शनिवार रात जब सारा देश दुर्गा पूजा और दशहरे के जश्न में डूबा हुआ था. तब कांदिवली के एक घर में 4 साल के बच्चे की मौत की वजह से मातम माहौल छा गया था. दरअसल 4 वर्षीय पियूष खुशवहा दुकान से चिप्स का पैकेट खरीद कर लाया, जिसमें प्लास्टिक का एक खिलौना भी मुफ़्त था.

चिप्स खाते वक़्त पियूष ने गलती से वो खिलौना खा लिया, जिसकी वजह उसे बोलने में दिक्कत होने लगी. कई कोशिशों के बावजूद जब वो खिलौना बाहर नहीं निकला, तो आनन-फ़ानन में उसे हॉस्पिटल ले जाने लगे, पर दुर्गा पूजा होने की वजह से सड़क पर इतना ट्रैफ़िक था कि पियूष को समय पर पास के हॉस्पिटल भी नहीं पहुंचाया जा सका, जिसकी वजह से पियूष की मौत हो गई.

पियूष के केस की जांच कर रहे फॉरेंसिक एक्सपर्ट का कहना है कि 'ये खिलौना पियूष की श्वास नली में अटक गया था, जिसकी वजह से उसे सांस लेने में कठनाई होने लगी.'

पियूष के पिता बिरजू का कहना है कि 'वो दिसंबर में 5 साल का होने वाला था. हम लोग मेले में गए हुए थे, जहां वो खूब मस्ती कर रहा था. घर लौटते समय उसने चिप्स की डिमांड की, जिसमें ये स्प्रिंग वाला खिलौना था, जो पियूष के गले में फंस गया.'

दुर्गा पूजा होने की वजह से कोई ऑटो नहीं मिला और बिरजू 3 किलोमीटर वाले पास के नर्सिंग होम भी समय पर नहीं पहुंच पाए. हाथ में ले कर पियूष को ले कर बिरजू किसी तरह हॉस्पिटल पहुंचा, जहां से उसे शताब्दी हॉस्पिटल रेफ़ेर कर दिया गया, पर तब तक काफ़ी देर हो चुकी थी.