हमारे लिए इंटरटेनमेंट उतना ही ज़रूरी है जितना चाय के लिए अदरक

जितना समोसे के लिए हरी चटनी
जितना ठंड के लिए हीटर
जितना पानी के लिए कूलर
और एंटरटेनमेंट की दुनिया में 'हिन्दी टीवी सीरियल्स' की जगह कोई नहीं ले सकता. चाहे वो 'क्योंकि सास भी कभी बहू थी' हो या 'नागिन' (1,2,3....)
ठीक है?
ये ब्रह्म सत्य है कि हिन्दी सिनेमा के इतिहास में 'गैंग्स ऑफ़ वासेपुर' की जगह कोई नहीं ले सकता. मेरे दिमाग़ में इस फ़िल्म ने घर बना लिया है, वो भी पक्का 3 मंज़िला. घूम-फिरकर इसके डायलॉग याद आ ही जाते हैं.
कुछ करना था इन डायलॉग्स के संग, तो इन्हें बाइज्ज़त हिन्दी सीरियल्स के सीन्स पर फ़िट किया है. मज़े लो:

प्रस्तुति कैसी लगी ये जानना ज़रूरी है, तो थोड़ा टाइम निकालकर कमेंट ज़रूर करना.