पंचायत (Panchayat) Web Series देखी है, अगर नहीं भी देखी हो तो ये ऐतिहासिक सीन (Secne) और इससे निकला वायरल मीम (Viral Meme)तो देखा ही होगा. नहीं? ये लीजिये रिविज़न (Revision) कर लीजिए- 

हां तो ये दूल्हा और इसका ऐस@# ([email protected]#!ole) बोलने पर रोना शायद ही कोई भूल पाये. छोटा सा रोल लेकिन इतना प्रभावशाली की ये चेहरा और चक्कावाला कुर्सी दोनों ही दिमाग़ में बैठ गये. ये अभिनेता हैं, आसिफ़ ख़ान. 

हाल ही में नेटफ़्लिक्स (Netflix) पर आई पगलैट (Pagglait) में भी आसिफ़ ख़ान ने परचून का किरदार निभाया और उसका डायलॉग, 'ये खाना तो आस्तिक भैया भी नहीं खा पाये' दर्शकों के मन में बस गया. परचून ये बात संध्या से कहता है, जिसे पति के गुज़रने के बाद सादा सा खाना दिया जा रहा था. संध्या का किरदार, सान्या मल्होत्रा (Sanya Malhotra) ने निभाया है. 

Aasif Khan Pagglait
Source: The Better India

आसिफ़ ख़ान ने मिर्ज़ापुर में मक़बूल के भांजे, बाबर का किरदार निभाया था.  

पाताल लोक के कबीर एम याद हैं?

Aasif Khan Pataal Lok
Source: Tribune India

कौन हैं परचून और गणेश का किरदार निभाने वाले आसिफ़? 

राजस्थान के चित्तौड़गढ़ के निम्बाहेडा गांव के आसिफ़ ख़ान का जीवन संघर्षों से भरा है. उनके पिता JK Cement में काम करते थे, आसिफ़ से भी लोगों को यही उम्मीद थी कि वो पढ़ाई पूरी करके सीमेंट फ़ैक्ट्री में काम करेंगे लेकिन वो भेड़ चाल चलने वालों में से नहीं थे. आसिफ़ को पढ़ाई में भी बहुत रूचि नहीं थी और उन्हें ठीक-ठाक नंबर मिल जाते थे.

The Better India से बात-चीत में आसिफ़ ने अपने ज़िन्दगी के कुछ क़िस्से साझा किये. आसिफ़ ने बताया कि वो 5वीं कक्षा में थे. स्कूल प्ले में कॉमिक रिलीफ़ (Comic Relief) के लिये किसी को ग़लती से पैंट खुल जाने का रोल करना था. इस रोल के लिये कोई तैयार नहीं हो रहा था और आसिफ़ ने वो रोल किया. आसिफ़ ने इस रोल को लोगों को हंसाने का मौक़ा के रूप में देखा और लोगों को हंसाया.  

Aasif Khan Picture
Source: Desi Kaannon

राजू श्रीवास्तव से हुए प्रभावित 

2000 के मध्य में उन्होंने The Great Indian Laughter Challenge देखना शुरू किया और राजू श्रीवास्तव से काफ़ी प्रभावित हुए. आसिफ़ ने भी लोकल स्टैंड-अप कॉमेडी (Stand-Up Comedy) प्रतियोगिताओं में हिस्सा लेना शुरू किया.

इसके साथ ही आसिफ़ गली-मोहल्ले में प्रोग्राम होस्ट करने लगे. उन्हें कभी पब्लिक देखकर डर नहीं लगा.   

पिता के देहांत के बाद परिवार को संभाला 

2008 में आसिफ़ के पिता का देहांत हो गया. आसिफ़ ने इवनिंग स्कूल जाना शुरू किया. परिवार की सहायता करने के लिये आसिफ़ ने एक टेलिकॉम कंपनी (Telecom Company) में काम शुरू किया. 

