सुनील दत्त, फ़िल्म इंडस्ट्री का ऐसा नाम, जिसने कई स्टार्स की ज़िन्दगी बना दी.


'जानी दुश्मन', 'मदर इंडिया', 'पड़ोसन', 'साया' जैसी बेहतरीन फ़िल्में देने वाले सुनील दत्त के बारे में आपको शायद यह पता न हो कि सुनील दत्त ने ही सदी के महानायक, अमिताभ बच्चन को बॉलीवुड में पहला ब्रेक दिलवाया था.

Source: Bangla Worldwide

इंदिरा गांधी ने की थी सिफ़ारिश

तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने नरगिस को फ़ोन किया और कहा कि वो चाहती हैं कि सुनील दत्त उनकी दोस्त तेजी बच्चन के बेटे का ऑडिशन ले लें.


नरगिस तुरंत बीआर चोपड़ा से मिलने गईं, जो अमिताभ की तस्वीर से प्रभावित हो गए. जब चोपड़ा साहब को पता चला कि इंदिरा गांधी ने अमिताभ का नाम सुझाया है तो उन्होंने निर्देशक मोहन सहगल को अगले शूट पर उस नए लड़के का ऑडिशन लेने को कहा.

अमिताभ और सुनील दत्त की पहली मुलाक़ात

एक इंटरव्यू में अमिताभ ने कहा था कि वो अजंता होटल में 1000 रुपये प्रति रात के ख़र्च पर रुके थे जो उनके लिए महँगा पड़ रहा था क्योंकि उन्होंने कोलकाता के Bird & Co की नौकरी छोड़ दी थी.


पहली ही रात अमिताभ को सुनील दत्त और नरगिस से एक पार्टी में मिलने का मौक़ा मिला. जब अमिताभ पहुँचे, तो दो गेस्ट्स में लड़ाई हो रही थी. हर तरफ़ खाना फेंका जा रहा था और लोग बेपरवाही से खड़े थे.

Source: Bonobology

सुनील दत्त की प्रोडक्शन कंपनी संभालने वाले, राज ग्रोवर ने बाद में अपनी किताब The Legends of Bollywood में लिखा कि वो लड़ाई राज और प्रोड्यूसर केवल कुमार के बीच हुई. केवल ने अमिताभ से हाथ मिलाने से मना कर दिया था और कहा था कि वो नए-नवेलों की पार्टी नहीं है जिससे राज को गुस्सा आ गया था.


इस झमेले के बाद सुनील दत्त ने मामला अपने हाथों में लिया और सभी को अपने घर पर ले जाकर खाना खिलाया.

Source: Bonobology

अमिताभ का पहला ऑडिशन

अमिताभ का पहला ऑडिशन राजश्री प्रोडक्शन्स के ताराचंद बड़जात्या ने लिया था जिन्होंने अमिताभ की लंबाई देखकर कहा कि उनके साथ कोई हीरोइन काम नहीं करेगी और उन्हें अपने पिता की तरह ही कविताएं लिखनी चाहिए.

अमिताभ का दूसरा ऑडिशन

बड़जात्या के रिजेक्ट करने के बाद अमिताभ का अगला स्क्रीन टेस्ट था रूपतारा स्टूडियोज़ में. मोहन सहगल मनोज कुमार के साथ शूट कर रहे थे. मनोज कुमार को जब पता चला कि वो उनके प्रिय कवि के बेटे हैं तो वे उनके साथ बेहद नर्मी से पेश आए. मनोज ने अमिताभ से यह भी कहा कि अमिताभ एक दिन स्टार ज़रूर बनेंगे.


मोहन स्क्रीन टेस्ट के बाद बहुत ख़ुश नहीं हुए और 'ऑल द बेस्ट' कहकर चले गए.

Source: Deccan Chronicle

सुनील दत्त ने दिया पहला रोल

अमिताभ की पहली फ़िल्म थी - 'रेशमा और शेरा' जिसे सुनील दत्त की कंपनी ने प्रोड्यूस किया था. जब मुंबई में पहली बार में कुछ भी नहीं हुआ तब सुनील ने अमिताभ से वादा किया कि जैसे ही उनके पास अमिताभ के लायक कोई रोल होगा वो फ़ोन करेंगे. सुनील ने अपना वादा अमिताभ को पहला रोल देकर पूरा किया. 'सात हिन्दुस्तानी' को उनकी पहली फ़िल्म इसीलिए माना जाता है क्योंकि यह 'रेशमा और शेरा' से पहले रिलीज़ हो गई थी.

दत्त और बच्चन की ये दोस्ती सालोंसाल क़ायम रही.