जब भी साइबर क्राइम का नाम आता है तो साथ ही उस क्राइम का शिकार हुई महिलाओं की भी बात होती है. आये दिन ऐसी ख़बरें न्यूज़पेपर या न्यूज़चैनल्स की सुर्खियां बनती रहती हैं. लेकिन अगर ये कहा जाए कि साइबर क्राइम का शिकार केवल महिलायें ही नहीं होती हैं, बल्कि पुरुष भी इस क्राइम का शिकार बनते हैं, तो ये गलत नहीं होगा. ऐसा ही एक मामला गुजरात से सुनने में आ रहा है.

गुजरात में एक ऐसी घटना हुई जिसमें लड़की ने ब्रेकअप के बाद बॉयफ्रेंड से बदला लेने के लिए उसका फ़ेक फेसबुक प्रोफ़ाइल बनाया. उसके बाद उस प्रोफ़ाइल पर बॉयफ्रेंड की बहुत सारी आपत्तिजनक फ़ोटोज़ को पोस्ट कर दिया.

आपको बता दें कि इस लड़की का बॉयफ्रेंड के साथ कुछ दिनों पहले ही ब्रेकअप हुआ है. इसीलिए लड़के को शक़ है कि ब्रेकअप का बदला लेने के लिए ही उसकी एक्स-गर्लफ्रेंड ने उसका फ़ेक फेसबुक अकाउंट बनाया होगा और फिर इन फ़ोटोज़ को शेयर किया होगा.

गौरतलब है कि फ़िलहाल लड़के ने किसी भी तरह की कोई शिकायत पुलिस में नहीं की है, मगर उसने इस बारे में ठोस कदम उठाने के लिए और कार्रवाई करने के लिए फैमिली मेंबर्स के साथ अहमदाबाद की कुछ लीगल फर्म्स से संपर्क किया है.

इस पूरे मामले में हैरान करने वाली बात ये है कि इस लड़के को यह नहीं पता कि इस करतूत के पीछे किसका हाथ है, क्योंकि वो कई लड़कियों के साथ रिलेशन में रह चुका है. लड़के ने पोस्ट की गई फ़ोटोज़ के जरिये अंदाजा लगाते हुए कुछ लड़कियों के नाम बताये हैं, जिन पर उसको शक़ है.

Source: optimum7

बीते मंगलवार यानि 7 फरवरी को इंटरनेट सेफ्टी डे था, और इस अवसर पर गुजरात क्राइम ब्रांच द्वारा जागरुकता कैम्पेन आयोजित किया गया और इसी कैम्पेन में इस केस की चर्चा भी की गई. साथ ही ये भी बताया गया कि चाहे पुरुष हो या कोई महिला दोनों ही सुरक्षित नहीं हैं. वहां मौजूद अधिकारियों ने बताया कि साइबर टार्गेटिंग के 40 प्रतिशत मामले महिलाओं के ऑनलाइन उत्पीड़न से जुड़े होते हैं.

भले ही इस काम के लिए लोग लड़की की खुल कर तारीफ़ कर रहे हों, लेकिन मेरा मानना ये है कि अगर यही काम किसी लड़के ने किया होता, तो उसको भर-भर कर गालियां दे रहे होते लोग. पर अगर आप सच का साथ देते हैं, तो एक बात ध्यान रखिये कि अपराध तो अपराध ही होता है, फिर चाहे वो किसी लड़के ने किया हो या लड़की ने. तो सज़ा भी दोनों को ही मिलनी चाहिए.

Feature Image Source: envato (Representational Image)

Source: timesofindia