गुरुग्राम की रहने वाली 13 वर्षीय अनुष्का जॉली (Anoushka Jolly) ने सोनी के टीवी रियलिटी शो Shark Tank India के मंच पर कमाल कर दिखाया है. अनुष्का 'शार्क टैंक इंडिया' शो में सबसे कम उम्र की प्रतिभागी बन सुर्खियों में हैं. देश के दिग्गज निवेशकों के सामने अपने स्टार्टअप का अनोखा विचार पेश करने वाली अनुष्का ने अपने सोशल स्टार्टअप एंटी बुलिंग स्क्वॉड (Anti Bullying Squad) से शार्क टैंक के जजों का दिल जीत लिया.

ये भी पढ़ें: Shark Tank India: नमिता से लेकर अमन गुप्ता तक, जानें अब तक कितना निवेश कर चुके हैं ये Sharks

Anoushka Jolly on Shark Tank India show
Source: indiatvnews

दरअसल, 13 साल की अनुष्का जॉली अपने एंटी-बुलिंग ऐप कवच (Kavach) को लेकर Shark Tank India में भाग लेने पहुंची थीं. इस दौरान शो के सभी जजेस को ये आइडिया काफ़ी पसंद आया और उनके स्टार्टअप को Shark Tank India से 50 लाख रुपये की फंडिंग मिली है. अनुष्का को 'पीपल ग्रुप' के संस्थापक और सीईओ अनुपम मित्तल और 'बोट' के सह-संस्थापक अमन गुप्ता ने फ़ंडिंग की है.

Shark Tank India

Anoushka Jolly on Shark Tank
Source: indiatvnews

शो के दौरान अनुष्का ने बताया कि,

मैं स्कूल के वार्षिक दिवस में भाग ले रही थी, जब मेरे दोस्तों ने 6 साल की एक बच्ची को धमकाने का फ़ैसला किया. इस दौरान वो उसके पास गए और उसका नाम पुकारने लगे और उस पर हंसने लगे. जल्द ही, मुझे एहसास हुआ कि स्कूलों में समस्या कितनी आम है और मेरी उम्र के कई अन्य बच्चे आत्मविश्वास खोने का शिकार हो रहे हैं. इस दौरान मैंने देखा कि इनमें से अधिकतर घटनाओं की रिपोर्ट ही नहीं की जाती है. इसलिए मुझे घटनाओं की गुमनाम रूप से रिपोर्ट करने के लिए एक बुलिंग रिपोर्टिंग मोबाइल ऐप 'कवच' बनाने का विचार आया.
Anoushka Jolly with his Father on Shark Tank
Source: antibullyingsquad
जब मैं छोटी थी तो मैं भी स्कूल में बुलिंग का शिकार हुई थी. इस दौरान मैंने देखा कि स्कूल में हर 5 में से 1 बच्चा बुलिंग का शिकार हो रहा है. इसके बाद 3 साल पहले मैंने एंटी बुलिंग स्क्वॉड (Anti Bullying Squad) नाम से एक मुहिम शुरू की. इस दौरान मैंने एंटी बुलिंग स्क्वॉड (Anti Bullying Squad) की वेबसाइट के ज़रिए स्टूडेंट्स की मदद की. इसके बाद मैंने 'कवच' ऐप की शुरुआत की. इसके के ज़रिए हर एक बच्‍चे तक पहुंचकर दुनिया को फ्रेंडली बनाना चाहती हूं. मैं उन्‍हें बुलिंग के ख़िलाफ़ सशक्‍त करना चाहती हूं.
Anoushka Jolly on Shark Tank
Source: indianexpress

एंटी बुलिंग स्क्वॉड एक वेब प्लेटफ़ॉर्म 

अनुष्का जॉली (Anoushka Jolly) का ये 'एंटी बुलिंग स्क्वॉड' एक वेब प्लेटफ़ॉर्म है जो एक्सपर्ट्स की मदद से स्कूलों में इंडीविजुअल वन ऑन वन सेशन्स आयोजित करता है. इसके अलावा ये 'एंटी बुलिंग मर्चेंडाइज' की बिक्री भी करता है. एंटी बुलिंग ऐप कवच (Kavach) बुलिंग यानी डराने-धमकाने से रोकने में मददगार साबित होगा. ये बिना नाम बताए रिपोर्ट भी करेगा. ये प्लेटफ़ॉर्म बच्चों को बदमाशी और उसके परिणामों को बेहतर ढंग से समझने के लिए बनाया गया है. (Shark Tank India)

Anoushka Jolly
Source: deccanherald

BYJU'S Young Genius से बातचीत में अनुष्‍का जॉली का कहना था कि, 'किसी को जानबूझकर नीचा दिखाना ही बुलिंग है. बुलिंग के कारण व्‍यक्ति को डिप्रेशन और एंजाइटी जैसी समस्‍याएं हो सकती हैं. इसी बात को ध्यान में रखते हुये मुझे एंटी बुलिंग स्क्वॉड (Anti Bullying Squad) का आइडिया आया था'. (Shark Tank India)

Anoushka Jolly
Source: wikimedia

अनुष्का जॉली (Anoushka Jolly) पिछले 3 साल से एंटी बुलिंग स्क्वॉड (Anti Bullying Squad) के ज़रिए अलग-अलग स्कूलों में जाकर स्टूडेंट्स को प्रेरित कर रही हैं. गुरुग्राम के 'पाथवेज स्कूल' में 8वीं की छात्रा अनुष्का अब तक 100 से ज्यादा स्कूलों में स्टूडेंट्स को जागरुक कर चुकी हैं. 'एंटी बुलिंग स्क्वॉड' की अपनी वेबसाइट भी है. जब स्‍कूली बच्‍चे इस वेबसाइट पर विजिट करते हैं तो अनुष्का उनके साथ बात करती हैं. इस दौरान वो स्टूडेंट्स का बुलिंग के बारे में विस्तार से समझाती हैं. 

ये भी पढ़ें: इन 11 तस्वीरों में देखिये Shark Tank India के जज रहे अशनीर ग्रोवर की लक्ज़री लाइफ़स्टाइल