दुनिया का पहला तैरने वाला देश 2020 तक हमारे सामने होगा. ताहिती द्विप के पास प्रशांत महासागर में ये देश बनाया जा रहा है.

इस देश को बनाने का मुख्य उद्देश्य, 'इंसानियत को नेताओं से आज़ाद कराना'. इस देश में होटल्स, घर, ऑफ़िस, रेस्त्रां सब आने वाले कुछ सालों में बनाया जाएगा. Seasteading Institute नामक एक Non-Profit Organisation इसका निर्माण कर रही है.

Seasteading Institute के प्रेसिडेंट ने एक इंटरव्यू के दौरान बताया,

2050 तक मैं अलग-अलग तरह के शासन के साथ ऐसे हज़ारों Floating शहर देखना चाहता हूं. सरकारें बेकार हो चुकी हैं. वो अभी तक पुरानी सदियों में ही जी रही हैं.

इस तरह का पहला Island, Initial Coin Offering से बनाया जा रहा है. ये Funding का एक नया तरीका है, जो अमेरिका के Silicon Valley में काफ़ी पॉपुलर है. इस तरह की Funding में पैसों को 'Crowd Source' किया जाता है. Bitcoin एक Initial Coin Offering की ही Currency है.

ये Non-Profit Organisation, 2020 तक 60 मिलियन डॉलर इकट्ठा कर लेने की उम्मीद कर रहा है.

इस देश में बनने वाली इमारतों की छत पर पौधे लगाए जाएंगे और इन इमारतों को भी बांस, नारियल फ़ाइबर, लकड़ी और Recycled Metal और Plastic से बनाया जाएगा.

ऐसा देश बनाने के प्लैन्स को सबसे पहले जनवरी में दुनिया के सामने रखा गया था. प्रशांत महासागर में बनाए जा रहे इस देश में 200,000 लोग रह सकेंगे.

French Polynesian सरकार ने नया देश बनाने के इस योजना को स्वीकृति दे दी है.

देखते हैं 2020 तक क्या होता है.

Source- The Sun