एक्टिंग की दुनिया में टैलेंट के पावर हाउस माने जाते हैं मनोज बाजपेयी. वो अपनी लाजवाब एक्टिंग से सामने वाले को तालियां बजाने को मज़बूर कर देते हैं. सत्या के भीखू म्हात्रे, गैंग्स ऑफ़ वासेपुर के सरदार ख़ान, शूल के इंस्पेक्टर समर प्रताप सिंह, फ़ैमिली मैन के श्रीकांत तिवारी जैसे किरदार इसकी बानगी हैं.

पर एक दौर ऐसा भी था जब मनोज बाजपेयी एक्टिंग छोड़ आत्महत्या करने के बारे में सोचते थे. ऐसा क्यों और कब हुआ, इससे जुड़ा क़िस्सा उन्होंने ख़ुद अपने एक इंटरव्यू में लोगों से शेयर किया है.

Manoj Bajpayee
Source: highlightsindia

बात उन दिनों की है जब बिहार और नेपाल के बॉर्डर पर बसे एक गांव का बच्चा फ़िल्मों में काम करने का सपना देखा करता था. चंपारण ज़िले के बेलवा गांव का रहने वाला ये बच्चा कोई और नहीं मनोज बाजपेयी थे. 17 साल की उम्र में ही घर का ख़र्च चलाने के लिए इन्होंने एक स्कूल में पढ़ाना शुरू कर दिया था.

Manoj Bajpayee
Source: mensxp

उस वक़्त वो अख़बारों और मैगज़ीन में नसीरुद्दीन शाह और राज बब्बर के इंटरव्यू पढ़ फ़िल्मों में जाने के लिए प्रेरित होते थे. इसके बाद वो दिल्ली चले आए. यहां उन्होंने 4 बार नेशनल स्कूल ऑफ़ ड्रामा में एडमिशन लेने के लिए अप्लाई किया. मगर चारों बार वो रिजेक्ट कर दिए गए. इससे वो इतने टूट गए कि उनके मन में आत्महत्या करने के ख़्याल आने लगे.

Manoj Bajpayee
Source: manoramaonline

किसी ने उन्हें एनएसडी की राह छोड़ नुकड़ नाटक करने की सलाह दी. मनोज को ये मशवरा पंसद आया और वो नुक्कड़ नाटक करने लगे. इस काम से उन्हें काफ़ी सुकून मिलता और इस तरह उनके मन से आत्महत्या करने का ख़्याल भी जाता रहा. इसके बाद वो अलीगढ़ यूनिवर्सिटी में ग्रेजुएशन की पढ़ाई करने चले गए.

Manoj Bajpayee
Source: thestatesman

यहां उनकी मुलाकात फ़ेमस डायरेक्टर अनुभव सिन्हा से हुई. अनुभव के एक नाटक में उन्होंने काम किया था. तभी उन्होंने पहचान लिया था कि मनोज में टैलेंट की कोई कमी नहीं. इसीलिए तो मुंबई जाने के बाद उन्होंने ही टिकट भेज कर मनोज को मुंबई आने को कहा. यहां पहुंचने पर उन्होंने एक निर्देशक से उन्हें मिलवाया. एक सीरियल के लिए उन्हें सेलेक्ट भी कर लिया गया पर बाद में ये रोल किसी और एक्टर को मिल गया.

Manoj Bajpayee
Source: readersdigest

इसके बाद उन्होंने काफ़ी संघर्ष किया. गोविंद निहलानी की फ़िल्म द्रोहकाल में एक छोटा सा रोल किया. शेखर कपूर की फ़िल्म बैंडिट क्विन में उनकी एक्टिंग की तारीफ़ हुई मगर असली पहचान मिली फ़िल्म सत्या से जो 1998 में रिलीज़ हुई थी. इस मूवी के लिए उन्होंने बेस्ट स्पोर्टिंग एक्टर का नेशनल अवॉर्ड भी मिला था. इसके बाद की कहानी तो सभी को पता ही है.

Entertainment के और आर्टिकल पढ़ने के लिये ScoopWhoop Hindi पर क्लिक करें.