एक समय था जब ब्रिटिश राज का सूर्य कभी अस्त नहीं होता था. इसकी सबसे बड़ी वजह विश्व के सभी देशों को गुलाम बनाना था. दूसरे शब्दों में इसे उपनिवेश कहते थे. सन् 1800 में इंग्लैण्ड में औद्योगिक क्रांति की शुरुआत हुई. ऐसे में ब्रिटेन ने एशिया, अफ्रीका और ऑस्ट्रेलिया में उपनिवेशवाद की शुरुआत की. इन सब देशों के लिए एक बड़ी संख्या में मज़दूरों की ज़रूरत महसूस की गई. इस ज़रूरत को पूरी करने के लिए ब्रिटिश शासक अविभाजित हिन्दुस्तान से मेहनती, व ईमानदार मज़दूरों को ले जाते थे. बाद में इन्हीं मज़दूरों को 'गिरमिटिया मज़दूर' कहा जाने लगा.

Source: Bihar Times

विशेष नोट- इसे आप एक स्टोरी की तरह न पढ़ें, तो बेहतर है. दरअसल यह एक ऐसा दर्द है, जिसका घाव आज 180 सालों बाद भी नहीं भरा है.

Source: Twitter

वो वक़्त ऐसा था, जब ग़रीबी, लाचारी, बेरोजगारी और भुखमरी से त्रस्त हिन्दुस्तान की जनता एक सुकून की ज़िंदगी चाहती थी. उनके लिए सुकून का मतलब सिर्फ़ एक छत, दो वक़्त की रोटी और तन पर कपड़े से ही था. गुलाम देश में हालात इतने बदतर थे कि उस समय के हिन्दुस्तानियों को ये भी नसीब नहीं हो पाता था. ऐसे में चालाक अंग्रेज उन्हें एग्रीमेंट पर काम दिलवाने के बहाने अपने देश से दूर अनजान देशों में ले जाते थे. वो देश ऐसा होता था, जहां कोई अपना नहीं होता था. अपनों से दूर होने के ग़म में ये मज़दूर इतने टूट जाते थे कि कई दिनों तक इन्हें नींद नहीं आती थी. रोते थे, बिलखते थे और स्थिर हो जाते थे. एग्रीमेंट के चक्कर में ये घर भी वापस नहीं आ पाते थे. ये सिलसिला कई सालों तक चलता रहा. अंत में इन मज़दूरों को पराये देश को अपना बनाना पड़ा. इनका सब कुछ छूट चुका था, मगर अपनी संस्कृति को अपने दिलों में बसाए रखें. अब ये गिरमिटिया मज़दूर नहीं रहे, बल्कि मालिक हो गए हैं. वे अपना विकास तो करते ही हैं, भारत के विकास में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं. अब पूरी कहानी विस्तार से बताते हैं.

Source: ajitvadakayil

जब 'एग्रीमेंट' बना 'गिरमिटिया'

अंग्रेजों ने भारतीयों के सस्ते मजदूर होने का फायदा उठाया और अपने उपनिवेश वाले तमाम देशों में उन्हें काम करने के लिए ले गए. इन लोगों को 'एग्रीमेंट पर लाया गया मजदूर' कहा गया. एग्रीमेंट शब्द आगे चलकर 'गिरमिट' और फिर 'गिरमिटिया' शब्द में बदल गया.

Source: newsgram

इन देशों में करते थे मज़दूरी

ये लोग मॉरीशस, सूरीनाम, फिजी, सेशेल्स और वेस्टइंडीज में गए. आज इनमें से कई देशों के राष्ट्र प्रमुख तक भारतीय मूल के हैं.

फिजी था गिरमिटियों का पहला ठिकाना

महात्मा गांधी खुद को पहला गिरमिटिया कहते थे. हालांकि 18वीं सदी में भारत से पहले गिरमिटिया मजदूरों की खेप फिजी पहुंची थी. भारतीय मजदूरों को वहां गन्ने के खेतों में काम करने के लिए ले जाया गया था, ताकि इंग्लैण्ड की स्थानीय संस्कृति को बचाया जा सके और यूरोपीय मालिकों को फायदा भी पहुंचाया जा सके. आज फिजी की 9 लाख की आबादी में साढ़े तीन लाख से अधिक भारतीय मूल के लोग हैं. यहां तक कि फिजी की भाषा भी फिजियन हिंदी है.

Source: vintagemauritius

मेहनती होते हैं भारतीय

फिजी और दक्षिण अफ्रीका जैसे देश में स्थानीय लोगों को भारतीयों से केवल इसलिए चिढ़ है क्योंकि वे कड़ी मेहनत करते हैं. कारोबार और उद्यम के मामले में वे वहां के स्थानीय समुदाय पर भारी पड़ते हैं.

Source: ajitvadakayil

रीढ़ की हड्डी हैं

गिरमिटिया मज़दूरों तथा विदेशी नागरिकता ले चुके लोगों के अलावा देश के करीब 2.5 करोड़ लोग ऐसे हैं, जो अनिवासी भारतीयों के रूप में बाहर रह रहे हैं. वे न केवल उन देशों की अर्थव्यवस्था में अपना योगदान दे रहे हैं जहां वे रहते हैं, बल्कि वे भारत धन भेजकर अपने देश की अर्थव्यवस्था में भी मदद कर रहे हैं.

Source: fijipundit

आधुनिक गिरमिटिया मज़दूर

बहरहाल यह तो हुई गिरमिटिया मजदूरों की बात. अब बात करते हैं आधुनिक प्रवासियों की. फिर चाहे बात अमेरिका के आईटी सेक्टर की हो या सऊदी अरब के कंस्ट्रक्शन, दुबई के इंजीनियर्स या ब्रिटेन के कारोबारियों की, भारत के लोग हर जगह छाए हुए हैं.

Source: achhikhabre

विदेशियों से ज़्यादा कमाते हैं हिन्दुस्तानी

अमेरिका में 50 लाख भारतीय रहते हैं. एक औसत अमेरिकी जहां सालाना 50,000 डॉलर कमाता है, वहीं एक औसत भारतीय वहां 90,000 डॉलर कमाता है.

वहीं ब्रिटेन की बात करें तो वहां 19 लाख भारतीय रहते हैं. वहां गोरों के बाद सबसे अधिक संख्या में भारतीय नागरिक ही रहते हैं.

सऊदी अरब की इंजीनियरिंग और भवन निर्माण इंडस्ट्री भारतीयों के ही भरोसे चल रही है. वहां करीब 30 लाख भारतीय रहते हैं.

ये बात तो शत प्रतिशत सच है कि विषम परिस्थतियों में लोग गिरमिटिया मज़दूर बने. आज वे अपनी हालत को अपनी मेहनत से सुधार चुके हैं. कई देशों में राष्ट्रप्रमुख भी हिन्दुस्तानी मूल के ही हैं. इससे हम इन देशों के बहुत ही करीब हैं. अपना वतन छूटने के बावजूद भी गिरमिटिया मजदूरों ने ये साबित कर दिया कि हम वहां से चलना शुरू करते हैं, जहां आकर लोग थम जाते हैं. शायद आप भी मेरी इस बात से इत्तेफ़ाक़ रखते होंगे.