महाराष्ट्र सरकार ने कड़े दिशा-निर्देशों के बीच बॉलीवुड व टीवी इंडस्ट्री को शूटिंग शुरू करने की इजाज़त दे दी है. इसे लेकर महाराष्ट्र सरकार, प्रोड्यूसर्स गिल्ड ऑफ़ इंडिया और फ़ेडरेशन ऑफ़ वेस्टर्न इंडिया सिने एम्प्लॉइज (FWIC) ने मिलकर एक गाइडलाइन्स भी जारी की है.

इस गाइडलाइंस के तहत 65 वर्ष से अधिक उम्र वाले कलाकार व तकनीशियन को सेट से दूर रहने के निर्देश दिए हैं. 10 साल से कम उम्र क्र बच्चे भी नहीं कर पाएंगे काम. ये कदम उनके स्वास्थ्य की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए उठाया गया है.

Source: pinterest

महाराष्ट्र सरकार की ओर से जारी किए शर्त लागू होने के बाद अमिताभ बच्चन, धर्मेंद्र, अनुपम खेर, नसीरुद्दीन शाह, मिथुन चक्रवर्ती, परेश रावल, अनु कपूर कबीर बेदी और शक्ति कपूर जैसे बॉलीवुड के तमाम एक्टर्स पर बेरोज़गारी का ख़तरा मंडरा रहा है. इसके साथ ही 65 साल से अधिक उम्र के बॉलीवुड निर्माताओं, निर्देशकों, लेखकों, गीतकारों, तकनीशियनों और पर्दे के पीछे काम‌ करने वाले तमाम लोगों को भी कोरोना के ख़तरे के बीच शूटिंग करने की इजाज़त नहीं होगी.

Source: abplive

इसी के मद्देनजर अब 'इंडियन फ़िल्म ऐंड टेलीविजन डायरेक्टर्स एसोसिएशन' ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को पत्र लिखकर 65 साल से अधिक उम्र के कलाकारों, निर्माता, निर्देशकों, गीतकारों, लेखकों को शूटिंग और उससे जुड़ी प्रक्रिया में हिस्सा लेने के लिए इजाज़त देने की मांग की है और सरकार को अपनी इस शर्त पर पुनर्विचार कर‌ने की मांग की है.

इस मामले में 'फ़ेडरेशन ऑफ़ वेस्टर्न इंडिया सिने एम्प्लॉइज' के अध्यक्ष बी एन तिवारी का कहना है कि, उम्रदराज लोगों पर पाबंदी इसलिए लगाई गई है, क्योंकि उनको रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर होती है. ऐसे में अगर कोई संक्रमित हुआ तो सारा काम 14-15 दिनों के लिए रुक जाएगा, जिससे निर्माताओं को भी दिक्कत हो सकती है.

Source: indiatoday

इस दौरान जिस यूनिट के साथ पहले से ही उम्रदारज लोग जुड़े हुए थे, उन्हें पेमेंट की जाएगी. जिन बुजुर्गों को आर्थिक समस्या है, हम कोशिश करेंगे कि निर्माताओं से बात करके उन्हें घर बैठे ही पैसे दिलवाएं, क्योंकि वो उनके साथ कई सालों से काम करते आए हैं. हमारा मकसद जानबूझ कर किसी के काम को रोकना नहीं है. किसी भी नए उम्रदराज तकनीशियन या एक्टर्स को फिलहाल काम पर नहीं रखा जाएगा.

लॉकडाउन के बीच शूटिंग की एक अन्य शर्त ये भी है कि शूटिंग के वक्त सेट पर एक डॉक्टर और एक नर्स की मौजूदगी भी अनिवार्य होगी.