Aasif Khan Childhood
Source: The Better India

घर छोड़कर सपनों के पीछे भागे 

बड़े भाई को नौकरी मिलने के बाद आसिफ़ ने मुंबई जाकर एक्टिंग में हाथ आज़माने की इच्छा ज़ाहिर की लेकिन उनके हाथ निराशा ही लगी. आसिफ़ से पहले किसी ने एक्टिंग की दुनिया में क़दम नहीं रखा था, उनके परिवार में इंजीनियर्स और डॉक्टर्स ही थे.

2010 में स्कूल छोड़कर आसिफ़ घर से भाग गये. आसिफ़ ने ट्रेन ली और अगली सुबह 7 बजे बोरिवली पहुंचे. भूख, प्यास और ढेर सारे लोग, आसिफ़ के लिये ये सारे एहसास नये थे. 

Source: Patrika

Waiter की नौकरी की 

आसिफ़ एक दोस्त के घर पर भाईंदर (Bhayandar) क्षेत्र में रहे और नौकरी की तलाश शुरू की. एक 11वीं पास को कोई नौकरी नहीं देना चाहता था. आख़िरकार आसिफ़ को एक 5 स्टार होटल में वेटर की नौकरी मिली. इसके साथ ही उन्होंने ऑडिशन्स देने शुरू किया.

9 लड़कों के साथ एक कमरे में रहना और पोहा, वड़ा-पाव पर जीना आसिफ़ ने सीख लिया.  

aasif khan theatre
Source: Wiki Bio

जयपुर के थियेटर ग्रुप से सीखा अभिनय 

आसिफ़ को कई बार रिजेक्शन का सामना करना पड़ा लेकिन इस समय तक उनकी मां साथ आ गई थीं. उनकी मां उन्हें Support करती और कहती कि वो एक दिन एक्टर बनेंगे. जयपुर के सार्थक ख़ान के थियेटर ग्रुप से आसिफ़ जुड़ गये. आसिफ़ ने पहले सोचा कि वो 6 महीने ही ग्रुप के साथ रहेंगे लेकिन वो 6 साल तक इस थियेटर ग्रुप के साथ जुड़े रहे. इरफ़ान ख़ान ने भी इस ग्रुप के साथ थियेटर किया है. 

क्राइम पेट्रोल में और बड़ी फ़िल्मों में रोल 

आसिफ़ ने बतौर जूनियर आर्टिस्ट, एक लाइन के सीन, एक टीवी एपिसोड, बड़े-बड़े स्टार्स के साथ 4-5 सीन किये लेकिन धैर्य रखा.

क्राइम पेट्रोल के भी कुछ एपिसोड्स में नज़र आये आसिफ. आख़िरकार वो दिन आ गया जिसका आसिफ़ को इंतज़ार था, आसिफ़ को Toilet-Ek Prem Katha और Pari में रोल मिला लेकिन उनके रोल फ़ाइनल कट में नहीं दिखे. आसिफ़ को कोई भी ये नहीं बताता था कि उनके सीन काटे गये हैं लेकिन इतने के बाद भी आसिफ़ ने हार नहीं मानी. 2019 में आसिफ़ को India's Most Wanted के लिये चुना गया.  

Source: The Indian Express

पंचायत के रोल के लिये किया था मना 

बहुत कम लोगों को पता होगा लेकिन आसिफ़ ने Panchayat के रोल के लिये मना कर दिया था क्योंकि उन्होंन Mirzapur और Paatal Lok के लिये साइन कर दिया था. Panchayat के निर्देशक, दीपक मिश्रा ने आसिफ़ को मनाया और वो छोटा सा रोल ऐतिहासिक बन गया.  

आसिफ़ ने अभी सफ़र की शुरुआत ही कि है और वेब सीरिज़ में छोटे किरदार ही निभाये हैं. और वो किरदार ऐसे हैं कि दर्शकों के ध्यान में रह गये. आमतौर पर साइड रोल वाले अभिनेताओं को दर्शक याद नहीं रखते लेकिन आसिफ़ का अभिनय सभी सीरीज़ में दर्शकों को पसंद आया.