टेलीविज़न के जाने-माने अभिनेता रोहित रॉय ने हाल में ही इंस्टाग्राम पर अपनी दो तस्वीर शेयर की हैं. इनमें से एक रियल है, तो दूसरी किसी शोबिज़ के लिये. यहां मुद्दा एक्टर की शर्टलेस तस्वीरों का नहीं, बल्कि उन तस्वीरों के कैप्शन का है.

Source: Bollywood Life

तस्वीरों के ज़रिये रोहित ने एक गंभीर मुद्दे पर बात की है, जिसका वास्ता आज की सोशल मीडिया लाइफ़ से है. ये बात सच है कि सोशल मीडिया ने आज के युवाओं के लिये कई रोज़गार और कई अच्छी चीज़ें उत्पन्न की हैं, लेकिन इसके साथ ही कुछ लोग सोशल मीडिया को अपनी ज़िंदगी की हकीक़त मान बैठे हैं. इस बारे में रोहित रॉय ने भी लोगों से अपने विचार साझा किये हैं.

Source: smallbiztrends

दरअसल, कुछ दिन पहले रोहित Ted Talks इवेंट के लिए अहमदाबाद गये थे. वहां वो 15-16 के कुछ युवाओं से मिले. इन बच्चों से मिलने के बाद रोहित को काफ़ी अजीब सा महसूस हुआ, क्योंकि ये सभी के सभी सोशल मीडिया अवसाद से ग्रसित थे. यानि सभी युवा सोशल मीडिया से इतने प्रभावित थे कि उसके अलावा इन्हें कुछ समझ ही नहीं आ रहा था.

Source: storypick

रोहित के पोस्ट के मुताबिक, एक ग़रीब बच्चा सोशल मीडिया के कारण कई दिन तक अपने कमरे से बाहर ही नहीं निकला, क्योंकि स्कूल के बाद उसके कुछ दोस्त छुट्टियों पर कहीं जाने का प्लान बना रहे थे. वहीं एक युवा लड़का Hormones लेने की सोच रहा था, क्योंकि उसके स्कूल किसी लड़के ने सोशल मीडिया पर अपनी शर्टलेस तस्वीर पोस्ट की थी. यही नहीं, छात्रों के इस झुंड में एक लड़की अपने मम्मी-पापा को विदेश ट्रिप के लिये मनाने की कोशिश कर रही थी, क्योंकि उसके दोस्त भी ट्रिप का प्लान बना रहे थे. वहीं जब उसके मम्मी-पापा नहीं माने, तो वो बीमार पड़ गई.

View this post on Instagram

On my recent trip to Ahmedabad for a Ted talk, I met with a bunch of young millennials , hardly 15-16, n I was disturbed by some of the stories I heard.. a lot of them suffered from depression caused by social media.. one of them felt so terribly left out of what her friends were up to after school and on their vacays that the poor kid refused to come out of her room for days.. a young boy was thinking of taking hormones (at 16!!) coz another kid from his school has posted a bare body picture n he felt inadequate.. yet another one tried her best to force her parents to take her to a ‘foreign’ holiday simply because her friends were going.. when they didn’t/couldn’t, she developed a fever!!! Couple of them admitted to getting anxiety attacks because of social media pressure... one of them had it so bad that he needed intervention from a psych !! I’m so so saddened with this as I am also a father n my girl has just turned 16. I feel compelled to share this piece with all you kids out there.. firstly, social media is nothing but looking at life through rose tinted glasses.. people usually exaggerate to make the post sound better and photoshop pictures to make themselves look nicer.. so please , DO NOT base your life on what is being put out there.. make real connections, not digital ones.. secondly, going for a foreign holiday by burning a hole in your fathers pocket is absolutely foolish n useless.. Travel is fantastic but within your means and there is so much one can see in India.. our country’s diversity will blow your mind finally, understand this.. no one puts a picture of a misshapen body out there.. only their best angles.. so do not get disturbed that your appearance doesn’t hold up.. celebrate what you have.. I’m still in shock at these reasons for young ones like yourselves getting panic attacks because of social media .. I beg you to live in the real world with real joy and real problems.. to cite an example , I’ll post a picture which no actor will put out but I hope it helps you understand my point.. This picture is what I must be coz my profession demands it.. swipe left and see what I look like on my breaks! Don’t let social media consume you!

A post shared by Rohit Roy (@rohitroy500) on

इनमें से कई लोगों ने स्वीकार किया कि ऐसा वो सिर्फ़ सोशल मीडिया के प्रेशर में आकर कर रहे हैं.

सोशल मीडिया का इस्तेमाल सही चीज़ों के लिये करिये, न कि इसे अपनी ज़िंदगी समझ बैठिए.