90 के दशक में जैसे रामायण, महाभारत, शक्तिमान और चंद्रकांता ने लोगों के दिन और दिल पर कब्ज़ा किया था. वैसे ही कुछ फ़िल्में भी थीं, जिन्हें लोगों ने ख़ूब सराहा था, पर उस दौर में इन फ़िल्मों को अंडररेटेड फ़िल्मों की कैटेगरी में रखा गया था. वो फ़िल्में भले ही समय के साथ-साथ लोगों के दिल और दिमाग़ से उतर गईं, लेकिन आज भी अगर ये टीवी पर आ रही हों तो लोग चैनल बदलने की गुस्ताख़ी नहीं कर पाते हैं. अपना समय इन मूवी को देते हैं ऊपर उत्साह के साथ फ़ैमिली के साथ बैठकर आनंद लेते हैं.

these 15 underrated hindi movies from the 90s
Source: entertainism

समय ने इन्हें अडररेटेड का तमगा दे दिया हो, लेकिन आज भी ये आपके घर में किसी न किसी की फ़ेवरेट ज़रूर होंगी.

1. हातिम ताई (1990)

हातिम ताई की साहसी कहानियां तो हमें बचपन में बहुत लुभाती थीं. इस पर बनीं फ़िल्म भी काफ़ी अच्छी थी. इसमें जितेंद्र, सोनू वालिया, संगीता बिजलानी और अमरीश पुरी मुख्य भूमिका में थे.

2. 100 डेज़ (1991)

माधुरी दीक्षित और जैकी श्रॉफ़ अभिनीत क्राइम थ्रिलर '100 डेज़' आपको बांधे रखने में कामयाब रहेगी. ये एक ऐसी महिला की कहानी है जो एक किलर को ढूंढने के लिए कई मुसीबतों से गुज़रीत है. इसमें जावेद जाफ़री भी मुख्य भूमिका में थे.

3. अजूबा (1991)

1991 में आई अजूबा सुपरहीरो की फ़िल्म थी, जिसका निर्माण और निर्देशन शशि कपूर ने किया और सोवियत फ़िल्मकार गेनाडी वासिलीव द्वारा सह-निर्देशित की गई थी. फ़िल्म में अमिताभ बच्चन और ऋषि कपूर मुख्य भूमिका में थे.

4. ख़ुदा ग़वाह (1992)

अमिताभ और श्रीदेवी की जोड़ी वाली ये फ़िल्म काफ़ी सराही गई थी. इसकी कहानी कीे साथ-साथ गाने भी काफ़ी ख़ूबसूरत थे. ये फ़िल्म अफ़गानिस्तान में एक बड़ी हिट साबित हई थी. 

5. चमत्कार (1992)

these 15 underrated hindi movies from the 90s.
Source: tzpbharat

नसीरुद्दीन शाह और शाहरुख़ ख़ान की ये फ़िल्म बच्चों के साथ-साथ बड़ों को भी पसंद आई थी. इसमें शाहरुख़ की दोस्ती एक ऐसे भूत से होती है जो बहुत प्यारा होता है. वो दोस्त की तरह शाहरुख़ को गुंडों से बचाता है. भूत की भूमिका में नसीरुद्दीन शाह थे, जिनका नाम मार्को था. फ़िल्म में उर्मिला मातोंडकर भी माला के किरदार में थीं.

6. आंखें (1993) 

ओ लाल दुपट्टे वाली तेरा नाम तो बता, इस गाने पर शायद ही कोई होगा, जिसने डांस न किया हो. दो भाइयों मुन्नू (चंकी पांडे) और बुन्नू (गोविंदा) की मज़ेदार कहानी ने दर्शकों को ख़ूब हंसाया. इसमें क़ादर ख़ान, सदाशिव अमरापुरकर, दीना पाठक, रागेश्वरी और रितु शिवपुरी मुख्य भूमिका में थे.

7. ग़ुमराह (1993)

these 15 underrated hindi movies from the 90s.
Source: osianama

क्राइम ड्रामा फ़िल्म ग़ुमराह एक मासूम लड़की के इर्द-गिर्द घूमती है, जिसे पुलिस ने ड्रग तस्करी के आरोप में गिरफ़्तार किया जाता है और बेक़सूर होते हुए भी उसे मौत की सज़ा दी जाती है. फिर वो कैसे ख़ुद को बचाती है और कठिन समय का सामना करती है, उसी की कहानी है. इसमें श्रीदेवी, संजय दत्त, अनुपम खेर और कुनिका मुख्य भूमिका में थे. 

