दिग्गज अभिनेता राज कपूर और दिग्गज अभिनेत्री नरगिस दत्त की जोड़ी हिंदी सिनेमा की लेजेंडरी जोड़ी थी. इन्होंने कई फ़िल्मों को अपने अभिनय और कैमिस्ट्री से यादगार बना दिया. इस जोड़ी को ऑन स्क्रीन और ऑफ़ स्क्रीन दोनों ही ख़ूब पसंद किया जाता था. ऑन स्क्रीन लोगों को अपनी कैमिस्ट्री से प्यार में डुबाने वाले राज कपूर और नरगिस असल ज़िंदगी में भी एक-दूसरे को बहुत प्यार करते थे. हालांकि, इनका प्यार जब परवान चढ़ रहा था, राज कपूर उस वक़्त शादीशुदा थे. इतना प्यार करने के बावजूद ऐसा क्या हुआ जो नरगिस ने राज कपूर के साथ रिश्ता तोड़ने का फ़ैसला ले लिया. चलिए जानते हैं.

Nargis and Raj Kapoor's iconic onscreen pair transcended the screen
Source: indiaspeaks

ये भी पढ़ें: क़िस्सा: जब राज कपूर ने महेंद्र कपूर से गाना गंवाने के लिए सिगरेट से अपना हाथ जला लिया था

हालांकि, राज कपूर और नरगिस की मुलाक़ात फ़िल्मों से पहले एक बार उनके घर पर हुई थी, जब राज कपूर सिंगर, कंपोज़र और डांसर जद्दन बाई से मिलने उनके घर गए थे. उस वक़्त नरगिस दत्त की मां जद्दन बाई घर पर नहीं थीं तो दरवाज़ा नरगिस ने खोला और एक झलक में ही राज कपूर उनकी ख़ूबसूरती के दीवाने हो गए और उनके प्यार में पड़ गए. 

Raj Kapoor met Nargis when she was a star
Source: indiatimes

इसके बाद दोनों मिलने-जुलने लग गए दोनों में जान पहचान बढञ गई और फिर फ़िल्मों में भी साथ काम करना शुरू कर दिया. जब इस रिश्ते को काफ़ी समय हो गया तो नरगिस की राज कपूर से उम्मीदें होने लगीं कि वो उनसे शादी करें और दोनों अपना एक घर बसाएं. मगर राज कपूर ने नरगिस को अपनी पत्नी के बराबर दर्ज़ा नहीं दिया और वही हुआ जो होता है, राज कपूर नरगिस से प्यार तो करते थे लेकिन ज़माने के सामने वो अपनी पत्नी से ज़्यादा प्यार करते थे. राज कपूर ने तो ये तक कह दिया था कि उनकी पत्नी उनके बच्चों की मां हैं और नरगिस उनकी फ़िल्मों की मां हैं.

Nargis agreed to marry Raj even after knowing the fact that he was a happily married man
Source: abplive

ये भी पढ़ें: क़िस्सा: जब नरगिस दत्त ने अपनी प्यारी दोस्त मीना कुमारी को कहा था, 'मौत मुबारक़ हो'

इनका प्यार तब ख़त्म हुआ जब एक बार राज कपूर और नरगिस ने वेकेशन्स प्लान किया. नरगिस, राज कपूर का इंतज़ार करते रहीं, लेकिन वो नहीं आए. तो ग़ुस्से में नरगिस राज कपूर के घर चली गईं तब उन्होंने देखा कि वहां पर ग्रांड पार्टी चल रही है. उस वक़्त नरगिस इतना परेशान और ग़ुस्से में थीं कि उन्होंने कुछ नहीं देखा और राज कपूर को ढूंढते-ढूंढते उनके बेडरूम पहुंच गई. उन्होंने दरवाज़ा बिना खटखटाये ही खोल दिया और देखा राज कपूर अपनी पत्नी के साथ थे और उन्हें गले में हार पहना रहे थे.

The two tied the knot in 1958.
Source: zoomtventertainment

जब नरगिस ने राज कपूर को उनकी पत्नी के साथ देखा तो वो टूट गईं और वो वहां से चली गईं उस दिन उन्हें एहसास हुआ कि राज कपूर और उनके रिश्ते का कोई आधार नहीं है. उसी वक़्त नरगिस ने अपनी ज़िंदगी का बड़ा फ़ैसला लेते हुए  राज कपूर से अपने सारे रिश्ते तोड़ दिए. फिर नरगिस राज कपूर से कभी भी पहले की तरह नहीं मिलीं. लेकिन कहते हैं न प्यार कभी भी ज़िंदगी में दस्तक दे सकता है नरगिस की ज़िंदगी में भी दोबारा प्यार आया सुनील दत्त के रूप में और दोनों ने शादी कर ली.