70 के दशक में अमिताभ बच्चन और शत्रुघन सिन्हा बहुत बड़े स्टार हुआ करते थे. उन्हें एक साथ स्क्रीन पर देखने का क्रेज लोगों पर छाया रहता था. उनकी दोस्ती भी कमाल की थी. आज भी लोग उनकी दोस्ती की मिसाल दिया करते हैं. दोनों एक साथ कई फ़िल्मों में काम किया है. ‘नसीब’, ‘काला पत्थर’, ‘शान’. ‘दोस्ताना’, ‘परवाना’, ‘बॉम्बे टू गोवा’ इनमें से कुछ एक हैं.   

रील लाइफ़ में ही नहीं रियल लाइफ़ में भी इन दोनों दोस्तों के बीच कमाल की केमिस्ट्री थी. अब जब दोस्ती इतनी गहरी थी इससे जुड़े कुछ क़िस्से भी होंगे. ऐसा ही एक क़िस्सा आज हम आपको बताएंगे. 

mopays

बात उन दिनों कि है जब अमिताभ और शत्रुघन सिन्हा बॉलीवुड में नए-नए आए थे. उनकी फ़िल्में लोगों को पसंद आने लगी थीं. उस वक़्त शत्रुघन सिन्हा के पास एक कार हुआ करती थी. अमिताभ और वो अकसर उस कार में फ़िल्में देखने के लिए सिनेमाहॉल जाया करते थे. ये एक सेकेंड हैंड कार थी. इसलिए कभी-कभी बंद पड़ जाती थी.

newsnation

ऐसे ही एक दिन दोनों एक फ़िल्म देखकर कुछ और दोस्तों के साथ वापस आ रहे थे. तभी बीच रास्ते में वो कार बंद हो गई. तब शत्रुघन ने सभी से कहा ‘उतरो यार धक्का लगाओ’. फिर उन्हें छोड़कर सभी लोगों ने कार में धक्का लगाया था. मतलब अमिताभ ने भी उनकी गाड़ी को धक्का लगाया है. इस क़िस्से का ज़िक्र अमिताभ ने एक शो में किया था. 

prameyanews

उन्होंने शत्रुघन से जुड़ी कई और बातें भी लोगों से शेयर की थीं. अमिताभ ने बताया कि शत्रुघन थोड़े लेट लतीफ़ थे वो अकसर शूटिंग के सेट पर और लोगों से लेट पहुंचा करते थे. यही नहीं कई बार तो वो लास्ट मिनट में फ़्लाइट पकड़ा करते थे.

शत्रुघन सिन्हा और अमिताभ बच्चन की दोस्ती में कई उतार-चढ़ाव आए. मगर दोनों ने हमेशा एक दूसरे का साथ दिया. आज भी दोनों बहुत अच्छे दोस्त हैं. 

Entertainmentके और आर्टिकल पढ़ने के लिये ScoopWhoop Hindi पर क्लिक करें.