फ़िल्में बनाने में बहुत पैसा लगता है और उसका बॉक्स ऑफ़िस पर हिट या फ़्लॉप होना, फ़िल्म निर्माताओं के लिए बहुत मायने रखता है. आख़िरकार ये भी तो एक बिज़नेस है. 

हिंदी सिनेमा के इतिहास में राज कपूर के नाम एक से बढ़ कर एक फ़िल्में हैं. इनमें श्री 420, आवारा, संगम, बॉबी और सत्यम शिवम सुंदरम, आदि फ़िल्में शामिल हैं. हालांकि उन्होंने जिस फ़िल्म में अपनी पूरी जी-जान लगा दी थी – वो थी ‘मेरा नाम जोकर’. 

Twitter

ग़ौरतलब है कि राज कपूर अभिनेता होने के साथ-साथ फ़िल्म निर्माता और निर्देशक भी थे. ‘मेरा नाम जोकर’ बड़े बजट की फ़िल्म थी. इस फ़िल्म के निर्माण में राज कपूर ने अपना सारा पैसा झोंक दिया था. इसके लिए उन्होंने अपनी सारी संपत्ति गिरवी रख दी थी. इस फ़िल्म को पूरा होने में 6 साल का समय लगा था.   

हालांकि हुआ वही जिसकी उन्होंने कल्पना भी नहीं की होगी. ‘मेरा नाम जोकर’ बॉक्स ऑफ़िस पर औंधे मुंह गिरी. 1970 में रिलीज़ हुई ये फ़िल्म Flop साबित हुई और राज कपूर को काफ़ी नुकसान उठाना पड़ा. 

Hungama

उनकी बेटी रीमा जैन ने एक इंटरव्यू में बताया था की राज कपूर के करियर पर ‘मेरा नाम जोकर’ की असफलता का गहरा असर पड़ा था. फ़िल्म वितरकों और फ़ाइनेंसरों ने राज कपूर का साथ छोड़ दिया था. कुछ लोग तो राज कपूर को पागल तक कहने लगे थे. 2018 के फ़िल्मफ़ेयर इंटरव्यू में वो याद करती हैं:  

पापा पैसे मैनेज करने के मामले में अच्छे नहीं थे. वो कहते थे ‘या तो मैं फ़िल्म बनाऊंगा या अकाउंटेंट बन जाऊंगा’. यही कारण था कि उन्होंने कभी कल्पना भी नहीं कि उनकी बिग बजट मेरा नाम जोकर (1970) का इतनी बुरी तरह फ़्लॉप होगी. इसमें उनका दिल और जान लगा था. इसमें उनका बहुत कुछ गिरवी रखा गया था, जिसमें उनका सम्मान भी शामिल था. वो तबाह हो गए थे. ‘जोकर’ के बाद लोगों ने उनका साथ छोड़ दिया. वितरकों और फ़ाइनेंसरों ने उनसे दूरी बना ली. लोगों ने कहा, ‘राज कपूर सठिया गया है. वो ख़त्म है.’   
Patrika

ये भी पढ़ें: जगत सेठ घराना: वो भारतीय परिवार जो इतना अमीर था कि अंग्रेज़ों और बादशाहों को देता था लोन 

हालांकि इस विफलता के बाद उन्होंने बॉबी (1973) के साथ जबरदस्त वापसी की. बॉबी में वो एक निर्देशक के रूप में वापसी कर रहे थे जिसमें उनके बेटे ऋषि कपूर और डिंपल कपाड़िया मुख्य किरदार निभा रहे थे. रीमा कपूर कहती हैं कि 

पापा का दृढ़ विश्वास था की वो वापसी करेंगे, संगम (फ़िल्म) में अपने किरदार की तरह जो अपने दोस्त से कहता है, ‘मैं वापस आऊंगा!’ वो Archie कॉमिक्स से प्रेरित एक जबरदस्त फ़िल्म के साथ लौटें – बॉबी (1973), लगभग ये साबित करने के लिए की, ‘क्या तुम यही चाहते हो? ये लो!’
Dailymotion

एक समारोह में दिवंगत ऋषि कपूर ने बताया था कि जब ‘बॉबी’ सुपरहिट हुई तो राज कपूर के दोस्तों और भाइयों ने ज़ोर देकर उनसे घर ख़रीदवाया था. ‘मेरा नाम जोकर’ आज Cult Classic फ़िल्म मानी जाती है. राज कपूर की सबसे बेहतरीन और मशहूर फ़िल्मों में ‘मेरा नाम जोकर’ का नाम सबसे ऊपर है.   

ये भी पढ़ें: किस्सा: जब मुंबई में वेनिस का मज़ा लेने के लिए अपने घर के आगे नहर खुदवाना चाहते थे किशोर कुमार