बॉलीवुड (Bollywood) में जब भी विलेन (Villain) की बात होती है दर्शकों की ज़ुबान पर ‘जीवन’, ‘प्राण’, ‘आजाद ख़ान’, ‘प्रेम चोपड़ा’, ‘रंजीत’, ‘अमरीश पूरी’, ‘डैनी’ और ‘आशुतोष राणा’ सरीखे कलाकारों का नाम होता है. सिल्वर स्क्रीन पर दमदार एक्टिंग के चलते आज भी इन कलाकारों को याद किया जाता है. लेकिन बॉलीवुड में 60 के दशक से ही इन विलेन्स के अलावा कई विलेन ऐसे भी रहे हैं, जिन्होंने फ़िल्मों में अपनी एक्टिंग के जलवे तो भिखेरे, लेकिन उन्हें वो सफ़लता नहीं मिल पाई जो मिलनी चाहिए थी.इन्हीं में से एक कलाकार तेज सप्रू (Tej Sapru) भी हैं.

ये भी पढ़ें: जानिए 90’s की फ़िल्मों का घूसखोर पुलिसवाला महावीर शाह अब कहां हैं और क्या कर रहा है

आज हम आपको बॉलीवुड विलेन तेज सप्रू (Tej Sapru) के बारे में ही बताने जा रहे हैं जिन्हें आप 70 से लेकर 90 की बॉलीवुड फ़िल्मों में ‘गुंडे’ से लेकर ‘इंस्पेक्टर’ के किरदारों में देख चुके होंगे. आप भले ही इन्हें इनके नाम से नहीं जानते हों, लेकिन इनकी एक तस्वीर से आप इनके फलां फ़िल्म के फ़लां किरदार के लिए झट से पहचान जायेंगे.

cinestaan

फ़िल्मी परिवार से रखते हैं ताल्लुक

तेज सप्रू (Tej Sapru) का जन्म 5 जनवरी 1955 को मुंबई के एक फ़िल्मी परिवार में हुआ था. उनके पिता डी. के. सप्रू बॉलीवुड के मशहूर कैरेक्टर आर्टिस्ट थे. डी. के. सप्रू ने 100 से अधिक फ़िल्मों में काम किया था. तेज सप्रू की दोनों बहाने प्रीती सप्रू और रीमा सप्रू नाथ भी फ़िल्म इंडस्ट्री से जुड़ी हुई हैं. प्रीती सप्रू हिंदी और पंजाबी फिल्मों में काम कर चुकी हैं, जबकि रीमा सप्रू नाथ बॉलीवुड राइटर, डायरेक्टर और प्रोड्यूसर हैं. सलमान ख़ान और संजय दत्त की फ़िल्म ‘साजन’ फ़िल्म की स्क्रिप्ट रीमा सप्रू ने ही लिखी थी.

ये भी पढ़ें- जानिए 90’s की फ़िल्मों का ख़ूंख़ार विलेन ‘चिकारा’ उर्फ़ रामी रेड्डी आज किस हाल में है और कहां है

चाइल्ड आर्टिस्ट के तौर पर किया डेब्यू

तेज सप्रू (Tej Sapru) ने साल 1965 में मनोज कुमार की फ़िल्म ‘शहीद’ में बतौर चाइल्ड आर्टिस्ट काम किया था. इस फ़िल्म में उनके पिता डी. के. सप्रू ने भी काम किया था. वो फ़िल्म में भगत सिंह (मनोज कुमार) के पिता के किरदार में नज़र आये थे. तेज सप्रू ने इसके 15 साल बाद साल 1979 में ‘सुरक्षा’ फ़िल्म से बॉलीवुड में डेब्यू किया था. इस फ़िल्म में उन्होंने Jackson (Jackie) का किरदार निभाया था.

superstarsbio

इन फ़िल्मों ने दिलाई पहचान

तेज सप्रू (Tej Sapru) ने इसके बाद ‘लापरवाह’, ‘राजपूत’, ‘जियो और जीने दो’, ‘हम से है ज़माना’, ‘आंधी तूफ़ान’, ‘युद्ध’, ‘इंसाफ़ मैं करूंगा’, ‘त्रिदेव’, ‘अजूबा’, ‘साजन’, ‘विश्वात्मा’, ‘गर्दिश’, ‘दुलारा’, ‘मोहरा’, ‘जल्लाद’, ‘गुप्त’, ‘डोली सजा के रखना’, ‘सिर्फ़ तुम’, ‘बिल्ला नंबर 786’ समेत 100 से अधिक फ़िल्मों में काम किया. तेज सप्रू की आख़िरी बॉलीवुड फ़िल्म साल 2020 में रिलीज़ हुई ‘Guns of Banaras’ थी. इस फ़िल्म में उन्होंने लीड एक्ट्रेस नतालिया कौर के पिता की भूमिका निभाई थी.

bhojpurifilmiduniya

अब क्या कर रहे हैं तेज़ सप्रू?

तेज सप्रू (Tej Sapru) अब फ़िल्मों से ज़्यादा टीवी सीरियल्स में नज़र आते हैं. वो अब तक ‘हातिम’, ‘कुबूल है’, ‘सात फेरे’, ‘यहां मैं घर घर खेली’, ‘दिल से दिल तक’, ‘तुम्हारी पाखी’, ‘चंद्रगुप्त मौर्य’, ‘चक्रवर्ती अशोक सम्राट’, ‘चाणक्य’, ‘भरतवंश’, ‘प्रधानमंत्री’ और ‘बाल शिव’ जैसी लोकप्रिय टीवी सीरियलों में नज़र आ चुके हैं. तेज सप्रू इन दिनों कलर्स टीवी पर प्रसारित होने वाले ‘हरफूल मोहिनी’ सीरियल में ‘बलवंत सिंह चौधरी’ के किरदार में नज़र आ रहे हैं.

तेज सप्रू (Tej Sapru) का कौन सा किरदार आपको याद है?

ये भी पढ़ें- 90’s में कांचा चीना और कात्या जैसे किरदारों को यादगार बनाने वाले Danny Denzongpa आजकल कहां हैं?