कहते हैं किसी काम को न करने के हमारे पास कई बहाने होते हैं, लेकिन करने वाले तमाम बाधाओं के बावजदू उस काम को कर गुज़रते हैं. अब अफ़्रीका के एक इस टीचर को ही देख लीजिए, जो कंप्यूटर न होने के बावजूद बच्चों को कंप्यूटर की शिक्षा दे रहा है.

अब ये जान हर शख़्स के मन में ख़्याल आना वाजिब है कि आखिर ये मुमकिन कैसे है, अरे जनाब यही तो इस टीचर की ख़ासियत है कि स्कूल में कंप्यूटर न होने के बाद भी, वो बच्चों को MS Word सिखा रहा है. इतना ही नहीं, अपनी इसी क़ाबिलियत के चलते घाना के Sekyedomase टाउन के रिचर्ड एपिया अकोतो, देश-विदेश में लोगों के बीच चर्चा का विषय बने हुए हैं.

दरअसल, हाल ही में सोशल मीडिया पर 33 साल के इस अध्यापक की कुछ तस्वीरें शेयर की गई. इन तस्वीरों में अकोतो अपने स्टूडेंट्स को ब्लैक बोर्ड पर, अलग-अलग रंग की चॉक से माइक्रोसॉफ़्ट वर्ड प्रोसेसर पढ़ाते नज़र आ रहे हैं. टीचर की अनोखी कलाकारी दुनियाभर के लोगों को काफ़ी प्रभावित कर रही है. वहीं NIIT ने भी शिक्षक और स्कूल के बच्चों की मदद करने का फ़ैसला लिया है.

Accra के NIIT सेंटर मैनेजर आशीष कुमार ने कहा कि 'हमने फ़ेसबुक पर अकोतो की कुछ वायरल तस्वीरें देखीं. इसके बाद हमने पोस्ट का प्रिंट आउट लिया और मामले पर कंपनी के सीईओ कपिल गुप्ता के साथ चर्चा की. इसके बाद ही हमने स्कूल के लिए पांच डेस्कटॉप, कुछ किताबें और टीचर को एक लैपटॉप स्पॉन्सर करने का निर्णय लिया.'

इतना ही नहीं, Microsoft Africa ने भी अकोतो को सिंगापुर में होने वाले, उनके Education Exchange के लिए इनवाइट किया है. ऐसा पहली बार होगा जब वो घाना के बाहर जाकर बच्चों के कंप्यूटर की शिक्षा देंगे, जिसे लेकर वो काफ़ी ख़ुश भी हैं.

अकोतो ने कभी भी ये नहीं सोचा होगा कि उनकी ये कलाकारी दुनियाभर के लोगों को उनका मुरीद बना देगी. इसी बारे में बात करते हुए वो कहते हैं कि 'मैं बच्चों को सिखाना चाहता कि Microsoft Word क्या होता है और इस पर कैसे काम किया जाता है. पर मेरे पास कंप्यूटर नहीं था, इसी वजह से मैंने उन्हें ब्लैक बोर्ड पर सिखाना शुरू कर दिया.'

शायद इसीलिए कहा गया है कि अगर किसी भी चीज़ को दिल से चाहो, तो पूरी कायनात उसे आप से मिलाने में लग जाती है. अकोतो की मेहनत और लगन के लिए, हमारी तरफ़ से उन्हें ढेर सारा प्यार.

Source : SW