क़िस्सा: जब सतीश शाह को एक आइकॉनिक फ़िल्म की फ़ीस 50-100 रुपये की किश्तों में मिली थी