हर इंसान अपनी अलग पहचान बनाना चाहता है. सबकी आरज़ू होती है कि दुनिया उसके नाम और काम से वाकिफ़ हो. मगर कभी-कभी ज़िंदगी में हालात ऐसे बनते हैं कि लोगों की पहचान ही उनके रास्ते का रोड़ा बन जाती है. हिंदी फिल्मों को शास्त्रीय संगीत से रू-ब-रू कराने वाले नौशाद साहब (Naushad Ali) के साथ भी कुछ ऐसा ही हुआ था. 

Naushad ali
Source: dailyo

नौशाद अली की ज़िंदगी में एक वक़्त ऐसा भी आया था, जब उन्हें म्यूज़िक कंपोज़र की अपनी पहचान छोड़कर टेलर बनना पड़ गया था. आइये जानते हैं नौशाद साहब की ज़िंदगी से जुड़ा ये रोचक क़िस्सा.

ये भी पढ़ें: क़िस्सा: जब नसीरुद्दीन शाह पर दोस्त ने चाकू से कर दिया था हमला, इस एक्टर ने बचाई थी जान

नौशाद अली का जन्म साल 1919 को लखनऊ में मुंशी वाहिद अली के घर में हुआ था. बचपन से ही उन्हें फ़िल्में देखने और संगीत सुनने का शौक़ था. काफ़ी स्ट्रगल के बाद उन्हें 1940 में पहला ब्रेक मिला था. 'प्रेम नगर' फ़िल्म से नौशाद साहब ने अपने संगीत निर्देशन की शुरुआत की. साल 1944 में आई 'रतन' फ़िल्म के गाने काफ़ी सफ़ल हुए. 'अंंखियां मिला के जिया भरमा के चले नहीं जाना' गाना लोगों का काफ़ी पसंद आया. 

music
Source: gaonconnection

मगर ये वो वक़्त था, जब फ़िल्मी सितारों को आम लोग अच्छी नज़रों से नहीं देखते थे. नौशाद साहब भी इससे अछूते नहीं थे. दरअसल, उनकी शादी के लिये जब भी रिश्ता देखा जाता तो, लड़की वाले उनके काम के कारण शादी से इन्कार कर देते. ऐसे में उनके पिता ने कहना शुरू कर दिया कि उनका लड़का मुंबई में टेलर का काम करता है. 

नौशाद साहब ने भी ख़ुद को वाक़ई में ट्रेलर दिखाने के लिये बोल दिया कि 'मैं अचकन और कुर्ता बहुत अच्छे से सिल लेता हूं.' ये तरीका काम भी आ गया. नौशाद साहब की शादी तय हो गयी.

rafi
Source: googleusercontent

कहते हैं जब लखनऊ में उनके घर पर शादी हो रही थी, तब रतन फ़िल्म का गाना 'अंंखियां मिला के जिया भरमा के चले नहीं जाना' लाउड स्पीकर पर बज रहा था. उसे सुन नौशाद साहब के ससुर ने कहा, 'इस तरह के गाने इस समाज को बर्बाद कर रहे हैं. जिसने ये गाना बनाया है उसे जूतों से पीटना चाहिए.'

ये सुनकर नौशाद साहब डर गये थे. मगर कोई नहीं जानता था कि इस गाने के पीछे उनका ही दिमाग़ है. ख़ैर, किसी तरह उनकी शादी हो गयी. हालांकि, बाद में सभी लोगों को नौशाद साहब की असली पहचान मालूम पड़ गयी थी. मगर उस वक़्त तक वो देश का एक बड़ा और माना-जाना नाम बन चुके थे. 

naushad
Source: gaonconnection

उन्होंने अपने फ़िल्मी करियर में एक से बढ़कर एक संगीत दिये.  'जब दिल ही टूट गया...', 'आवाज दे कहां है..', आ जा मेरी बरबाद मोहब्बत के सहारे...', 'मन तड़पत हरि दर्शन को आज..', 'गाए जा गीत मिला के...' ,'ये जिंदगी के मेले, दुनिया में कम ना होंगे..' ये सभी गीत हिंदी फ़िल्म संगीत की अमर विरासत का अभिन्न अंग बन गये. 

नौशाद साहब पहले संगीतकार थे, जिन्हें फ़िल्मफ़ेयर पुरस्कार से सम्मानित किया गया था. 1981 में 'दादा साहेब फाल्के' सम्मान और साल 1992 में 'पद्म भूषण' से नवाज़ा गया. बता दें, साल 2006 में इस महान संगीतकार ने दुनिया को अलविदा कह दिया था.