बॉलीवुड की 'ट्रेजेडी क्वीन' मीना कुमारी की ख़ूबसूरती हो या एक्टिंग दोनों के ही फ़ैंस दीवाने थे. जितना बोलबाला इनकी एक्टिंग और अदाओं का था उससे कहीं ज़्यादा उनके निजी क़िस्से चर्चा में रहते थे. मीना कुमारी की ज़िंदगी से जुड़ा ऐसा ही एक क़िस्सा है, जो काफ़ी मशहूर है.

Vetren actress meena kumari
Source: cinestaan

ये भी पढ़ें: क़िस्सा: जब 'प्यासा' की शूटिंग के सिलसिले में पहली बार कोठे पर गए थे गुरु दत्त

दरअसल, 1939 से 1972 तक मीना कुमारी की दमदार एक्टिंग के चलते हर किसी की ज़ुबान पर उनका ही नाम था. इतनी पापुलैरिटी के बाद भी प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री मीना कुमारी को पहचान नहीं पाए थे. हुआ ये था कि महाराष्ट्र के तत्कालीन मुख्यमंत्री ने शास्त्री जी को मुंबई के एक स्टूडियो में फ़िल्म 'पाक़ीज़ा' की शूटिंग देखने के लिए बुलाया था, तब शास्त्री जी उन्हें मना नहीं कर पाए और शूटिंग देखने के लिए स्टूडियो पहुंच गए.

when lal bahadur shastri said sorry to meena kumari

इस क़िस्से का ज़िक्र करते हुए कुलदीप नैयर ने अपनी बुक 'ON LEADERS AND ICONS: From Jinnah to Modi' में लिखा, 

bollywood throwback story of meena kumari
Source: telegraphindia
लाल बहादुर शास्त्री जिस स्टूडियों में पहुंचे थे वहां पर उस समय के कई बड़े स्टार्स भी मौजूद थे, उनमें मीना कुमारी भी थीं. जैसे ही मीना कुमारी ने लाल बाहुदर शास्त्री को माला पहनाई, शास्त्री जी ने सहजता से मुझसे पूछा- ये महिला कौन है? मुझे हैरानी हुई फिर मैने उनसे कहा कि ये मीना कुमारी हैं. हालांकि, मुझे इस बात की उम्मीद उनसे नहीं थी कि वो सार्वजनिक तौर पर मुझसे पूछेंगे, लेकिन मैं उनके भोलेपन और ईमानदारी से बहुत प्रभावित हुआ था.

                    - कुलदीप नैयर

lal bahadur shastri once said sorry to meena kumari
Source: 24urdu

ये भी पढ़ें: क़िस्सा: जब नाम बदलकर कैबरे डांसर हेलेन के असिस्टेंट के रूप में काम करते थे मिथुन चक्रवर्ती

इसके बाद, जब शास्त्री जी स्पीच देने पहुंचे तो, उन्होंने स्पीच में मीना कुमारी को संबोधित करते हुए कहा था, मीना कुमारी जी, मुझे माफ़ कीजिएगा. मैंने आपका नाम पहली दफ़ा सुना है. भले ही लोगों को शास्त्री जी का ये अंदाज़ पसंद आया था, लेकिन इस बात को सुनकर मीना कुमारी के चेहरे पर शर्मिंदगी के भाव साफ़ नज़र आ रहे थे.

Meena Kumari was called the tragedy queen of Indian cinema

आपको बता दें, 7 साल की उम्र में ही फ़िल्मों में दस्तक देने वाली मीना कुमारी ने 33 साल तक सिनेमा पर राज किया, उन्होंने 'दिल एक मंदिर', 'पाक़ीज़ा', 'आरती', 'परिणीता', 'बैजू बावरा', 'दिल अपना और प्रीत पराई', 'साहेब बीवी और ग़ुलाम', और 'काजल' सहित कई फ़िल्मों में शानदार अभिनय किया.