8. क्रांतिवीर (1994) 

नाना पाटेकर, डिंपल कपाड़िया, अतुल अग्निहोत्री, ममता कुलकर्णी, डैनी डेन्जोंगपा और परेश रावल जैसे दिग्गज कलाकार मुख्य भूमिकाओं में थे. इस फ़िल्म की कहानी एक युवक के इर्द-गिर्द घूमती है. नाना पाटेकर ने अपने अभिनय कौशल से फ़िल्म पर राज किया था और ख़लनायक के रूप में डैनी भी शानदार थे.

9. अकेले हम अकेले तुम (1995) 

राजा को रानी से प्यार हो गया से लेकर दिल मेरा चुराया क्यूं, इस फ़िल्म के बेहतरीन गाने थे. आमिर ख़ान और मनीषा कोइराला अभिनीत ये फ़िल्म दो ऐसे लोगों की कहानी थी, जो सिंगर बनना चाहते हैं और उनके सपने उनकी निज़ी ज़िंदगी को प्रभावित करने लगते हैं.  

10. बॉम्बे (1995)

अपने समय की सबसे विवादास्पद फ़िल्म बॉम्बे में एआर रहमान द्वारा संगीतबद्ध बेहतरीन गाने थे. इसकी कहानी हिंदू लड़के और एक मुस्लिम लड़की की लव स्टोरी के इर्द-गिर्द घूमती है. फ़िल्म वास्तविक जीवन के दंगों से प्रेरित थी.

11. घातक (1996) 

फ़िल्म घातक में सनी देओल के शानदार अभिनय ने लोगों का दिल जीता, उनके बीमार पिता के रोल में अमरीश पुरी ने भी कमाल का अभिनय किया था. दूसरी ओर, डैनी ने कात्या की भूमिका निभाई, जो बॉलीवुड के अब तक के सबसे ख़तरनाक ख़लनायकों में से एक था.

12. दीवाना मस्ताना (1997)

दीवाना-मस्ताना 90 के दशक की सबसे बड़ी कॉमेडी फ़िल्मों में से एक थी. इसकी कहानी गोविंदा और अनिल कपूर के इर्द-गिर्द घूमती है, जो जूही चावला का दिल जीतने की कोशिश करते हैं. 

13. ग़ुलाम-ए-मुस्तफ़ा (1997) 

ग़ुलाम-ए-मुस्तफ़ा गैंगस्टर फ़िल्म मानी जाती थी. इसमें दिग्गज स्टार नाना पाटेकर ने बेहतरीन प्रदर्शन दिया था. नाना के अलावा रवीना टंडन मुख्य भूमिका में थीं. फ़िल्म का गाना 'तेरा ग़म मेरा ग़म' बहुत ही बेहतरीन था.

14. सत्या (1998)

अनुराग कश्यप और सौरभ शुक्ला द्वारा लिखित और राम गोपाल वर्मा द्वारा निर्देशित ये फ़िल्म अंडरवर्ल्ड की फिल्मों में से बेहतरीन फ़िल्म थी. इस फ़िल्म ने मनोज बाजपेयी को रातोंरात स्टार बना दिया. फ़िल्म में उर्मिला मातोंडकर और जे. डी चक्रवर्ती भी मुख्य भूमिका में थे. 

15. मन (1999)

नशा ये प्यार का नशा है! इस गाने के साथ-साथ फ़िल्म की कहानी भी बहुत बेहतरीन थी. फ़िल्म 'मन' फ़ील-गुड मूवीज़ में से एक है. फ़िल्म में कुछ बेहतरीन गाने हैं जैसे चाहा है तुझको, तिनक तिन ताना और काली नागिन की जैसी ज़ुल्फ़ें तेरी काली-काली. फ़िल्म में आमिर ख़ान, मनीषा कोइराला और अनिल कपूर मुख्य भूमिका में थे. रानी मुखर्जी की एक गाने में गेस्ट अपीयरेंस थी.