केन्द्रीय मंत्री, स्मृति ईरानी ने 2003 में भारतीय जनता पार्टी (Bhartiya Janta Party) जॉइन की थी. टेलिविज़न की दुनिया में कई साल तक काम करने के बाद स्मृति राजनीति में उतरीं और उन्होंने पीछे मुड़कर नहीं देखा.

अगर हम कहें कि स्मृति ईरानी को कई साल पहले ही अपना लक्ष्य पता था और उन्होंने ये स्वीकार भी किया था तो? फ़ेक न्यूज़ (Fake News) नहीं फैला रहे हैं बल्कि सच बता रहे हैं. वो कहते हैं न किसी चीज़ को शिद्दत से चाहो तो पूरी क़ायनात उसे तुमसे मिलाने की साज़िश में लग जाती है. मॉडलिंग और अभिनय की दुनिया से निकलर स्मृति ईरानी के केन्द्रीय मंत्री बनने की कहानी कुछ ऐसी ही है. 

Instagram पर एक वीडियो सामने आया है. ये वीडियो 1998 का है जब स्मृति ईरानी Miss India Beauty Pageant के फ़ाइनल राउंड में थीं. इस ब्यूटी कॉन्टेस्ट (Beauty Contest) के दौरान ही स्मृति ने पॉलिटिक्स (Politics) में अपनी रूचि का ज़िक्र किया. इस पुराने वीडियो में स्मृति रैम्प वॉक (Ramp Walk) करती नज़र आ रही हैं और कह रही हैं कि उन्हें ये देश चलाने वालों में काफ़ी रूचि है.  

एकता कपूर ने भी ये वीडियो कुछ दिनों पहले अपने इंस्टाग्राम पर शेयर किया था. कपूर ने स्मृति की तारीफ़ करते हुए लिखा था कि उनकी दोस्त स्मृति ने शुरुआत Miss India न जीतने से की लेकिन उनका नाम घर-घर तक पहुंचा. इसके साथ ही कपूर ने ये भी लिखा कि ये वीडियो हर उस इंसान के लिए है जिसे लगता है कि सफ़लता आसानी से मिलती है.  

Source: Twitter

स्मृति ईरानी ने 2001 में शुरू हुए शो 'क्योंकि सास भी कभी बहू थी' में तुलसी विरानी का रोल किया था. ये शो भारत के सबसे ज़्यादा पसंदीदा शोज़ में से एक बना और स्मृति को देश के हर घर में पहचान मिली. राजनीति से जुड़ने के बाद स्मृति ने सीरियल्स और फ़िल्मी दुनिया छोड़ दी. स्मृति ईरानी की ज़िन्दगी में सफ़लता एक रात में नहीं मिली, वर्षों मेहनत करने के बाद मिली है. उनकी कहानी काफ़ी प्रेरणादायक है.