'होशवालों को ख़बर क्या बेख़ुदी क्या चीज़ है

इश्क़ कीजिए फिर समझिए ज़िन्दगी क्या चीज़ है...'


जगजीत सिंह की आवाज़ में ये सदाबहार ग़ज़ल आज भी वही एहसास देती है, जैसा आज से कुछ साल पहले देती थी. 30 अप्रैल 1999 को रिलीज़ हुई सरफ़रोश में ये ग़ज़ल थी.

जितनी ख़ूबसूरत ये ग़ज़ल है, उतनी ही ख़ूबसूरत है इसकी पिक्चराइज़ेशन. आमिर ख़ान और सोनाली बेंद्रे ने बेहद संजीदा अभिनय किया है. John Matthew Matthan द्वारा लिखित, निर्देशित और प्रोड्यूस की गई सरफ़रोश को गूगल 'Above Average' बताता है पर इस फ़िल्म का एक-एक किरदार बेहतरीन है.


गुल्फ़ाम हसन की भूमिका में नसीरुद्दीन शाह को शायद ही कोई भूल सकता है. यही फ़िल्म नवाजु़्द्दीन सिद्दीकी की डेब्यू फ़िल्म भी थी.

फ़िल्म में जहां दमदार डायलॉग थे, वहीं दिल में उतर जाने वाले शेर भी. कुछ चुनिंदा शेर व डायलॉग पेश कर रहे हैं:

फ़ेवरेट कौन सा है कमेंट बॉक्स में बताना!

Cool Designs by: Nupur