मधुर जाफ़री (Madhur Jaffrey), जिन्हें लोग First Lady Of Global Indian Cuisine के तौर पर जानते हैं. उन्हें गणतंत्र दिवस से पहले आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान केंद्र सरकार द्वारा पद्म सम्मान दिया गया. इस लिस्ट में 128 लोगों का नाम शामिल था, जिनमें से 17 लोगों को पद्म भूषण दिया गया है, जिनमें से एक थीं मधुर जाफ़री. इन्होंने भारत के ज़ायके को विदेश तक पहुंचाया और सिर्फ़ पहुंचाया नहीं, बल्कि उसका चस्का लगा दिया. मधुर एक अच्छी कुक होने के साथ-साथ एक बेहतरीन एक्ट्रेस और राइटर भी हैं.

ये भी पढ़ें: सईद जाफ़री: वो संजीदा अभिनेता, जो शेक्सपियर के नाटकों का मंचन करने अमेरिका के टूर पर गए थे

Madhur Jaffrey

13 अगस्त 1933 में दिल्ली के सिविल लाइन्स में जन्मीं मधुर 6 भाई बहनों में पांचवें नम्बर पर हैं. इन्होंने ग़ुलाम भारत से लेकर आज़ाद भारत तक के सफ़र को देखा और महसूस किया है. दिल्ली की होने की वजह से खाने की शौक़ीन होना तो लाज़िमी है और मधुर के घर में भी को खाने का शौक़ था. इसके अलावा, जब विभाजन हुआ तो उन्हें रेफ़्यूज़ी पंजाबियों के यहां बनने वाले व्यंजनों को खाने का मौक़ा मिला.

मधुर ने अपनी पहली बुक साल 1973 में लिखी थी, जिसका टाइटल An Invitation to Indian Cooking था. इस बुक ने दुनिया को भारतीय ज़ायकों की ख़ुशबू से रू-ब-रू कराया. ये बुक इतनी फ़ेमस हुई की इसे 2006 में James Beard Foundation के Cookbook Hall Of Fame में शामिल किया गया था. मधुर अब तक कई कुकबुक लिख चुकी हैं. साल 2006 में इन्होंने Memoir Climbing The Mango Trees लिखी थी, जिसमें मधुर के बचपन के बारे में पता चलता है क्योंकि इस बुक में इन्होंने राज नारायण मार्ग का उल्लेख किया है जहां इनका बचपन बीता है. इस मार्ग का नाम इनके दादा के नाम पर रखा गया था. 

Climbing The Mango Trees
Source: ssl-images-amazon

इसके अलावा, मधुर ने कई कुकरी शोज़ में हिस्सा लिया है. इनका पहला इंडियन कुकरी शो 1982 में UK में प्रसारित हुआ था. हाल ही में Sex And The City Spin-Off, 'And Just Like That' में देखा गया है. मधुर ने अपने स्वाद से UK और US के बीच अच्छे सांस्कृतिक रिश्ते बनाए, जिसके लिए इन्हें साल 2004 में कमांडर ऑफ़ द ऑर्डर ऑफ द ब्रिटिश एम्पायर (CBE) भी बनाया गया था.

मधुर की शादीशुदा ज़िंदगी की बात करें तो जब वो मिरांडा हाउस से पढ़ाई कर रही थीं, तभी साथ में थिएटर में भी एक्टिव थी. जहां वो 'ऑल इंडिया रेडियो' में पाश्चात्य संगीत का कार्यक्रम पेश करती थीं. यहीं पर उकी मुलाक़ात एक्टर सईद जाफ़री से हुई, जिनसे बाद में मधुर ने शादी कर ली. इनका रिश्ता 1958 से 1965 तक चला. मधुर की तीन बेटियां हैं मीरा, जिया और सकीना.

Madhur Jaffrey
Source: wikibio

अगर बात करें, मधुर जाफ़री ने कहां से अपने कुकिंग की शुरुआत की थी तो जब मधुर एक्टिंग सीखने और पढ़ने के लिए लंदन गईं तो वहां उन्होंने भारतीय खाने को बहुत याद किया. तब उन्होंने अपनी मां से ख़त के ज़रिए कुछ रेसिपी मंगाई, जिसमें से उन्होंने सबसे पहले जीरा आलू बनाया था.

आपको बता दें, मधुर ने सबसे पहले 1975 में इस्माइल मर्चेंट की फ़िल्म Autobiography of a Princess में काम किया था, जिसमें वो चाहती थीं कि उनके साथ शशि कपूर हों, लेकिन उनके अपोज़िट James Mason को कास्ट किया गया था.

Madhur Jaffrey
Source: wikibio

मधुर जाफ़री (Madhur Jaffrey) अकेली ऐसी भारतीय कलाकार हैं जिन्हें बर्लिन फ़िल्म फ़ेस्टिवल (Berlin Film Festival) में बेस्ट एक्ट्रेस का अवॉर्ड मिला है. ये अवॉर्ड उन्हें शेक्सपियर वालह के लिए 1965 में दिया गया था.