Bollywood Stars: राज कपूर Raj Kapoor) ने 18 दिसंबर, 1970 को मेरा नाम जोकर (Mera Naam Joker) के तौर पर भारतीय सिनेमा को एक ख़ूबसूरत तोहफ़ा दिया था. ये फ़िल्म भले ही बॉक्स ऑफ़िस पर ज़्यादा कमाई नहीं कर सकी, लेकिन ये आज भी भारतीय सिनेमा की एक कल्ट फ़िल्म मानी जाती है. आज से 50 साल पहले इस तरह की फ़िल्म की कल्पना करना भी असंभव था, लेकिन राज कपूर ने ऐसा कर दिखाया. इस फ़िल्म को बनाने में उन्होंने अपनी जीवन भर की पूंजी झोंक दी थी. 'मेरा नाम जोकर' फ़िल्म के लिए राज कपूर को अपनी पत्नी के जेवर तक बेचने पड़े थे. इस फ़िल्म में उन्होंने पैसा पानी की तरह बहाया था, जिसकी वजह से 'कपूर ख़ानदान' कंगाली की कगार पर आ गया था.  

ये भी पढ़ें: इन 11 तस्वीरों के ज़रिये जानिए भारतीय सिनेमा की पहली कलर फ़िल्म 'किसान कन्या' बनने की पूरी कहानी

Mera Naam Joker
Source: amazon

'मेरा नाम जोकर' फ़िल्म में ऋषि कपूर ने राज कपूर के बचपन का किरदार निभाया था. बतौर बाल कलाकार ये ऋषि कपूर की पहली फ़िल्म थी. इसके अलावा इस फ़िल्म में राजेंद्र कुमार, मनोज कुमार धर्मेंद्र और सिमी ग्रेवाल ने भी काम किया था. आज हम 'मेरा नाम जोकर' फ़िल्म का ज़िक्र इसलिए कर रहे हैं क्योंकि इसकी वजह से ही बॉलीवुड को ऋषि कपूर के रूप में एक नया सुपरस्टार मिला था.

Rishi Kapoor in Mera Naam Joker
Source: twitter

बात सन 1971-72 की है. राज कपूर 'मेरा नाम जोकर' फ़िल्म की असफ़लता को लेकर बेहद चिंतित थे. उन पर लोगों का काफ़ी कर्ज़ा भी चढ़ चुका था. इस दौरान राजेश खन्ना को लेकर 'बॉबी' नाम की एक फ़िल्म बनने जा रही थी, लेकिन डेट्स की दिक्कतों के चलते उन्होंने ये फ़िल्म करने से इंकार कर दिया. ऐसे में फ़िल्म के राइटर जैनेन्द्र जैन 'बॉबी' की कहानी लेकर राज कपूर के पास गए. इस दौरान राज कपूर के पास इतना पैसा नहीं था कि वो राजेश खन्ना को उनकी फ़ीस दे सके, लिहाजा ये तय हुआ कि हीरो ऐसा लिया जाए जो कम से कम पैसे में आ जाए.

Source: newonnetflix

20 साल के थे ऋषि कपूर  

इस दौरान राज कपूर की नज़र अपने ही बेटे ऋषि कपूर पर पड़ी. ऋषि कपूर तब क़रीब 20 साल के थे. इस तरह से राज कपूर और जैनेन्द्र जैन की रजामंदी से ऋषि कपूर बॉबी (Bobby) फ़िल्म के हीरो बन गए. अब दिक्कत थी फ़िल्म की हीरोइन को लेकर. 70 के दशक की हिट हीरोइन को देने के लिए राज कपूर के पास पैसे थे नहीं. बाकी जो एक्ट्रेस थीं वो उम्र में ऋषि कपूर से बड़ी दिख रही थीं. ऐसे में तय किया गया कि किसी नई अभिनेत्री की तलाश की जाये.

Bobby Film
Source: mxplayer

ये भी पढ़ें: इन 15 तस्वीरों के ज़रिये देख लीजिये भारत की पहली हिंदी फ़ीचर फ़िल्म किस तरह से बनी थी

आख़िरकार राजकपूर ने अपने कुछ दोस्तों की मदद से फ़िल्म की हीरोइन के तौर पर डिंपल कपाड़िया को खोज निकाला. इस तरह से 'बॉबी' फ़िल्म के लिए ऋषि कपूर और डिंपल कपाड़िया की नई जोड़ी बनी थी. राज कपूर के निर्देशन में बनी इस फ़िल्म के प्रोड्यूसर भी वो ख़ुद ही थे. आख़िरकार 28 सितंबर 1973 को 'बॉबी' रिलीज़ हुई और फ़िल्म बॉक्स ऑफ़िस पर सुपरहिट साबित हुई.

Bobby Film
Source: bollywoodhungama

इस फ़िल्म में ऋषि कपूर और डिंपल कपाड़िया के अलावा प्राण, अरुणा ईरानी, प्रेम चोपड़ा, प्रेम नाथ और फ़रीदा जलाल जैसे कलाकार भी थे. क़रीब 1.4 करोड़ रुपये के बजट में बनी 'बॉबी' ने बॉक्स ऑफ़िस पर क़रीब 30 करोड़ रुपये की कमाई की थी. इस फ़िल्म की सफ़लता ने राज कपूर के सारे क़र्ज़ भी उतार दिए थे.

Bobby Film
Source: filmcompanion

अगर राज कपूर की फ़िल्म 'मेरा नाम जोकर' फ़्लॉप न हुई होती और राज कपूर कंगाल न हुए होते तो फ़िल्म 'बॉबी' के हीरो राजेश खन्ना ही होते और बॉलीवुड को ऋषि कपूर के रूप में एक नया सुपरस्टार न मिलता.

ये भी पढ़ें: इन 15 तस्वीरों में देखिए भारतीय सिनेमा की पहली साउंड फ़िल्म 'आलम आरा' किस तरह से बनी थी