कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व राज्यसभा सांसद करण सिंह ने उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से ये आग्रह किया है कि राम की 221 मीटर ऊंची प्रतिमा के बगल में उनकी पत्नी सीता की मूर्ती भी लगे.

Source: Aaj Tak

पूर्व सांसद ने चिट्टी लिख कर अपनी बात मुख्यमंत्री के समक्ष रखी. योगी बुधवार को नेपाल में सीता माता के विवाह उत्सव में शिरकत करने गए थे. 87 वर्षीय कांग्रेस नेता का मानना है कि मुख्यमंत्री उनके के सुझाव पर ध्यान देंगे जिससे 'माता सीता को वो सम्मान मिल सके जो अयोध्या में सदियों से बाकी है'.

करण सिंह ने हिंदुत्व के ऊपर कई किताब लिखी हैं. उन्होंने चिट्ठी में लिखा, 'सीता जिन कठिन परिस्थितियों से गुज़री हैं, उन्हें याद करते हुए मुझे ये ख़्याल आया कि आप अयोध्या में भगवान राम की मूर्ती बनावाने ही वाले हैं, तो मेरा ये सुझाव है कि प्रस्तावित मूर्ती की ऊंचाई को आधी कर उसके बगल में एक और मूर्ती सीता की बनवाई जाए.'

पूर्व सांसद ने पत्र में रामायण की कई घटनाओं का ज़िक्र किया, 'विवाह के बाद सीता राम के साथ 14 साल के लिए वनवास पर निकल गईं, जहां उनका अपहण हुआ और लंका में क़ैदियों जैसे रहना पड़ा... युद्ध जीतने के बाद जब सीता वापस अपने राज्य पहुंची तो उन्हें 'अग्नी परीक्षा' देनी पड़ी.'

Source: TOI