हाल ही में पंजाब में ज़हरीली शराब पीने से 86 लोगों की दर्दनाक मौत हो गई थी. अकेले तरनतारन ज़िले में 40 लोगों की मौत हुई थी. इस हादसे में कई परिवारों के एकमात्र कमाऊ सदस्य ज़हरीली शराब की भेंट चढ़ चुके हैं. इस दौरान कई पत्नियां विधवा जबकि कई बच्चे अनाथ हो गए हैं.

Source: tribuneindia

ज़हरीली शराब की भेंट चढ़ने वालों में से एक तरनतारन के ऑटो चालाक सुखदेव सिंह भी थे. पति की मौत का दर्द सहन न कर पाने से पत्नी की भी मौत हो गई. इसके बाद उनके 4 बच्चे कर्णवीर (13), गुरप्रीत (11), अर्शप्रीत (9) और संदीप (5) अनाथ हो गए. ये बच्चे फ़िलहाल अपने चाचा सरवन सिंह के साथ रह रहे हैं.

Source: aajtak

द ट्रिब्यून से बातचीत में सरवन सिंह ने कहा, 'मैं ख़ुद एक ऑटो चालक हूं, मेरे ख़ुद के 4 बच्चे हैं. मेरी कमाई इतनी नहीं है कि मैं अपने परिवार के साथ-साथ इन बच्चों की देखभाल भी कर सकूं.

इस बीच बॉलीवुड एक्टर सोनू सूद इन चारों बच्चों के लिए मसीहा बनकर सामने आये हैं. सोनू ने इन बच्चों की देखभाल की पूरी ज़िम्मेदारी ली है. सोनू को इन बच्चों के बारे में जानकारी पंजाब में उनके एक दोस्त ने दी थी.

Source: economictimes

सोनू सूद ने ट्वीट करते हुए लिखा, 'मैं विश्वास दिलाता हूं कि पंजाब के इन छोटे बच्चों के पास एक अच्छा घर, अच्छा स्कूल और आगे एक उज्ज्वल भविष्य होगा'.

द ट्रिब्यून से बात करते हुए सोनू सूद ने कहा, वो बच्चे अब अनाथ नहीं हैं. मैं उनकी देखभाल करने के लिए हरवक़्त मौजूद हूं. मैं पिछले कुछ समय से पंजाब की इस शराब त्रासदी की ख़बर सुन रहा था. जब मुझे तरनतारन के इन 4 बच्चों के बारे में पता चला उसके बाद मैंने इनकी मदद करने का फ़ैसला किया है. मैंने चंडीगढ़ में रहने वाले अपने दोस्त करण गिल्होत्रा को इन बच्चों की मदद के लिए भेजा है.

Source: jagran

सोनू सूद के दोस्त और पंजाब 'PHD चैम्बर्स ऑफ़ कॉमर्स' के अध्यक्ष करण गिल्होत्रा ने कहा कि, इन बच्चों के लिए पंजाब के अबोहर में 'माता चया आश्रम' शॉर्टलिस्ट किया गया है. अगर उनके अभिभावक अनुमति देते हैं, तो हम बच्चों को जल्द ही वहां स्थानांतरित कर देंगे. यहां पर उनके पास घरेलू माहौल होगा और उनकी शिक्षा का पूरा ख़याल हमारे द्वारा रखा जाएगा.