पर काम किया. इन सालों में वो सभी भाषाओं में लगभग 150 फ़िल्मों का हिस्सा रहे हैं.

ये भी पढ़ें: कौन हैं ‘Adipurush’ में श्रीराम के पिता का रोल निभाने वाले दशरथ, जो असल ज़िंदगी में हनुमान भक्त हैं

2015 में, VFX सुपरवाइज़र नवीन पॉल के साथ मिलकर और अजय देवगन के प्रोडक्शन हाउस के सहयोग से सुतर ने NY VFXWaala नाम की अपनी कंपनी शुरू की. इस कंपनी तहत प्रसाद ने बाजीराव मस्तानी और तान्हा जी के लिए VFX डिज़ाइन किये थे. बाजीराव-मस्तानी के VFX लिए ज़ी सिने अवॉर्ड और तान्हा जी के VFX के लिए फ़िल्मफ़ेयर अवॉर्ड जीता था.

हालांकि, पिछले साल ‘आदिपुरुष’ का टीज़र लॉन्च हुआ जिसके बाद प्रतिक्रियाओं का सैलाब देखकर NY VFXWaala ने एक बयान जारी किया कि, उन्होंने फ़िल्म पर काम नहीं किया है. ट्रेड एनालिस्ट तरण आदर्श द्वारा साझा किए गए बयान को पढ़ें, ‘हम इसे रिकॉर्ड पर रख रहे हैं क्योंकि हमसे कुछ मीडिया के लोगों ने पूछा है.’

India Today के साथ हाल ही में एक इंटरव्यू में, सुतर ने फ़िल्म के दृश्य प्रभावों को मिली ट्रोलिंग के बारे में बात की और कहा,

हम चीज़ों को पूरी तरह से नहीं बदल सकते. प्रतिक्रिया के बाद जो मूल चुनौती बनी रही, वो एनीमेशन में पात्रों को फिर से ठीक करना था. हमने इसे ठीक किया. हमें जो थोड़ा समय मिला उसमें हमने केवल चीज़ों को सुधारने की दिशा में काम किया. हम इसे और अधिक वास्तविक बना रहे हैं.

आपको बता दें, ओम राउत द्वारा निर्देशित आदिपुरुष में प्रभास (राघव), कृति सेनन (जानकी), देवदत्त नागे (हनुमान), सनी सिंह (लक्ष्मण) और सैफ़ अली खान (रावण) मुख्य किरदारों में हैं.