सेलेब्स के लिए अपनी सफलताओं के बारे में बात करना आसान होता होगा पर अपनी निजी ज़िन्दगी के बारे में, परेशानियों के बारे में बात करना मुश्किल होता है. कैमरे पर मेक-अप की परतों के तले वे हंसते रहते हैं पर अंदर ही अंदर क्या चलता है, अक़सर वे दुनिया से छिपाते हैं.

बीते साल कई सेलेब्स ने अपनी निजी लड़ाईयों के बारे में दुनिया को बताया. इरफ़ान ख़ान, सोनाली बेंद्रे और आयुष्मान ख़ुराना की पत्नी ताहिरा कश्यप खु़राना ने बेझिझक कैंसर से अपनी लड़ाई की कहानी को दुनिया के सामने रखा.

View this post on Instagram

Today is my day! Wish you all a happy #worldcancerday and hope each one of us celebrates this day in an embracing way. That we remove any stigma or taboo associated with it. That we spread awareness about it and that we have self love no matter what. I truly embrace all my scars as they are my badges of honour. There is nothing known as perfect. Happiness lies in truly accepting yourself. This was a tough one for me. But this picture was my decision as I want to celebrate not the disease but the spirit with which I endured. To quote my mentor, Diasaku Ikeda, “Leading an undefeated life is eternal victory. Not being defeated, never giving up, is actually a greater victory than winning, not being defeated means having the courage to rise to the challenge. However many times we’re knocked down, the important thing is we keep getting up and taking one step-even a half step- forward” #worldcancerday #breastcancerawareness #breastcancerwarrior #turningkarmaintomission #boddhisatva Thanks @atulkasbekar for this one❤️

A post shared by tahirakashyapkhurrana (@tahirakashyap) on

सोनाली और इरफ़ान स्टार्स हैं लेकिन ताहिरा एक स्टार की पत्नी है. Film Companion की अनुपमा चोपड़ा को दिए एक इंटरव्यू में 'स्टार की पत्नी' टैग की वजह से उन्हें किन-किन भावनाओं से लड़ना पड़ा, ताहिरा ने इसका ज़िक्र किया.


'ज़िन्दगी में बहुत लोगों को पता है कि उन्हें क्या करना है, आयुष्मान ऐसे ही इंसान हैं. मैं बियूरोक्रेट्स (नौकरशाह) के परिवार से हूं, मेरे पापा जर्नलिस्ट हैं और मां वायस-प्रिंसिपल. थियेटर करना, लिखना तो ठीक है, मगर मुझे पता नहीं था कि करना क्या है? जब मैं ज़्यादा परेशान होती थी, तो मैं थियेटर के पास जाती थी.'

ताहिरा ने अपने सपनों पर ये कहा,

'रेडियो, टीचिंग, PR, Events मैंने सब किया. पढ़ाते हुए मैं बिल्कुल भी ख़ुश नहीं थी.'
ताहिरा ने इंटरव्यू में ये भी कहा कि आयुष्मान को करियर में काफ़ी अच्छा करता देख और ख़ुद कुछ भी न कर पाने का विचार उन्हें काफ़ी परेशान कर रहा था. उस वक़्त Buddhism ने ताहिरा को सांत्वना दी.

View this post on Instagram

Dreams do come true! Might not look it, but it took time for my script to find the perfect platform and for people to have faith in my vision as a director. And I wouldn’t have it any other way as I get to work with the amazing @atulkasbekar @tanuj.garg @tseries.official @findingshanti Big, big thank you for backing me on this one!🤗🙏special thanks to my soul sister @reliablerani ❤️ ................. Repost from @tseries.official @TopRankRepost #TopRankRepost Our untitled 3rd collaboration with @ellipsisentertainment after #TumhariSulu & #CheatIndia to be directed by the brilliant, @tahirakashyap The film, a warm slice-of-life drama set in Mumbai, will go on floors next year. Casting begins shortly. @itsbhushankumar @tanuj.garg @atulkasbekar55

A post shared by tahirakashyapkhurrana (@tahirakashyap) on

ताहिरा फ़िल्ममेकर, डायरेक्टर, लेखक बनना चाहती थी लेकिन अपने डर के कारण, अपने विचारों के कारण वो ख़ुद से ही अपने सपने छिपा रही थी. ताहिरा ने बताया,

'मैं सोचती थी कि अगर मेरी शॉर्ट फ़िल्म देख कर लोगों ने कहा कि एक्टर की बीवी है, वेल्ली है शॉर्ट फ़िल्म बना ली. अगर मेरे छात्रों ने मुझ से कहा कि इससे अच्छा हम ही बना लेते तो? मेरी शॉर्ट फ़िल्म कभी रिलीज़ नहीं होगी, उसे कोई नहीं देखेगा. ये सब ख़याल मेरे मन में आते थे.'

ताहिरा को अपने सपनों को पहचानने में, जीने में 12 साल लग गए. ताहिरा ने 'Toffee' नाम से शॉर्ट फ़िल्म बनाई और अब फ़िल्म डायरेक्ट करने वाली हैं.

पूरा इंटरव्यू यहां देख सकते हैं: