बिमल रॉय को 'दो बीघा ज़मीन' को हिंदी सिनेमा की क्लासिक फ़िल्मों में गिना जाता है. जब ये फ़िल्म रिलीज़ हुई थी तब इस मूवी को देख दुनिया हक्की-बक्की रह गई थी कि कोई भारतीय भी रियलिस्टिक फ़िल्म बना सकता है.

इस मूवी में बलराज साहनी और निरुपा रॉय ने लीड रोल निभाया था. इस फ़िल्म को नेशनल और इंटरनेशनल स्तर पर कई अवॉर्ड भी मिले थे. इसकी कहानी लिखी थी सलील चौधरी ने जो रवींद्रनाथ टैगोर की एक कविता पर बेस्ड थी.

Do Bigha Zamin
Source: thehindu

एक लाचार किसान शंभू महतो जो अपनी दो बीघा ज़मीन को ज़मींदार से छुड़ाने के लिए बहुत जद्दोजहद करता है. इस किरदार को बलराज साहनी साहब ने बड़े ही करीने से निभाया था. मगर क्या आप जानते हैं इस मूवी के लिए पहली बार में रिजेक्ट हो गए थे बलराज साहनी. चलिए आपको ये क़िस्सा भी बता देते हैं

Source: twitter

दरअसल, जब बिमल रॉय इस फ़िल्म को बनाने की तैयारी में थे तो उन्हें एक किसान जैसे दिखने वाले एक्टर की तलाश थी. मगर जब इस रोल के लिए बलराज साहनी उनके पास पहुंचे तो वो उन्हें देख कर निराश हो गए. उन्होंने बलराज से कहा कि ये रोल उनके लिए नहीं है.

Do Bigha Zamin
Source: scroll

अरे भई बलराज साहनी तब अंग्रेज़ जैसे गोरे चिट्टे दिखाई देते थे. किसी भी एंगल से वो न तो किसान लगते थे न ही मज़दूर. तब बलराज साहनी ने उस चैलेंज को स्वीकार किया और कुछ दिनों की मोहलत मांगी. इसके बाद वो कोलकाता चले आए. यहां उन्होंने हाथ से खींचे जाने वाला रिक्शा लिया और उसे लेकर कोलकाता की सड़कों पर सवारियां ढोने लगे. सड़कों पर नंगे पैर रिक्शा ढोने के कारण उनके पैरों में छाले तक पड़ गए थे.

Do Bigha Zamin
Source: imdb

यही नहीं वो किसानों की बस्तियों में भी गए. वहां पर उन्होंने किसानों के रहन-सहन और उनकी बातचीत करने के तरीके को ग़ौर से देखा. अपने कैरेक्टर के लिए पर्याप्त मेहनत और रिसर्च करने बाद वो फिर से बिमल रॉय के पास पहुंचे. इस बार उन्हें देख वो हैरान रह गए और आख़िरकार बलराज साहनी जी को शंभू मेहतो के रोल के लिए सेलेक्ट कर लिया गया.

Do Bigha Zamin
Source: news18

फ़िल्म जब रिलीज़ हुई थी तो सभी ने बलराज साहनी की एक्टिंग की ख़ूब तारीफ़ की और कहा इस फ़िल्म की असली जान तो वही थे.
Entertainment के और आर्टिकल पढ़ने के लिये ScoopWhoop Hindi पर क्लिक करें.